राज�थान हाईकोट

वैकल्पिक उपाय उपलब्ध कोई असाधारण परिस्थिति नहीं बनी: राजस्थान हाइकोर्ट ने नाबालिग बेटे की कस्टडी के लिए हेबियस कॉर्पस याचिका खारिज की
वैकल्पिक उपाय उपलब्ध कोई असाधारण परिस्थिति नहीं बनी: राजस्थान हाइकोर्ट ने नाबालिग बेटे की कस्टडी के लिए हेबियस कॉर्पस याचिका खारिज की

राजस्थान हाइकोर्ट ने हाल ही में स्पष्ट किया कि बच्चों की कस्टडी के विवादों में हेबियस कॉर्पस याचिकाएं आमतौर पर सुनवाई योग्य नहीं होतीं, जब कानून के तहत वैकल्पिक उपाय उपलब्ध हो और कस्टडी विवाद काफी लंबे समय से चल रहा हो।जोधपुर में बैठी पीठ ने फैसला सुनाते हुए कहा,“आम तौर पर किसी बच्चे की कस्टडी के दावे के संबंध में क़ानून के तहत प्रभावी उपाय प्रदान किए जाते हैं, जिसमें विस्तृत जांच की जानी होती है और विशेष रूप से बच्चे के कल्याण को ध्यान में रखते हुए अंतिम निष्कर्ष पर पहुंचा जाता है। नाबालिग...

वकीलों को संयम बरतने की जरूरत, न्यायिक आदेशों को चुनौती देते समय न्यायिक अधिकारियों पर आक्षेप नहीं लगाना चाहिए: राजस्थान हाईकोर्ट
वकीलों को संयम बरतने की जरूरत, न्यायिक आदेशों को चुनौती देते समय न्यायिक अधिकारियों पर आक्षेप नहीं लगाना चाहिए: राजस्थान हाईकोर्ट

न्यायिक आदेशों को चुनौती दिए जाने पर न्यायिक अधिकारियों पर आक्षेप लगाने की प्रथा की निंदा करते हुए, राजस्थान हाईकोर्ट ने सभी वकीलों से आग्रह किया है कि वे संयम बनाए रखें और याचिका में पीठासीन अधिकारी के खिलाफ आरोप न लगाएं। जस्टिस नूपुर भाटी की सिंगल जज बेंच ने कहा कि भले ही चीफ़ जस्टिस के समक्ष पीठासीन अधिकारी के खिलाफ कोई शिकायत हो, लेकिन बार या व्यक्तिगत वकीलों के अधिकार न्यायिक पक्ष की दलील देने का आधार नहीं बन सकते। अदालत ने कहा कि वकीलों को अनुकूल आदेश प्राप्त करने के लिए मामले के...

राजस्थान एचजेएस मूल्यांकन प्रक्रिया को चुनौती, हाइकोर्ट ने विशेषज्ञ समिति को कॉपियों का पुनर्मूल्यांकन कर रिपोर्ट सौंपने का आदेश दिया
राजस्थान एचजेएस मूल्यांकन प्रक्रिया को चुनौती, हाइकोर्ट ने विशेषज्ञ समिति को कॉपियों का पुनर्मूल्यांकन कर रिपोर्ट सौंपने का आदेश दिया

जिला न्यायाधीश के कैडर में सीधी भर्ती के लिए मुख्य परीक्षा में अपनाई गई मूल्यांकन की प्रक्रिया पर विवाद के जवाब में राजस्थान हाइकोर्ट ने उत्तर पुस्तिकाओं के पुनर्मूल्यांकन के लिए प्रतिष्ठित न्यायविदों/प्रोफेसरों की एक विशेषज्ञ समिति के गठन का प्रस्ताव दिया।जस्टिस पंकज भंडारी और जस्टिस भुवन गोयल की खंडपीठ ने उक्त समिति के गठन के लिए हाइकोर्ट के एग्जाम रूम को निर्देश देना उचित समझा। मुख्य परीक्षा में उपस्थित 85 उम्मीदवारों में से केवल 4 उम्मीदवार इंटरव्यू के लिए अर्हता प्राप्त कर पाए, जो कथित तौर...

