Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

सुप्रीम कोर्ट वीकली राउंड अप : जानिए सुप्रीम कोर्ट में कैसा रहा पिछला सप्ताह

LiveLaw News Network
7 Dec 2020 10:54 AM GMT
सुप्रीम कोर्ट वीकली राउंड अप : जानिए सुप्रीम कोर्ट में कैसा रहा पिछला सप्ताह
x

30 नवंबर 2020 से 4 दिसम्बर 2020 तक सुप्रीम कोर्ट के कुछ ऑर्डर/जजमेंट पर एक नज़र

किसानों का प्रदर्शन COVID-19 के जोखिम को बढ़ा रहा है': सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल प्रदर्शनकारियों को हटाने की मांग

सुप्रीम कोर्ट में एक रिट याचिका दायर कर दिल्ली-एनसीआर के सीमावर्ती इलाकों में प्रदर्शन कर रहे किसानों को इस आधार पर हटाने का अनुरोध किया गया है कि वे दिल्ली में फैलने वाले COVID-19 के खतरे को बढ़ा रहे हैं। एक कानूनी छात्र ऋषभ शर्मा की वकील ओम प्रकाश परिहार के माध्यम से दायर रिट याचिका में कहा गया है कि प्रदर्शनकारी "आपातकालीन चिकित्सा सेवाओं तक पहुंचने के लिए बाधा डाल रहे हैं।"

आगे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

विशेष अनुमति याचिका खारिज होने का कानून के सवाल पर कोई परिणाम नहीं होता : सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि विशेष अनुमति याचिका को खारिज होने का कानून के सवाल पर कोई परिणाम नहीं होता। इस मामले में, उच्च न्यायालय की डिवीजन बेंच ने एकल पीठ के फैसले को रद्द कर दिया था जिसने याचिकाकर्ताओं को 9/16 साल के समय के लिए बाध्य संशोधित प्रमोशनल स्केल देने की अनुमति दी। डिवीजन बेंच ने भाखड़ा ब्यास प्रबंधन बोर्ड बनाम कृष्ण कुमार विज में फैसला सुनाया था कि याचिकाकर्ता राहत मांगने के हकदार नहीं है।

आगे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या में मस्जिद निर्माण के लिए ट्रस्ट में सरकारी नुमाइंदों को शामिल करने की याचिका खारिज की

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को यूपी सुन्नी वक्फ बोर्ड को अयोध्या में आवंटित जमीन पर मस्जिद के निर्माण के लिए सरकारी नुमाइंदों का ट्रस्ट बनाने के लिए केंद्र सरकार के निर्देशों की मांग करने वाली याचिका खारिज कर दी। न्यायमूर्ति रोहिंटन एफ नरीमन की अध्यक्षता वाली पीठ ने अधिवक्ता हरि शंकर जैन की दलीलें सुनीं और याचिका खारिज करने के लिए आगे बढ़ीं। शिशिर चतुर्वेदी और करुणेश कुमार शुक्ला द्वारा एडवोकेट दिव्या ज्योति सिंह के माध्यम से दायर जनहित याचिका में "उत्तर प्रदेश सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड को आवंटित 5 एकड़ की भूमि और निर्माण के उचित प्रशासन के लिए सुन्नी मुस्लिम समुदाय से संबंधित केंद्र और राज्य सरकार के नुमाइंदों का ट्रस्ट बनाने के लिए केंद्र सरकार को निर्देश जारी करने की मांग की गई थी।… "

आगे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

"पीड़िता अच्छे और बुरे को समझने की स्थिति में नहीं थी" : सुप्रीम कोर्ट ने मानसिक रूप से अक्षम लड़की के साथ बलात्कार के आरोपी व्यक्ति की सजा को बरकरार रखा

