Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

सुप्रीम कोर्ट वीकली राउंड अप : जानिए सुप्रीम कोर्ट में कैसा रहा पिछला सप्ताह

LiveLaw News Network
8 Feb 2021 4:56 AM GMT
सुप्रीम कोर्ट वीकली राउंड अप : जानिए सुप्रीम कोर्ट में कैसा रहा पिछला सप्ताह
x

01 फरवरी 2021 से 05 फरवरी 2021 तक सुप्रीम कोर्ट के कुछ ऑर्डर/जजमेंट पर एक नज़र

वादकर्ता इस आधार पर जज को मामले की सुनवाई से हटाने की मांग नहीं कर सकता कि उसे पसंद का निर्णय नहीं मिलेगाः सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने एक मामले में जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ के नाम पर आपत्त‌ि जाहिर करने पर एक याचिका को रद्द करते हुए कहा कि एक वादकारी को अपनी पसंद की बेंच की मांग करते हुए अदालत को धमकाने की अनुमति नहीं दी जा सकती। अदालत ने देखा कि एक वादकारी किसी जज के नाम पर, उसके मामले की सुनवाई करने से इस आधार पर आपत्त‌ि नहीं कर सकता है कि उसे अनुकूल आदेश नहीं मिल सकता है। मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट, बेंगलुरु के समक्ष आया यह मामला घरेलू हिंसा की शिकायत था, जिसे उन्होंने खारिज कर दिया था। इस आदेश के खिलाफ दायर अपील को अपर सत्र न्यायाधीश, बेंगलुरु ने खारिज कर दी थी। उच्च न्यायालय ने याचिकाकर्ता की पुनरीक्षण याचिका को भी खारिज कर दिया था।

आगे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

सुप्रीम कोर्ट ने कॉमेडियन मुनव्वर फारुकी को अंतरिम जमानत दी; एपी हाईकोर्ट और यूपी के प्रॉडक्शन वारंट पर रोक लगाई

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को मध्य प्रदेश पुलिस द्वारा धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के एक मामले में कॉमेडियन मुनव्वर फारुकी को अंतरिम जमानत दे दी। "विद्वान वकील ने हमें बताया है कि इस तथ्य से काफी अलग प्राथमिकी में लगाए गए आरोप अस्पष्ट हैं जो धारा 41 सीआरपीसी में हमारे निर्णय द्वारा मान्य के रूप में" अरनेश कुमार बनाम बिहार राज्य व अन्य", (2014) 8 SCC 273 में निहित प्रक्रिया का याचिकाकर्ता को गिरफ्तार करने से पहले पालन नहीं किया गया। यह मामला होने के नाते, हम दोनों याचिकाओं में नोटिस जारी करते हैं, और उच्च न्यायालय के फैसले पर रोक लगाते हैं। याचिकाकर्ता को ट्रायल कोर्ट की संतुष्टि के लिए शर्तों पर अंतरिम जमानत पर रिहा किया जाता है "

आगे पढने के लिए यहां क्लिक करें

केंद्र और यूपीएससी उन उम्मीदवारों को एक बार की छूट देने को सहमत जिनका अक्टूबर 2020 में अंतिम प्रयास था और जो आयु-वर्जित नहीं थे

केंद्र सरकार ने शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट को सूचित किया कि केंद्र और संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) ने " उम्मीदवारों को एक बार, प्रतिबंधित छूट" देने के लिए सहमति व्यक्त की है, जिन्होंने अक्टूबर 2020 में यूपीएससी परीक्षा का अपना अंतिम प्रयास दिया था, और जो आयु-वर्जित नहीं थे। एएसजी एसवी राजू ने न्यायमूर्ति एएम खानविलकर की अध्यक्षता वाली पीठ को प्रस्तुत किया कि अतिरिक्त मौका दिया जाएगा, केवल एक अतिरिक्त प्रयास प्रदान करने की सीमा तक, 2021 में परीक्षा तक सीमित। आगे, यह केवल उन्हीं उम्मीदवारों को दिया जाएगा जिन्होंने सीईसी-2020 में अपना अंतिम प्रयास किया था और आयु-वर्जित नहीं थे।