राजस्थान हाईकोर्ट ने आवारा सांड के हमले से हुई मौत पर मुआवजा बरकरार रखा, सड़कों पर घूम रहे जानवरों के लिए बीकानेर नगर निगम को फटकार लगाई
राजस्थान हाईकोर्ट ने आवारा सांड के हमले से हुई मौत पर मुआवजा बरकरार रखा, "सड़कों पर घूम रहे जानवरों" के लिए बीकानेर नगर निगम को फटकार लगाई

स्थाई लोक अदालत द्वारा आवारा सांड से मौत पर 3 लाख रुपये जुर्माने का मुआवजा देने की पुष्टि करते हुए राजस्थान हाईकोर्ट ने आवारा सांडों की मौत की जिम्मेदारी बीकानेर नगर निगम को फटकार लगाई।जस्टिस विनीत कुमार मधुर की एकल-न्यायाधीश पीठ ने कहा कि कानूनी सेवा प्राधिकरण अधिनियम, 1987 की धारा 22-ए इस बात पर विचार करती है कि 'सार्वजनिक उपयोगिता सेवा' में 'सार्वजनिक संरक्षण या स्वच्छता की प्रणाली' शामिल है। इस परिभाषा पर भरोसा करते हुए जोधपुर की पीठ ने कहा कि लोक अदालत ने मृतक के पति और बच्चों को मुआवजे के...

Sec. 321 सीआरपीसी | लोक अभियोजक राज्य का डाकिया नहीं, केवल कार्यपालिका के कहने पर अभियोजन वापस नहीं लिया जा सकता: राजस्थान हाईकोर्ट
Sec. 321 सीआरपीसी | लोक अभियोजक राज्य का डाकिया नहीं, केवल कार्यपालिका के कहने पर अभियोजन वापस नहीं लिया जा सकता: राजस्थान हाईकोर्ट

हाल के एक फैसले में, राजस्थान हाईकोर्ट ने कई टिप्पणियां की हैं कि सीआरपीसी की धारा 321 के तहत अभियोजन वापस लेने के लिए आवेदन कब किया जा सकता है। कोर्ट ने ऐसे मामलों में कानून की प्रक्रिया के दुरुपयोग को रोकने के लिए सरकारी वकील के कर्तव्य पर भी गहराई से विचार किया है। जस्टिस फरजंद अली की सिंगल जज बेंच ने यह भी कहा कि सीआरपीसी की धारा 321 एक लोक अभियोजक के विवेक और अभियोजन से वापसी में अदालत के एक अधिकारी के रूप में उसकी भूमिका को अत्यधिक महत्व प्रदान करती है। "यह अपेक्षा की जाती है कि वह एक...

राजस्थान हाइकोर्ट ने रजिस्ट्रार के समक्ष आर्डर श्रेणी में निर्विरोध मामलों को सूचीबद्ध करने के लिए मसौदा SOP तैयार करने के लिए समिति का गठन किया
राजस्थान हाइकोर्ट ने रजिस्ट्रार के समक्ष आर्डर श्रेणी में निर्विरोध मामलों को सूचीबद्ध करने के लिए मसौदा SOP तैयार करने के लिए समिति का गठन किया

राजस्थान हाइकोर्ट ने अदालत के समक्ष आर्डर श्रेणी में गैर-विवादित मामलों को अनावश्यक रूप से सूचीबद्ध करने से पैदा हुए बोझ को हल करने के लिए अपनी सिफारिशें देने के लिए एडवोकेट जनरल की अध्यक्षता में पांच सदस्यीय समिति का गठन किया।जस्टिस समीर जैन की एकल न्यायाधीश पीठ 12- 12- 2024 को आर/एन के लिए पोस्ट की गई सिविल रिट याचिका पर विचार कर रही थी। हालांकि, याचिकाकर्ता के वकील द्वारा पीएफ और अपेक्षित नोटिस दाखिल नहीं करने के कारण मामला आर्डर' श्रेणी में लिया गया।जयपुर में बैठी पीठ ने आदेश में...

डीम्ड यूनिवर्सिटीज को यूजीसी नियमों के तहत ऑफ-कैंपस निजी फ्रेंचाइजी के माध्यम से दूरस्थ कार्यक्रमों की पेशकश करने से रोका गया: राजस्थान हाईकोर्ट
'डीम्ड यूनिवर्सिटीज' को यूजीसी नियमों के तहत ऑफ-कैंपस निजी फ्रेंचाइजी के माध्यम से दूरस्थ कार्यक्रमों की पेशकश करने से रोका गया: राजस्थान हाईकोर्ट

राजस्थान हाईकोर्ट ने एक ऐतिहासिक निर्णय में यूजीसी और दूरस्थ शिक्षा परामर्शदाता (डीईसी) द्वारा जारी कुछ नोटिस/परिपत्रों और दिशानिर्देशों की प्रयोज्यता को दोहराया है, जो डीम्ड टू बी बी विश्वविद्यालयों को ऑफ-कैंपस केंद्र स्थापित करने और दूरस्थ मोड के माध्यम से शिक्षा प्रदान करने से रोकते हैं। जस्टिस अरुण मोंगा की एकल पीठ इंस्टीट्यूट ऑफ एडवांस्ड स्टडीज इन एजुकेशन (आईएएसई) और जनार्दन राय नगर राजस्थान विद्यापीठ (जेआरएन) द्वारा दायर याचिकाओं के एक बैच पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें दूरस्थ मोड के माध्यम...

