झारखंड हाईकोट

झारखंड हाइकोर्ट ने राज्य विधानसभा बजट सत्र में भाग लेने की अनुमति मांगने वाली पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की याचिका पर फैसला सुरक्षित रखा
झारखंड हाइकोर्ट ने राज्य विधानसभा बजट सत्र में भाग लेने की अनुमति मांगने वाली पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की याचिका पर फैसला सुरक्षित रखा

झारखंड हाइकोर्ट ने आज राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन द्वारा 23 फरवरी से शुरू होने वाले विधानसभा के बजट सत्र में भाग लेने की अनुमति मांगने वाली याचिका पर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया।गौरतलब है कि सोरेन को प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने कथित भूमि घोटाला मामले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में 31 जनवरी को गिरफ्तार किया था।जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद की पीठ ने सीनियर वकील कपिल सिब्बल (सोरेन की ओर से पेश) और एडीशनल वकील भारत के सॉलिसिटर जनरल एसवी राजू [प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के लिए] को विस्तार से...

धारा 148 के तहत जारी फिर से खोलने का नोटिस 149 के तहत निर्धारित सीमा अवधि के अनुसार रद्द किया जाएगा: झारखंड हाईकोर्ट
धारा 148 के तहत जारी फिर से खोलने का नोटिस 149 के तहत निर्धारित सीमा अवधि के अनुसार रद्द किया जाएगा: झारखंड हाईकोर्ट

यह पाते हुए कि धारा 148 के तहत जारी नोटिस आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 149 के तहत निर्धारित सीमा अवधि से वर्जित है, झारखंड हाईकोर्ट (रांची बेंच) ने फैसला सुनाया कि पुनर्मूल्यांकन कार्यवाही की शुरुआत पूरी तरह से अधिकार क्षेत्र के बिना है। जस्टिस रोंगोन मुखोपाध्याय और जस्टिस दीपक रोशन की खंडपीठ ने कहा कि निर्धारण वर्ष 2016-17 की तीन साल की समयावधि 31 मार्च 2020 को समाप्त हो गई थी। तदनुसार, आक्षेपित नोटिस, दिनांक 21.07.2022, 3 वर्ष की समयावधि से अधिक है। इसके अलावा, उक्त नोटिस 39,21,450/- रुपये की...

जमानत हासिल करने के लिए आरोपी से शिकायतकर्ता को कथित तौर पर धोखाधड़ी की गई राशि का भुगतान करने के लिए कहना उचित नहीं: झारखंड हाइकोर्ट
जमानत हासिल करने के लिए आरोपी से शिकायतकर्ता को कथित तौर पर धोखाधड़ी की गई राशि का भुगतान करने के लिए कहना उचित नहीं: झारखंड हाइकोर्ट

झारखंड हाइकोर्ट ने हाल ही में आरोपी पर शिकायतकर्ता को धोखाधड़ी की कथित 12 लाख रुपये की राशि का भुगतान करने के लिए लगाई गई जमानत शर्त रद्द कर दी।जस्टिस संजय कुमार द्विवेदी ने कहा कि जमानत के लिए पैसे के भुगतान की शर्त शामिल करने से यह धारणा बनती है कि धोखाधड़ी के कथित पैसे जमा करके जमानत हासिल की जा सकती।पीठ ने कहा,''वास्तव में जमानत देने के प्रावधानों का उद्देश्य और मंशा यह नहीं है।''याचिकाकर्ताओं के वकील ने तर्क दिया कि विवाह को संपन्न कराने को लेकर विवाद पैदा हुआ आरोप है कि इस उद्देश्य के लिए...