आगे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

मराठा आरक्षण : सुप्रीम कोर्ट 8 मार्च से मामले की अंतिम सुनवाई शुरू करेगा

सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ने शुक्रवार को महाराष्ट्र सामाजिक और शैक्षणिक रूप से पिछड़े वर्ग (एसईबीसी) अधिनियम, 2018 की संवैधानिकता को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुनवाई की तारीखें तय कीं, जिसे नौकरियों और शिक्षा में मराठा समुदाय को आरक्षण प्रदान करने के लागू किया गया था। जस्टिस अशोक भूषण की अध्यक्षता वाली बेंच ने 8 मार्च को सुनवाई शुरू करने और 18 मार्च, 2021 तक सुनवाई पूरी करने का निर्देश दिया है।

आगे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

सुप्रीम कोर्ट ने  व्हाट्सएप बिजनेस की नई निजता नीति को चुनौती देने वाले याचिकाकर्ता को दिल्ली हाईकोर्ट जाने को कहा

प्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को सोशल मीडिया चैट प्लेटफॉर्म व्हाट्सएप की नई निजता नीति के खिलाफ कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स की एक याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया। याचिकाकर्ता-संगठन के लिए अधिवक्ता की ओर से दलील दी गई, "हम व्हाट्सएप बिजनेस खातों की निजता नीति पर हैं। व्हाट्सएप के दो प्रकार के ग्राहक हैं- सामान्य श्रेणी और व्हाट्सएप बिजनेस। उत्तरार्द्ध के बारे में निजता की चिंताएं महत्वपूर्ण हैं! वहां व्यापार उद्यमों की वित्तीय जानकारी का बहुत कुछ है।"

आगे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

" पटकथा अच्छी लिखी गई है" : सोनू सूद को नियमितीकरण के लिए एसएलपी वापस लेने की मुकुल रोहतगी की सलाह पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा, कठोर कार्यवाही से संरक्षण दिया

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को निर्देश दिया कि अभिनेता सोनू सूद के खिलाफ ग्रेटर मुंबई नगर निगम द्वारा कोई भी कठोर कदम नहीं उठाया जाएगा जब तक कि उनकी इमारत के नियमितीकरण के लिए उनका आवेदन अधिकारियों द्वारा कानून के अनुसार तय नहीं किया जाता है। सीजेआई एस ए बोबडे की अध्यक्षता वाली पीठ ने बॉम्बे हाईकोर्ट के हालिया आदेश को चुनौती देने वाली सूद की याचिका पर सुनवाई की जिसमें सिविल कोर्ट द्वारा ग्रेटर मुंबई नगर निगम के खिलाफ अस्थायी निषेधाज्ञा देने में उसकी अपील को खारिज कर दिया गया था।

आगे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक हाईकोर्ट के लॉकडाउन के दौरान नष्ट की गई प्रवासियों की झोपड़ियों को फिर से बनाने के लिए राज्य सरकार को दिए आदेश पर रोक लगाई

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को कर्नाटक हाईकोर्ट द्वारा दिए गए उस आदेश पर रोक लगा दी, जिसमें हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को बेंगलुरू में कचकरहल्ली झुग्गी में नष्ट की गई प्रवासी श्रमिकों की झोपड़ियों अपनी लागत पर पुनर्निर्माण करने का निर्देश दिया था। इन झोपड़ियों को उस वक़्त नष्ट किया गया था, जब कोरोना वायरस के कारण संपूर्ण देश में लॉकडाउन लगा दिया गया था, और इनके निवासी अपने गृह राज्यों/नगरों को चले गए थे।

आगे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

मादक पदार्थ के संवेदनशील मामले में की गई कार्यवाही भयानक : सुप्रीम कोर्ट ने एनसीबी मुख्यालय से स्पष्टीकरण मांगा