JJ Act की धारा 24 | किशोर अपराध रिकॉर्ड नष्ट कर भूलने का अधिकार संपूर्ण अधिकार, राज्य को ऐसी जानकारी लेने से रोका जाता है
JJ Act की धारा 24 | किशोर अपराध रिकॉर्ड नष्ट कर भूलने का अधिकार संपूर्ण अधिकार, राज्य को ऐसी जानकारी लेने से रोका जाता है

राजस्थान हाईकोर्ट ने माना है कि यदि किशोरों को किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल और संरक्षण) अधिनियम, 2015 की धारा 24 का लाभ दिया गया है तो किशोर अपराध रिकॉर्ड को नष्ट करके 'भूल जाने का अधिकार' एक पूर्ण अधिकार है।एकल-न्यायाधीश पीठ जस्टिस डॉ पुष्पेंद्र सिंह भाटी ने किशोर अपराध के कारण सार्वजनिक रोजगार रद्द करने के खिलाफ एक याचिका पर फैसला सुनाते हुए, राज्य को भविष्य में व्यक्तियों से किशोर के रूप में उनके पिछले आपराधिक इतिहास के बारे में जानकारी मांगने से भी रोक दिया, जहां भी धारा 24 लागू की गई...

धोखाधड़ी या छुपाकर प्राप्त पट्टे कोई अधिकार, समय-सीमा प्रदान नहीं करते, ऐसे भूमि आवंटन रद्द करने में कोई बाधा नहीं: राजस्थान हाइकोर्ट
धोखाधड़ी या छुपाकर प्राप्त पट्टे कोई अधिकार, समय-सीमा प्रदान नहीं करते, ऐसे भूमि आवंटन रद्द करने में कोई बाधा नहीं: राजस्थान हाइकोर्ट

राजस्थान हाइकोर्ट ने हाल ही में दोहराया कि यदि कोई पट्टा धोखाधड़ी या छिपाकर प्राप्त किया गया है तो ऐसे आवंटन रद्द करने में कोई बाधा नहीं।जस्टिस अनूप कुमार ढांड की एकल न्यायाधीश पीठ ने माना कि याचिकाकर्ता के पिता के पक्ष में किए गए आवंटन से कोई अधिकार या स्वामित्व नहीं मिला, क्योंकि अधिकारियों को पता चला कि तथ्यों की गलत बयानी के कारण ऐसा आवंटन अवैध है।मौजूदा मामले में याचिकाकर्ता के पिता और इसी तरह के अन्य व्यक्तियों के मामले में बेरी आयोग द्वारा की गई सिफारिशों के आधार पर आवंटन रद्द किया गया।...

[Army Act and Rules] भले ही कोर्ट-मार्शल कार्यवाही के दौरान आरोपों की पुष्टि नहीं की जाती, दोषी अधिकारियों के खिलाफ स्वतंत्र रूप से कार्यवाही की जा सकती है: राजस्थान हाइकोर्ट
[Army Act and Rules] भले ही कोर्ट-मार्शल कार्यवाही के दौरान आरोपों की पुष्टि नहीं की जाती, दोषी अधिकारियों के खिलाफ स्वतंत्र रूप से कार्यवाही की जा सकती है: राजस्थान हाइकोर्ट

राजस्थान हाइकोर्ट ने हाल ही में माना कि यदि जनरल कोर्ट-मार्शल (जीसीएम) कार्यवाही के बाद पुष्टिकरण प्राधिकारी द्वारा किसी निश्चित आरोप पर निष्कर्ष की पुष्टि नहीं की जाती है तो सेनाध्यक्ष और अन्य अधिकारियों को गलती करने वाले कर्मियों के खिलाफ स्वतंत्र रूप से सेवा समाप्ति के लिए आगे बढ़ने की शक्ति प्राप्त है। डॉ. जस्टिस पुष्पेंद्र सिंह भाटी की एकल न्यायाधीश पीठ ने फैसले में कहा,“यह न्यायालय यह भी मानता है कि केवल दूसरे आरोप पर निष्कर्ष और सजा की पुष्टि की गई, जो अंतिम रूप से प्राप्त हुई। लेकिन पहले...