जन प्रतिनिधि वैध सार्वजनिक मुद्दे उठाने का हकदार: झारखंड हाइकोर्ट ने 2009 के प्रदर्शनों के लिए भाजपा सांसद निशिकांत दुबे को बरी किया
जन प्रतिनिधि वैध सार्वजनिक मुद्दे उठाने का हकदार: झारखंड हाइकोर्ट ने 2009 के प्रदर्शनों के लिए भाजपा सांसद निशिकांत दुबे को बरी किया

झारखंड हाईकोर्ट ने कहा कि जन प्रतिनिधि शांतिपूर्ण प्रदर्शनों में वैध सार्वजनिक मुद्दा उठाने का हकदार है। इसके साथ ही हाइकोर्ट ने 9 फरवरी को संसद सदस्य (सांसद) निशिकांत दुबे को 2009 के विरोध प्रदर्शन से जुड़े आपराधिक मामले से मुक्त कर दिया।भारतीय जनता पार्टी (BJP) के सदस्य दुबे झारखंड में गोड्डा निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं।जस्टिस संजय कुमार द्विवेदी ने कहा,''जनप्रतिनिधि वैध सार्वजनिक मुद्दा उठाने का हकदार है। इसके लिए हर जगह शांतिपूर्ण प्रदर्शन चल रहा है। याचिकाकर्ता हिंसा के किसी...

अवैध खनन मामला: झारखंड हाईकोर्ट ने हेमंत सोरेन के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा की जमानत याचिका खारिज की
अवैध खनन मामला: झारखंड हाईकोर्ट ने हेमंत सोरेन के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा की जमानत याचिका खारिज की

झारखंड हाईकोर्ट ने राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा की जमानत याचिका खारिज की।जस्टिस गौतम कुमार चौधरी ने कहा,“तत्कालीन मुख्यमंत्री का राजनीतिक प्रतिनिधि होने के नाते याचिकाकर्ता को राजनीतिक और प्रशासनिक संबंध प्राप्त हैं। मामले में बड़े पैमाने पर की जा रही अवैध खनन गतिविधि से उत्पन्न होने वाला अपराध शामिल है और याचिकाकर्ता किंग पिन प्रतीत होता है। अवैध खनन गतिविधि में उत्पन्न अपराध की कार्यवाही को वैध बनाने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका का सुझाव देने के लिए...

झारखंड हाईकोर्ट ने ED की गिरफ्तारी को चुनौती देने वाली हेमंत सोरेन की याचिका पर औपचारिक नोटिस जारी किया
झारखंड हाईकोर्ट ने ED की गिरफ्तारी को चुनौती देने वाली हेमंत सोरेन की याचिका पर औपचारिक नोटिस जारी किया

झारखंड हाईकोर्ट ने पूर्व सीएम हेमंत सोरेन द्वारा दायर संशोधन आवेदन को अनुमति दे दी, जिसमें कथित भूमि घोटाले में धन-शोधन निवारण अधिनियम, 2002 की धारा 19 के तहत प्रवर्तन निदेशालय द्वारा उनके खिलाफ इस्तेमाल की गई गिरफ्तारी की शक्ति पर सवाल उठाया गया था।एक्टिंग चीफ जस्टिस चन्द्रशेखर और जस्टिस राजेश कुमार की खंडपीठ ने ऐसा करते हुए केंद्रीय एजेंसी को 2 सप्ताह के भीतर मामले में व्यापक जवाब दाखिल करने का आदेश दिया और मामले को 27 फरवरी को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया।ED ने संशोधन आवेदन का विरोध करते हुए...

उस व्यक्ति को प्रभार सूचित करना जरूरी, जिसके खिलाफ आयकर कार्यवाही शुरू की गई: झारखंड हाईकोर्ट
उस व्यक्ति को प्रभार सूचित करना जरूरी, जिसके खिलाफ आयकर कार्यवाही शुरू की गई: झारखंड हाईकोर्ट

झारखंड हाईकोर्ट ने माना है कि कारण बताओ नोटिस से नोटिस प्राप्तकर्ता को नोटिस में इंगित प्रस्तावित आरोपों के खिलाफ आपत्ति करने का उचित अवसर मिलना चाहिए, और जिस व्यक्ति के खिलाफ कार्यवाही की गई है, उसे उसके खिलाफ आरोप बताए जाने चाहिए ताकि वह अपना बचाव कर सके और अपनी बेगुनाही साबित कर सके। जस्टिस रोंगोन मुखोपाध्याय जस्टिस दीपक रोशन की खंडपीठ ने कहा है कि कार्यवाही के पूरे पाठ्यक्रम में, किसी भी स्तर पर याचिकाकर्ता को कानून के उन प्रावधानों से अवगत नहीं कराया गया है जिनका उल्लंघन किया गया है...