सुप्रीम कोर्ट ने मानसिक रूप से अक्षम लड़की के साथ बलात्कार के आरोपी व्यक्ति की सजा को बरकरार रखा है। अभियुक्त चमन लाल को मुख्य रूप से ट्रायल कोर्ट ने प्राथमिकी दर्ज करने में देरी के आधार पर बरी कर दिया और इस आधार पर भी कि अभियोजन पक्ष परिणामों को समझने के लिए मानसिक रूप से सक्षम नहीं था कि क्या हो रहा है। अपील में, रिकॉर्ड पर पूरे साक्ष्य को पुनः प्राप्त करने पर, उच्च न्यायालय ने निष्कर्ष निकाला कि अभियोजन पक्ष का आईक्यू 62 था और यह हल्की मानसिक मंदता थी। उच्च न्यायालय ने उसे सात साल के सश्रम कारावास और 10,000 / - के जुर्माने की सजा के साथ जुर्माने के भुगतान के डिफ़ॉल्ट में, आगे छह महीने के कठोर कारावास , धारा 376 आईपीसी के तहत चार साल के कठोर कारावास और 5,000 रुपये के जुर्माने के साथ और जुर्माना के डिफ़ॉल्ट रूप में, धारा 506 आईपीसी के तहत आगे तीन महीने की सजा सुनाई।

आगे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें"

धार्मिक प्रथा के आधार पर दंडात्मक कार्रवाई नहीं हो सकती": मुस्लिमों में द्विविवाह को कानूनी मान्यता को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती

सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर कर द्विविवाह को सभी धर्मों के लिए असंवैधानिक घोषित करने की मांग की गई है। अधिवक्ता विष्णु शंकर जैन द्वारा भारतीय दंड संहिता की धारा 494 को रद्द करने की प्रार्थना करते हुए यह दलील दी गई है कि जहां तक 'किसी भी मामले में ऐसी शादी शून्य है' से संबंधित है और धारा 2 मुस्लिम पर्सनल लॉ (शरीयत) आवेदन अधिनियम, 1937 में जहां तक यह मुस्लिम समुदाय में प्रचलित द्विविवाह / बहुविवाह की प्रणाली को मान्यता देता है।

आगे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

94-वर्षीया विधवा ने 1975 के आपातकाल को असंवैधानिक करार देने और 25 करोड़ रुपये मुआवजे की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट का रुख किया


एक 94-वर्षीया विधवा ने 1975 में आपातकाल की घोषणा को असंवैधानिक करार दिये जाने और इसमें हिस्सा लेने वाले अधिकारियों से मुआवजा के तौर पर 25 करोड़ रुपये दिलाये जाने की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। 'एडीएम जबलपुर बनाम शिवकांत शुक्ला (1976)' मामले में पांच सदस्यीय संविधान पीठ के फैसले को पलटने वाले 2017 के 'के एस पुत्तास्वामी (सेवानिवृत्त) बनाम भारत सरकार' मामले में दिये गये फैसले पर भरोसा करते हुए याचिका में कहा गया है कि भारतीय लोकतंत्र के इतिहास में दफन सबसे काले अध्याय 'आपातकाल' के दौरान अधिकारियों के हाथों अत्याचार की शिकार हुई इस याचिकाकर्ता को अभी तक राहत प्रदान नहीं की जा सकी है।

आगे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

अग्रिम जमानत देने के लिए एफआईआर दर्ज करने में हुई लंबी देरी एक वैध विचार : सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि एफआईआर दर्ज करने में हुई लंबी देरी अग्रिम जमानत देने के लिए एक वैध विचार हो सकता है। न्यायमूर्ति अशोक भूषण की अध्यक्षता वाली पीठ ने यह टिप्पणी पंजाब के पूर्व पुलिस महानिदेशक (डीजीपी), सुमेध सिंह सैनी के अग्रिम जमानत आवेदन को स्वीकार करते हुए की है। सैनी ने वर्ष 1991 के बलवंत सिंह मुल्तानी हत्या मामले में जमानत की मांग की थी। इस पीठ में जस्टिस आर सुभाष रेड्डी और जस्टिस एमआर शाह भी शामिल थे।

आगे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

केंद्र ने लोक सेवकों के समान आपराधिक मामले में दोषी पाए जाने पर सांसद/ विधायक पर आजीवन बैन लगाने की याचिका का विरोध किया 

केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट के समक्ष अपने हलफनामे में उस याचिका का विरोध किया है जिसमें मांग की गई है कि आपराधिक मामलों में दोषी व्यक्तियों, चाहे वो जनप्रतिनिधि हों, सिविल सेवक हों या न्यायपालिका के सदस्य, को कार्यपालिका और न्यायपालिका के साथ- साथ समान रूप से विधायिका से हटा दिया जाना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता और भाजपा नेता अश्विनी उपाध्याय द्वारा 2017 की अर्जी के जवाब में हलफनामा दायर किया गया है।

आगे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

सुप्रीम कोर्ट ने  COVID-19 रोगियों के घरों के बाहर पोस्टर चिपकाने के वैधता पर फैसला सुरक्षित रखा

सुप्रीम कोर्ट ने उस याचिका पर फैसला सुरक्षित रखा है, जिसमें विभिन्न राज्यों की सरकारों के आइसोलेशन में रहने वाले COVID-19 रोगियों के घरों के बाहर पोस्टर चिपकाने के फैसले को चुनौती दी गई है। जस्टिस अशोक भूषण, जस्टिस बीआर गवई और जस्टिस एमआर शाह की पीठ ने केंद्र के लिए उपस्थित सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता को कहा कि क्या केंद्र द्वारा इस संबंध में एक एडवाइजरी जारी की जा सकती है, ताकि राज्य पॉजिटिव रोगियों के घरों की दीवारों पर पोस्टर चिपकाने से बचे। कानून अधिकारी ने अदालत को बताया कि इस तरह की एक एडवाइजरी पहले से ही थी।

आगे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

दिल्ली विधानसभा के समन को फेसबुक उपाध्यक्ष की चुनौती :  शांति और सद्भाव समिति ने हस्तक्षेप किया, सुप्रीम कोर्ट जनवरी में करेगा सुनवाई

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को फेसबुक इंडिया के उपाध्यक्ष अजीत मोहन द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई को जनवरी 2021 तक के लिए स्थगित कर दिया जिसमें फरवरी 2020 में हुए "दिल्ली के दंगों में फेसबुक के अधिकारियों की भूमिका या मिलीभगत" की शिकायतों पर शांति और सद्भाव की विधानसभा समिति द्वारा जारी समन को चुनौती दी गई है। जस्टिस एसके कौल, जस्टिस दिनेश माहेश्वरी और जस्टिस हृषिकेश रॉय की पीठ ने मामले की सुनवाई की और समिति की ओर से दायर एक हस्तक्षेप आवेदन में नोटिस जारी किया जिसका प्रतिनिधित्व वरिष्ठ अधिवक्ता राजीव धवन ने किया था।

आगे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

यूपी के अस्पताल में कुत्ते द्वारा शव को नोचने की घटना :  डॉ अश्विनी कुमार ने शवों से निपटने के लिए "समान प्रोटोकॉल" बनाने के लिए सीजेआई को लिखा

सुप्रीम कोर्ट को एक पत्र याचिका भेजी गई है, जिसमें पूरे देश के अस्पतालों और शवगृहों में शवों से निपटने के लिए "समान प्रोटोकॉल" के लिए दिशा-निर्देश / गाइडलाइन जारी करने की मांग की गई है। पूर्व केंद्रीय कानून मंत्री, डॉ अश्विनी कुमार द्वारा,मीडिया में रिपोर्ट की गई, यूपी के एक अस्पताल में 'दिल को झकझोर देने वाली' घटना की पृष्ठभूमि में, जिसमें एक अस्पताल के अंदर गलियारे में स्ट्रेचर पर एक लड़की के शव पर कुत्ते को नोचते हुए दिखाया गया है।

आगे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

ग्राहक को सुरक्षाकर्मी मुहैया कराने वाली निजी सुरक्षा एजेंसी पर भी ईपीएफ के प्रावधान लागू : सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि कर्मचारी भविष्य निधि और विविध प्रावधान अधिनियम के प्रावधान, अपने ग्राहक को विशेषज्ञ सेवा प्रदान करने में लगी एक निजी सुरक्षा एजेंसी पर भी लागू होते हैं,अगर वो ईपीएफ अधिनियम की आवश्यकता को पूरा करती है तो। जस्टिस नवीन सिन्हा और जस्टिस सूर्यकांत की पीठ ने इस तरह से पैंथर सिक्योरिटी सर्विस प्राइवेट लिमिटेड द्वारा हाईकोर्ट के आदेश के खिलाफ दायर अपील को खारिज कर दिया, जबकि सहायक भविष्य निधि आयुक्त के आदेश की पुष्टि करते हुए इसे ईपीएफ अधिनियम के प्रावधानों के अनुपालन और वैधानिक बकाया जमा करने के लिए उत्तरदायी ठहराया।