नागरिकों की शिकायतों का पहला जवाब देने वाले राज्य को कर्मचारी अभ्यावेदन में बोलने का आदेश पारित करना चाहिए: राजस्थान हाईकोर्ट
नागरिकों की शिकायतों का 'पहला जवाब' देने वाले राज्य को कर्मचारी अभ्यावेदन में बोलने का आदेश पारित करना चाहिए: राजस्थान हाईकोर्ट

राजस्थान हाईकोर्ट ने हाल ही में राज्य को पहले से ही बोझिल अदालतों के समक्ष अवांछित मुकदमेबाजी को कम करने में अपनी भूमिका के बारे में याद दिलाया। हाईकोर्ट ने राज्य के उपकरणों को भी पीड़ित कर्मचारियों द्वारा पसंद किए गए अभ्यावेदनों पर उचित विचार करने के बाद बोलने के आदेश पारित करने का आह्वान किया। कोर्ट ने कहा कि "पीड़ित कर्मचारियों द्वारा की गई शिकायत को परिश्रमपूर्वक संबोधित करके और पहले उत्तरदाताओं के रूप में कार्य करके, राज्य बहुत अच्छी तरह से खुद पर एक एहसान कर सकता है और मुकदमेबाजी को काफी...

सिविल सेवा अपीलीय ट्रिब्यूनल राजस्थान वित्तीय निगम के संविदा कर्मचारी के सेवा मामले से उत्पन्न अपील पर विचार नहीं कर सकता: हाइकोर्ट
सिविल सेवा अपीलीय ट्रिब्यूनल राजस्थान वित्तीय निगम के संविदा कर्मचारी के सेवा मामले से उत्पन्न अपील पर विचार नहीं कर सकता: हाइकोर्ट

राजस्थान हाइकोर्ट की खंडपीठ ने एकल न्यायाधीश पीठ द्वारा पारित आदेश रद्द कर दिया। उक्त आदेश में राजस्थान वित्तीय निगम के संविदा कर्मचारी द्वारा ट्रांसफर आदेश को चुनौती देने वाली रिट याचिका यह कहते हुए खारिज कर दी गई थी कि उसके पास राजस्थान सिविल सेवा अपीलीय ट्रिब्यूनल के समक्ष आक्षेपित ट्रांसफर आदेश को चुनौती देने का वैकल्पिक उपाय है। एक्टिंग चीफ जस्टिस मनिन्द्र मोहन श्रीवास्तव और जस्टिस शुभा मेहता की खंडपीठ ने पाया कि राजस्थान सिविल सेवा अपीलीय ट्रिब्यूनल के पास राजस्थान वित्तीय निगम के किसी...

प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव | असली उत्सव तब होगा जब समाज भगवान राम के आदर्शों का सम्मान करे और उनका अनुसरण करे: राजस्थान हाईकोर्ट
प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव | असली उत्सव तब होगा जब समाज भगवान राम के आदर्शों का सम्मान करे और उनका अनुसरण करे: राजस्थान हाईकोर्ट

राजस्थान हाईकोर्ट ने सोमवार को "प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव" के अवसर पर सड़क की रुकावट और बैरिकेड्स लगाने के संबंध में स्वत: संज्ञान जनहित याचिका दर्ज की।जस्टिस दिनेश मेहता की एकल न्यायाधीश पीठ ने जिला कलेक्टर और पुलिस आयुक्त को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया कि भविष्य में सड़कों, विशेष रूप से हाईकोर्ट की ओर जाने वाली सड़कों को किसी भी धार्मिक उत्सव के 'जुलूस', 'धरना' और के नाम पर अवरुद्ध नहीं किया जाए।जस्टिस मेहता ने कहा,"असली उत्सव तब होगा जब समाज उन आदर्शों और गुणों का सम्मान और अनुसरण करेगा,...

सामाजिक शांति और सुरक्षा को चुनौती देने वाले गंभीर अपराध में अभियोजन वापस लेने का आदेश न्यायोचित नहीं: राजस्थान हाईकोर्ट
सामाजिक शांति और सुरक्षा को चुनौती देने वाले गंभीर अपराध में अभियोजन वापस लेने का आदेश न्यायोचित नहीं: राजस्थान हाईकोर्ट

घातक आयुध से सज्जित होकर बलवा करने और घर में घुसकर आग लगाकर नुकसान कारित करने के गंभीर अपराध में राज्य सरकार द्वारा जनहित में अभियोजन वापस लेने के निर्णय को राजस्थान हाईकोर्ट ने विधि के स्थापित सिद्धांतों के अनुरूप नहीं ठहराते हुए अहम न्यायिक दृष्टांत में कहा है कि सामाजिक शांति और सुरक्षा को चुनौती देने वाले अपराध में अभियोजन वापस लेना न्यायोचित नहीं।जस्टिस फरजंद अली ने 51 पृष्ठ के अहम न्यायिक दृष्टांत 'मुबारक उर्फ सलमान बनाम राजस्थान राज्य एवं अन्य' में दण्ड प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 321...