झारखंड हाइकोर्ट ने भूमि आवंटन विवाद मामले में फिल्म निर्माता प्रकाश झा के खिलाफ आपराधिक कार्यवाही रद्द की
झारखंड हाइकोर्ट ने भूमि आवंटन विवाद मामले में फिल्म निर्माता प्रकाश झा के खिलाफ आपराधिक कार्यवाही रद्द की

झारखंड हाइकोर्ट ने भूमि आवंटन विवाद के संबंध में फिल्म निर्माता प्रकाश झा और अन्य आरोपियों के खिलाफ सभी आपराधिक कार्यवाही रद्द कर दी।जस्टिस संजय द्विवेदी ने कहा,“आईपीसी की धारा 415 धोखाधड़ी की परिभाषा है। उक्त परिभाषा के आलोक में किसी व्यक्ति को धोखाधड़ी का दोषी ठहराने के लिए यह दिखाना आवश्यक है कि वादा करते समय उसका इरादा कपटपूर्ण और बेईमानी का था। प्रश्नगत ड्राफ्टों को न भुनाने के परिणाम से पता चलता है कि शुरू से ही इरादा ऐसा नहीं था, जो आईपीसी की धारा 415 के तहत धोखाधड़ी के संबंध में अन्य...

झारखंड हाईकोर्ट ED की गिरफ्तारी को चुनौती देने वाली हेमंत सोरेन की याचिका पर 12 फरवरी को सुनवाई करेगा
झारखंड हाईकोर्ट ED की गिरफ्तारी को चुनौती देने वाली हेमंत सोरेन की याचिका पर 12 फरवरी को सुनवाई करेगा

झारखंड हाईकोर्ट ने भूमि घोटाले में कथित संलिप्तता के लिए प्रवर्तन निदेशालय (ED) द्वारा उनकी गिरफ्तारी को चुनौती देने वाली झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की याचिका पर सुनवाई 12 फरवरी तक के लिए स्थगित की।एक्टिंग चीफ जस्टिस चन्द्रशेखर और जस्टिस राजेश कुमार की खंडपीठ ने ऐसा करते हुए सोरेन को याचिका वापस लेने की मांग करने वाला अपना आवेदन वापस लेने की अनुमति दी और ED को 9 फरवरी तक हेमंत की याचिका में संशोधन के लिए दायर आवेदन पर अपना जवाब दाखिल करने को कहा।खंडपीठ ने आदेश दिया,"माननीय सुप्रीम...

हाईकोर्ट ने अधिकारियों की कानून-व्यवस्था संबंधी चिंताओं को किया खारिज, बागेश्वर धाम को हनुमंत कथा कार्यक्रम आयोजित करने की अनुमति दी
हाईकोर्ट ने अधिकारियों की कानून-व्यवस्था संबंधी चिंताओं को किया खारिज, बागेश्वर धाम को "हनुमंत कथा" कार्यक्रम आयोजित करने की अनुमति दी

झारखंड हाईकोर्ट ने हनुमंत कथा आयोजन समिति (समिति) को "हनुमंत कथा" कार्यक्रम आयोजित करने की अनुमति दे दी है। हालांकि राज्य के अधिकारियों ने शुरू में मंजूरी देने से इनकार किया था।कोर्ट ने समिति को अनुमति देते हुए कहा,"इसमें कोई संदेह नहीं है कि उत्तरदाता प्रतिबंध लगा सकते हैं, लेकिन ऐसे प्रतिबंधों का आधार संविधान के अनुच्छेद 19(3) में उल्लिखित आधार के अनुरूप होना चाहिए।"समिति ने रिट याचिका दायर कर मेदिनीनगर, जिला-पलामू में 10.02.2024 से 15.02.2024 तक "हनुमंत कथा" के आयोजन के लिए सहमति और अनुमति...

