Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

यूपी के अस्पताल में कुत्ते द्वारा शव को नोचने की घटना :  डॉ अश्विनी कुमार ने शवों से निपटने के लिए "समान प्रोटोकॉल" बनाने के लिए सीजेआई को लिखा

LiveLaw News Network
3 Dec 2020 8:09 AM GMT
यूपी के अस्पताल में कुत्ते द्वारा शव को नोचने की घटना :  डॉ अश्विनी कुमार ने शवों से निपटने के लिए समान प्रोटोकॉल बनाने के लिए सीजेआई को लिखा
x

सुप्रीम कोर्ट को एक पत्र याचिका भेजी गई है, जिसमें पूरे देश के अस्पतालों और शवगृहों में शवों से निपटने के लिए "समान प्रोटोकॉल" के लिए दिशा-निर्देश / गाइडलाइन जारी करने की मांग की गई है।

पूर्व केंद्रीय कानून मंत्री, डॉ अश्विनी कुमार द्वारा,मीडिया में रिपोर्ट की गई, यूपी के एक अस्पताल में 'दिल को झकझोर देने वाली' घटना की पृष्ठभूमि में, जिसमें एक अस्पताल के अंदर गलियारे में स्ट्रेचर पर एक लड़की के शव पर कुत्ते को नोचते हुए दिखाया गया है।

वरिष्ठ अधिवक्ता ने लिखा,

" ये तस्वीरें मृतका की गरिमा के लिए बेरहमी और असंवेदनशीलता का प्रतिनिधित्व करते हैं, जबकि बार-बार इस न्यायालय द्वारा मौलिक अधिकारों के पदानुक्रम में एक गैर- मोलभाव वाले अधिकार के रूप में पुष्टि की गई है।"

उन्होंने खड़क सिंह बनाम यूपी राज्य और अन्य 1964 एससीआर (1) 332, कॉमन कॉज बनाम भारत संघ (2018) 5 एससीसी 1, के संविधान पीठ के फैसले आदि में सुप्रीम कोर्ट के निर्णयों का उल्लेख किया जहां गरिमा के साथ मरने के अधिकार को बरकरार रखा गया था।

उन्होंने मद्रास उच्च न्यायालय के स्वत: संज्ञान जनहित याचिका और प्रदीप गांधी बनाम महाराष्ट्र राज्य में बॉम्बे उच्च न्यायालय के हालिया फैसलों का भी उल्लेख किया जिसमें गरिमा के साथ मरने के मौलिक अधिकार के साथ सभ्य तरीके से दफनाने या दाह संस्कार के अधिकार को स्वीकार किया गया।

इस पृष्ठभूमि में उन्होंने कहा,

"ऐसे समय में जब अस्पतालों में रोजाना बढ़ती मौतें एक दर्दनाक हकीकत है, जैसा कि शवगृहों में शवों के ढेर लगे हैं, मृतकों की गरिमा के अनुरूप शवों से निपटने के लिए एक प्रवर्तनीय और सख्ती से देखे गए प्रोटोकॉल की आवश्यकता एक पूर्ण अनिवार्यता है। देश भर के अस्पतालों और शवगृहों में शवों से निपटने के लिए एक समान प्रोटोकॉल को वर्तमान आकस्मिक और असाधारण स्थिति में जल्द से जल्द लागू करने की आवश्यकता है। यह नहीं कहना चाहिए कि एक प्रतिष्ठित लोकतंत्र अपने सबसे महत्वपूर्ण दायित्व को निभाने में विफल रहा। "

उन्होंने शीर्ष अदालत से आग्रह किया है कि टीवी पर दिल दहलाने वाले दृश्यों के लिए जल्द से जल्द स्वत: संज्ञान नोटिस लें और उपयुक्त बाध्यकारी दिशा-निर्देश, निर्देश, रिट, आदेशों को जारी करने के लिए उपयुक्त माना जाए ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि पूरे देश में शवों से निपटने के लिए आवश्यक प्रोटोकॉल स्थापित किए गए हैं, विशेष रूप से अस्पतालों और शवगृहों में मृतकों की गरिमा के अनुरूप।

यूपी के संभल जिले के एक सरकारी अस्पताल के अंदर एक आवारा कुत्ते को बच्ची के शव को नोचते हुए देखे जाने का 20 सेकंड का वीडियो पिछले हफ्ते वायरल हुआ था। सड़क दुर्घटना के बाद लड़की को अस्पताल लाने के बाद गुरुवार को ये परेशान करने वाली घटना हुई।

एनडीटीवी ने बताया कि अस्पताल प्रशासन ने एएनआई को बताया है कि अस्पताल के अंदर वास्तव में एक आवारा कुत्ते का खतरा था और उन्होंने स्थानीय नागरिक प्राधिकारियों को लिखा था, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई।

Next Story