आगे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

मुल्तानी हत्याकांड में सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब के पूर्व डीजीपी सुमेध सिंह सैनी को अग्रिम जमानत दी

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को पंजाब के पूर्व पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) सुमेध सिंह सैनी की अग्रिम जमानत याचिका को अनुमति दे दी, जिन्होंने 1991 के बलवंत सिंह मुल्तानी हत्या मामले में जमानत की मांग की थी। जस्टिस अशोक भूषण, जस्टिस आर सुभाष रेड्डी और जस्टिस एमआर शाह की पीठ ने ट्रायल कोर्ट और हाई कोर्ट के फैसलों को रद्द करते हुए कहा कि अगर सैनी को धारा 302 आईपीसी के तहत गिरफ्तार किया जाता है, तो उन्हें एक लाख रुपये के निजी मुचलके पर रिहा किया जाएगा।

गे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

सुप्रीम कोर्ट ने एडवोकेट ऑन रिकॉर्ड एक्ज़ाम 2020 रद्द किया, जून 2021 तक स्थगित

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली में #COVID19 मामलों में बढ़ोतरी के मद्देनजर एडवोकेट्स-ऑन-रिकॉर्ड परीक्षा 2020 को रद्द करने और जून 2021 तक उसी को स्थगित करने का फैसला किया है। सुप्रीम कोर्ट के एडिशनल रजिस्ट्रार, रिक्रूटमेंट सेल ने सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन को पत्र भेजकर फैसले की जानकारी दी है। पत्र में कहा गया है: "दिल्ली में COVID-19 महामारी के बढ़ते मामलों को देखते हुए सक्षम अधिकारी ने निर्देश दिया है कि अधिवक्ता-ऑन-रिकॉर्ड परीक्षा 2020 इस वर्ष आयोजित नहीं की जाएगी। अब इसे जून 2021 के महीने में आयोजित किया जा सकता है। इसलिए आपसे अनुरोध किया जाता है इस संचार की सामग्री को सभी संबंधितों तक पहुंचाएं।"

आगे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

दिल्ली नगर निगमों में डॉक्टरों को वेतन नहीं मिला, आईएमए ने सुप्रीम कोर्ट में अवमानना याचिका दाखिल की

दिल्ली के तीन नगर निगमों के साथ काम करने वाले डॉक्टरों के वेतन का भुगतान न करने पर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) द्वारा सुप्रीम कोर्ट में एक अवमानना ​​याचिका दायर की गई है। याचिका में कहा गया है कि भले ही उच्चतम न्यायालय ने 17 जून को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया था कि राज्य अपने डॉक्टरों और स्वास्थ्य सेवा कर्मियों को पूर्ण वेतन का भुगतान करें, उन्हें उचित आवास प्रदान करें और चिकित्सा कर्मचारियों और डॉक्टरों के बीच समान रूप से क्वारंटीन संबंधी दिशा-निर्देशों को लागू करें, COVID-19 रोगियों के साथ संसर्ग को देखे बिना, लेकिन डॉक्टरों को भुगतान किए जाने के लिए आवश्यक मासिक वेतन / पारिश्रमिक / भत्ते आदि दिल्ली सरकार द्वारा नहीं दिए गए हैं।

आगे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

'प्रत्येक पुलिस स्टेशन में CCTV कैमरा लगाना सुनिश्चित करें' : सुप्रीम कोर्ट ने राज्यों और केंद्र शासित राज्यों को निर्देश दिए