ED की गिरफ्तारी के खिलाफ हेमंत सोरेन की याचिका पर 5 फरवरी को सुनवाई करेगा झारखंड हाईकोर्ट
ED की गिरफ्तारी के खिलाफ हेमंत सोरेन की याचिका पर 5 फरवरी को सुनवाई करेगा झारखंड हाईकोर्ट

झारखंड हाईकोर्ट ने प्रवर्तन निदेशालय (ED) द्वारा उनकी गिरफ्तारी को चुनौती देने वाली झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई 5 फरवरी को निर्धारित की है।अदालत ने शुरुआत में मामले को 2 फरवरी के लिए निर्धारित किया था।हालांकि, उसी दिन सुनवाई के दौरान, सोरेन के वकील ने रिट याचिका वापस लेने का अनुरोध किया था, क्योंकि सोरेन ने उक्त गिरफ्तारी के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का रुख किया था। सुप्रीम कोर्ट ने हेमंत की याचिका पर सुनवाई करते हुए उन्हें वापस हाईकोर्ट जाने के लिए कहा था।

झारखंड हाईकोर्ट ने ED की गिरफ्तारी के खिलाफ हेमंत सोरेन की याचिका पर सुनवाई स्थगित की
झारखंड हाईकोर्ट ने ED की गिरफ्तारी के खिलाफ हेमंत सोरेन की याचिका पर सुनवाई स्थगित की

झारखंड हाईकोर्ट ने गुरुवार (1 फरवरी) को झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन द्वारा प्रवर्तन निदेशालय (ED) द्वारा उनकी गिरफ्तारी को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई कल यानी शुक्रवार के लिए स्थगित की।एक्टिंग चीफ जस्टिस चन्द्रशेखर और जस्टिस अनुभा रावत चौधरी की खंडपीठ ने सोरेन की याचिका पर आज सुबह 10:30 बजे सुनवाई शुरू की।सुनवाई के दौरान, सोरेन के वकील ने हाल के घटनाक्रमों का हवाला देते हुए, जिन्हें रिकॉर्ड पर लाने की जरूरत है, अदालत से मामले को दोपहर 12 बजे सूचीबद्ध करने का अनुरोध किया।...

रेलवे क्लेम ट्रिब्यूनल द्वारा दुर्घटना की तिथि से विलंब माफी तक मुआवजे पर ब्याज रोकना अनुचित: झारखंड हाइकोर्ट
रेलवे क्लेम ट्रिब्यूनल द्वारा दुर्घटना की तिथि से विलंब माफी तक मुआवजे पर ब्याज रोकना अनुचित: झारखंड हाइकोर्ट

झारखंड हाइकोर्ट ने हाल ही में पाया कि रेलवे क्लेम ट्रिब्यूनल ने दुर्घटना की तारीख और उस तारीख के बीच की अवधि के लिए शोक संतप्त परिवार को देय मुआवजे पर ब्याज को रोककर गलती की, जिस दिन ट्रिब्यूनल के समक्ष दावा करने में देरी के लिए आवेदन की अनुमति दी गई।जस्टिस प्रदीप कुमार श्रीवास्तव ने कहा,''ट्रिब्यूनल ने नियमों के अनुसार मुआवजे की अधिकतम राशि दी। लेकिन दुर्घटना की तारीख से देरी की माफी की तारीख तक ब्याज रोकना कानून के तहत उचित नहीं है। इसलिए अपीलकर्ताओं को दुर्घटना की तारीख यानी 25/26-02-2018 से...

बूढ़े पिता का भरण-पोषण करना बेटे का कर्तव्य: झारखंड हाईकोर्ट ने फैमिली कोर्ट का भरण-पोषण आदेश बरकरार रखा
'बूढ़े पिता का भरण-पोषण करना बेटे का कर्तव्य': झारखंड हाईकोर्ट ने फैमिली कोर्ट का भरण-पोषण आदेश बरकरार रखा

झारखंड हाईकोर्ट ने हाल ही में फैमिली कोर्ट का आदेश बरकरार रखा। उक्त आदेस में एक व्यक्ति के छोटे बेटे को 3000 रुपये का मासिक गुजारा भत्ता देने का निर्देश दिया गया था।जस्टिस सुभाष चंद ने कहा,“हालांकि दोनों पक्षों द्वारा पेश किए गए सबूतों से यह पता चला है कि पिता के पास कुछ कृषि भूमि है, फिर भी वह उस पर खेती करने में सक्षम नहीं हैं। वह अपने बड़े बेटे पर भी निर्भर है, जिसके साथ वह रहता है। पिता ने पूरी संपत्ति में अपने छोटे बेटे मनोज साव को बराबर-बराबर हिस्सा दिया है, लेकिन 15 साल से अधिक समय से...