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि राज्य और केंद्र शासित प्रदेश सरकारों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उनके अधीन कार्य करने वाले प्रत्येक पुलिस स्टेशन में सीसीटीवी कैमरे स्थापित हों। न्यायमूर्ति आरएफ नरीमन की अगुवाई वाली पीठ ने कहा कि इन निर्देशों को अक्षरश: जल्द से जल्द लागू किया जाए। कोर्ट ने केंद्र सरकार को सीबीआई, एनआईए आदि केंद्रीय एजेंसियों के कार्यालयों में सीसीटीवी कैमरे और रिकॉर्डिंग उपकरण लगाने का भी निर्देश दिया है।

आगे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

'सड़क एक पेड़ के आसपास से क्यों मोड़ी नहीं जा सकती?' सड़क विकास के लिए पेड़ों को काटने की मांग करने वाली याचिका पर सीजेआई ने पूछा

सड़क पेड़ के चारों ओर से मोड़ क्यों नहीं ले सकती है? इसका मतलब केवल यह होगा कि गति धीमी होगी। यदि गति धीमी है, तो यह दुर्घटनाओं को कम करेगी और अधिक सुरक्षित भी होगी।'' मथुरा में कृष्णा गोवर्धन सड़क परियोजना के लिए पेड़ों को काटने के लिए यूपी सरकार की तरफ से दायर एक आवेदन पर सुनवाई करते हुए बुधवार को सीजेआई एसए बोबडे ने यह टिप्पणी की है। उत्तर प्रदेश सरकार के लोक निर्माण विभाग और यूपी ब्रिज कॉर्पोरेशन ने परियोजना के लिए 2,940 पेड़ों की कटाई के लिए शीर्ष अदालत के समक्ष एक आवेदन दायर किया था।

आगे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

'जमानत के लिए राखी' आदेश : एजी ने कहा, जजों को पितृसत्तात्मक सोच से बचना होगा, सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा

सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को आठ वकीलों द्वारा दायर उस याचिका में आदेशों को सुरक्षित रखा, जिसमें मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती दी गई थी, जिसमें अभियुक्त पर जमानत के लिए शर्त लगाई गई थी कि वह शिकायतकर्ता पीड़िता के घर जाए और उसे आने वाले समय में उसकी सर्वश्रेष्ठ क्षमता की रक्षा करने के वादे के साथ "राखी बांधने" का अनुरोध करे। न्यायमूर्ति एएम खानविलकर की अध्यक्षता वाली एक पीठ इसी तरह के आदेशों के खिलाफ शीर्ष अदालत से निर्देश मांगने वाली याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जो महिलाओं और बच्चों के खिलाफ गंभीर यौन अपराधों की घटना को तुच्छ बनाते हैं।

आगे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

'अर्नब गोस्वामी मामले में आपने हस्तक्षेप किया जबकि निचली अदालत में जमानत याचिका लंबित थी, मैं उस पर भरोसा करूंगा': सिद्दीक कप्पन केस में कपिल सिब्बल

वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने बुधवार को सुप्रीम कोर्ट के सामने पेश किया कि वह केरल के पत्रकार सिद्दीक कप्पन को हिरासत से रिहा करने के मामले में अर्नब गोस्वामी के फैसले पर भरोसा करेंगे। सिब्बल ने कहा कि रिपब्लिक टीवी के एंकर गोस्वामी को तब भी सुप्रीम कोर्ट ने राहत दी थी, जब उनकी जमानत की अर्जी सेशंस कोर्ट में लंबित थी। भारत के मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे, जस्टिस ए एस बोपन्ना और जस्टिस वी रामासुब्रमण्यम की पीठ के समक्ष वह केरल यूनियन ऑफ वर्किंग जर्नलिस्ट्स (KUWJ) की ओर से प्रस्तुतियां दे रहे थे।

आगे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

सुप्रीम कोर्ट ने लगातार कार्यवाही में एक ही कारण को बार बार उठाने के लिए याचिकाकर्ता पर एक लाख रुपये की जुर्माना लगाया

सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को एक याचिकाकर्ता पर 'कानून की प्रक्रिया के घोर दुरुपयोग' के लिए एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया। याचिकाकर्ता ने सुप्रीम कोर्ट की लगातार कार्यवाही में एक ही कारण से बार-बार शीर्ष अदालत का रुख किया। न्यायमूर्ति रोहिंतन नरीमन, न्यायमूर्ति नवीन सिन्हा और न्यायमूर्ति के.एम जोसेफ की पीठ ने सुप्रीम कोर्ट रजिस्ट्री से इस पर स्पष्टीकरण की मांगा कि इस तरह के आवेदनों को सूचीबद्ध कैसे किया जा रहा है?

आगे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

टाटा बनाम साइरस मिस्त्री विवाद : सुप्रीम कोर्ट 8 दिसंबर को करेगा अंतिम सुनवाई

टाटा बनाम साइरस विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट 8 दिसंबर को अंतिम सुनवाई करेगा। बुधवार को सीजेआई एसए बोबडे ने कहा कि मंगलवार को इस मामले की सुनवाई करेंगे और उस दिन पीठ सिर्फ इसी मामले पर अंतिम सुनवाई करेगी। मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे, न्यायमूर्ति ए एस बोपन्ना और न्यायमूर्ति वी रामासुब्रमण्यन की पीठ ने 22 सितंबर को मिस्त्री फर्मों और शापूरजी पल्लोनजी मिस्त्री के खिलाफ टाटा संस में अपने शेयरधारिता की सुरक्षा के खिलाफ पूंजी जुटाने, गिरवी रखने, शेयरों के संबंध में कोई हस्तांतरण या कोई और कार्रवाई ना करने का आदेश दिया था।

आगे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

'सार्वजनिक स्थान पर आप लड़की के साथ छेड़छाड़ करते हैं? ' : सुप्रीम कोर्ट ने आईपीसी की धारा 354 के तहत दर्ज FIR में यौन उत्पीड़न के आरोपी को अग्रिम जमानत पर रिहा करने से इनकार किया

सुप्रीम कोर्ट ने छेड़छाड़ के एक आरोपी की अग्रिम जमानत याचिका मंगलवार को खारिज कर दी। इस मामले में आरोपी के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 354 (इज्जत खराब करने के इरादे से महिला का उत्पीड़न या आपराधिक बल प्रयोग) के तहत एक FIR दर्ज की गयी थी। न्यायमूर्ति एल नागेश्वर राव की अध्यक्षता वाली खंडपीठ पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट के 21 जनवरी के उस फैसले के खिलाफ विशेष अनुमति याचिका (एसएलपी) की सुनवाई कर रही थी, जिसमें हाईकोर्ट ने आईपीसी धारा 354, 506 (डराने-धमकाने के अपराध), 341 (गलत तरीके से कब्जे में रखने) और 34 के तहत दर्ज FIR के सिलसिले में आरोपी की अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी थी।

आगे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

पत्रकार सिद्दीक कप्पन की गिरफ्तारी : KUWJ याचिका में कप्पन की पत्नी और बेटी को भी करेगा शामिल, सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई टाली

पत्रकार सिद्दीक कप्पन की रिहाई के लिए दायर याचिका में केरल यूनियन ऑफ वर्किंग जर्नलिस्ट (KUWJ) की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने बुधवार को सुप्रीम कोर्ट को बताया कि याचिका में केरल के पत्रकार की पत्नी और बेटी को भी हस्तेक्षपकर्ता बनाया जाएगा। भारत के मुख्य न्यायाधीश की अध्यक्षता वाली पीठ ने सुनवाई अगले सप्ताह तक के लिए स्थगित कर दी। सिब्बल ने सीजेआई की टिप्पणी के बाद याचिका में कप्पन की पत्नी और बेटी को शामिल करने की पेशकश की थी।

आगे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

'कभी कोई महिला भारत की मुख्य न्यायाधीश नहीं रही, न्यायपालिका में महिलाओं का प्रतिनिधित्व बढ़ाने से यौन हिंसा से जुड़े मामलों में अधिक संतुलित और सशक्त दृष्टिकोण होगा : एजी केके वेणुगोपाल

अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय के राखी 'जमानत आदेश के खिलाफ महिला वकीलों द्वारा दायर एसएलपी में अपने लिखित सबमिशन में कहा कि न्यायपालिका में महिलाओं के प्रतिनिधित्व में सुधार करने से यौन हिंसा से जुड़े मामलों में एक अधिक संतुलित और सशक्त दृष्टिकोण होने की दिशा में एक लंबा रास्ता तय किया जा सकता है। एजी केके वेणुगोपाल ने कहा, "उदाहरण के लिए, इस न्यायालय में केवल 2 महिला जज हैं, जबकि 34 न्यायाधीशों की स्वीकृत शक्ति है। कभी कोई महिला भारत की मुख्य न्यायाधीश नहीं रही हैं।"

आगे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

'कोई भी तथ्यों को दबा नहीं सकता' : सुप्रीम कोर्ट ने राजकोट COVID-19 अस्पताल में आग पर गुजरात सरकार को फटकार लगाई

27 नवंबर को गुजरात के राजकोट में COVID-19 नामित एक अस्पताल में आग लगने के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को गुजरात सरकार की खिंचाई की, जिसमें पांच लोगों की मौत हो गई। न्यायमूर्ति अशोक भूषण की अध्यक्षता वाली पीठ ने मामले को गुरुवार तक के लिए स्थगित कर दिया, जबकि यह भी कहा कि राज्य तथ्यों को दबा नहीं सकता है और उसी को सही अंदाज में सामने आना है। तदनुसार, शीर्ष अदालत ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता को मामले को देखने का निर्देश दिया।

आगे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

'सुनवाई योग्य नहीं' : सुप्रीम कोर्ट ने आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी को हटाने की याचिका खारिज की

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगनमोहन रेड्डी पर सुप्रीम कोर्ट के दूसरे वरिष्ठ न्यायाधीश जस्टिस एन वी रमना के खिलाफ सार्वजनिक आरोप लगाने के लिए कार्यवाही करने की याचिका खारिज कर दी। न्यायमूर्ति एसके कौल, न्यायमूर्ति दिनेश माहेश्वरी और न्यायमूर्ति हृषिकेश रॉय की पीठ ने कहा, "याचिकाकर्ताओं ने एक दोहरी प्रार्थना की है। पहली प्रार्थना यह कहना चाहती है कि हाईकोर्ट के एक वरिष्ठतम न्यायाधीश या सीबीआई को आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा की गई भद्दी टिप्पणियों पर गौर करना चाहिए। दूसरी प्रार्थना रिट जारी करने के लिए है कि दिए गए बयानों के मद्देनज़र वह मुख्यमंत्री का पद धारण करने के हकदार नहीं हैं। कानूनी रूप से दूसरी प्रार्थना को सुनवाई योग्य नहीं रखा जा सकता। जहां तक ​​पहली प्रार्थना का संबंध है, ऐसा लगता है कि याचिकाकर्ता खुद स्पष्ट नहीं है कि वह क्या चाहता है। आंध्र प्रदेश के सीएम और सीजेआई के बीच संचार को सार्वजनिक क्षेत्र में रखने के संबंध में उठाया गया मुद्दा पहले ही उस पीठ को संदर्भित किया जा रहा है जो इस पहलू से निपट रही है। हालांकि, प्रासंगिक तौर पर, हम वर्तमान याचिका पर सुनवाई का कोई उद्देश्य नहीं देखते हैं और इसे खारिज करते हैं।"

आगे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

बाल संरक्षण गृहों में रहने वाले बच्चों को किशोर न्याय अधिनियम के प्रावधानों के अनुसार ही उनके परिवारों को वापस सौंपा जाए : सुप्रीम कोर्ट ने दिशानिर्देश जारी किए

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को आठ राज्यों में बाल संरक्षण गृहों में रहने वाले बच्चों को किशोर न्याय अधिनियम के प्रावधानों के अनुसार ही उनके परिवारों को वापस सौंपने का निर्देश दिया। न्यायमूर्ति एल नागेश्वर राव की अध्यक्षता वाली पीठ के समक्ष सॉलिसिटर-जनरल तुषार मेहता ने प्रस्तुत किया कि राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग द्वारा जारी किए गए निर्देशों को भारत सरकार के संयुक्त सचिव के आदेश द्वारा रद्द किया गया था।

आगे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

Next Story