प्रतिवादी पक्ष साक्ष्य के अभाव में एमएसीटी मासिक आय के संबंध में दावेदार की गवाही पर अविश्वास नहीं कर सकता: झारखंड हाइकोर्ट
प्रतिवादी पक्ष साक्ष्य के अभाव में एमएसीटी मासिक आय के संबंध में दावेदार की गवाही पर अविश्वास नहीं कर सकता: झारखंड हाइकोर्ट

झारखंड हाइकोर्ट ने कहा है कि एक मोटर दुर्घटना दावा न्यायाधिकरण किसी दावेदार की आय के संबंध में दी गई शपथपूर्ण गवाही को तब तक खारिज करने का हकदार नहीं है, जब तक कि प्रतिवादी द्वारा प्रस्तुत किए गए सबूत न हों।जस्टिस प्रदीप कुमार श्रीवास्तव ने कहा,''ऐसा प्रतीत होता है कि न्यायाधिकरण दावेदार की आय का निर्णय करते समय दावेदार की शपथ पर दिए गए साक्ष्यों पर ध्यान देने में विफल रहा और मासिक आय के संबंध में कोई संदेह पैदा करने के लिए प्रतिवादी की ओर से कोई खंडन साक्ष्य नहीं है। न्यायाधिकरण ने अपनी मर्जी...

पड़ोसी राज्यों से सीटीईटी और टीईटी परीक्षा पास करने वाले निवासियों को झारखंड में शिक्षक नियुक्ति प्रक्रिया के लिए आवेदन करने की अनुमति है: झारखंड हाइकोर्ट
पड़ोसी राज्यों से सीटीईटी और टीईटी परीक्षा पास करने वाले निवासियों को झारखंड में शिक्षक नियुक्ति प्रक्रिया के लिए आवेदन करने की अनुमति है: झारखंड हाइकोर्ट

एक महत्वपूर्ण फैसले में, झारखंड हाइकोर्ट ने पड़ोसी राज्यों से केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (सीटीईटी) और शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) सफलतापूर्वक पास करने वाले झारखंड के निवासियों को झारखंड में सहायक शिक्षक पदों के लिए भर्ती परीक्षा में भाग लेने की अनुमति दे दी है। अदालत ने यह निर्देश यह देखते हुए दिया कि झारखंड में कई वर्षों से सीटीईटी या टीईटी परीक्षा आयोजित नहीं हुई है, और राज्य को हर साल ऐसी परीक्षा आयोजित करने का निर्देश दिया।चीफ जस्टिस संजय कुमार मिश्रा और जस्टिस आनंद सेन की खंडपीठ ने...

कर्मचारी के लिए अतिरिक्त प्रीमियम वसूलने वाला बीमाकर्ता किराए के ड्राइवर की मौत के लिए लापरवाही का हवाला देकर मुआवजा देने के दायित्व से नहीं कर सकता इनकार: झारखंड हाइकोर्ट
कर्मचारी के लिए अतिरिक्त प्रीमियम वसूलने वाला बीमाकर्ता किराए के ड्राइवर की मौत के लिए लापरवाही का हवाला देकर मुआवजा देने के दायित्व से नहीं कर सकता इनकार: झारखंड हाइकोर्ट

झारखंड हाइकोर्ट ने एक महत्वपूर्ण आदेश में माना कि बीमा एजेंसी मोटर वाहन दुर्घटना दावे के लिए किराए के ड्राइवर की मृत्यु की स्थिति में मुआवजा देने के लिए उत्तरदायी है, भले ही दुर्घटना चालक की लापरवाही के कारण हुई हो। यह दायित्व तब उत्पन्न होता है, जब बीमाकर्ता वाहन मालिक की क्षतिपूर्ति को कवर करने के लिए अतिरिक्त प्रीमियम स्वीकार कर लेता है।जस्टिस प्रदीप कुमार श्रीवास्तव ने कहा,''उपरोक्त चर्चा और कारणों के मद्देनजर, मेरी राय है कि बीमा कंपनी मोटर वाहन दुर्घटना दावे के लिए किराए के ड्राइवर की...