एनडीपीएस मामले में बरी होने के खिलाफ एसएलपी दायर करने में 652 दिनों की देरी के कारण, सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को एनसीबी मुख्यालय से स्पष्टीकरण मांगा कि किस तरह से इस मामले को खुला छोड़ा गया और किस अधिकारी के लिए लापरवाही बरतने पर क्या जवाबदेही तय की गई है। न्यायमूर्ति एस के कौल की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा, "हम यह भी जानना चाहेंगे कि प्रक्रिया को सुव्यवस्थित करने के लिए क्या कदम उठाए जा रहे हैं।" बेंच अन्य बातों के साथ, राजस्थान हाईकोर्ट के दिसंबर, 2018 के फैसले को चुनौती देने वाली केंद्र की याचिका पर सुनवाई कर रही थी जिसमें प्रतिवादी अजीजुर रहमान को बरी कर दिया था जिसे एनडीपीएस अधिनियम की धारा 8/22 (सी) और धारा 8/21 (बी) के तहत दोषी ठहराया गया था और 10 साल के सश्रम कारावास और 1 लाख रुपये जुर्माने की सजा सुनाई गई थी।

आगे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

'भारत सरकार का दृष्टिकोण निराशाजनक': सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र द्वारा 6616 दिनों की देरी के साथ एसएलपी दाखिल करने करने पर 1 लाख का जुर्माना लगाया

प्रीम कोर्ट ने 6616 दिनों की देरी के साथ केंद्र सरकार द्वारा दायर विशेष अवकाश याचिका (SLP) को खारिज करते हुए कहा कि, 'भारत सरकार के दृष्टिकोण ने जिस तरह से वर्तमान में विशेष अवकाश याचिका दायर की है, इससे हमें चिढ़ हो रही है ।' जस्टिस संजय किशन कौल, जस्टिस दिनेश माहेश्वरी और जस्टिस हृषिकेश रॉय की पीठ ने कहा कि, 'पहले के सभी वकील डस्टबिन में फेंक दिए गए प्रतीत होते हैं।' इस मामले में, केंद्र ने 07.05.2002 को दिए गए एकल पीठ के फैसले के खिलाफ दिल्ली उच्च न्यायालय की डिवीजन बेंच के समक्ष अपील दायर की थी। यह अपील 15.12.2008 को गैर-अभियोजन के लिए खारिज कर दी गई थी। वर्ष 2016 में, केंद्र ने एक आवेदन दायर कर एलपीए की बहाली की मांग की, जिसमें 2590 दिनों की देरी की घोषणा की गई। डिविजन बेंच ने यह अर्जी खारिज कर दी कि केंद्र सरकार की तुलना अनपढ़ मुकदमेबाज से नहीं की जा सकती।

आगे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

अगर कॉरपोरेट देनदार ने उधारकर्ता के दायित्व का निर्वहन करने का वचन दिए बिना, केवल शेयरों को गिरवी रखकर सिक्योरिटी की पेशकश की है, तो वो IBC के तहत 'वित्तीय लेनदार' नहीं बनेगा : सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने माना है कि अगर किसी कॉरपोरेट देनदार ने उधारकर्ता के दायित्व का निर्वहन करने का वचन दिए बिना, केवल शेयरों को गिरवी रखकर सिक्योरिटी की पेशकश की है, तो ऐसे मामले में लेनदार 'वित्तीय लेनदार' नहीं बनेगा जैसा कि इन्सॉल्वेंसी एंड बैंकरप्सी कोड (IBC) के तहत परिभाषित किया गया है। न्यायालय ने माना कि इस तरह के लेनदार एक सुरक्षित लेनदार हो सकते हैं, लेकिन दिवाला समाधान प्रक्रिया में भाग लेने के हकदार IBC के तहत वित्तीय लेनदार नहीं होंगे।

आगे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

गैर-मान्यता प्राप्त मेडिकल कॉलेज से मान्यता प्राप्त मेडिकल कॉलेज में माइग्रेशन, एमसीआई विनियमों के तहत प्रतिबंधित: सुप्रीम कोर्ट

प्रीम कोर्ट ने (मंगलवार) कहा कि स्नातक चिकित्सा शिक्षा, (मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया रेगुलेशन 1997 के विनियमन 6) के मद्देनजर किसी गैर-मान्यता प्राप्त मेडिकल कॉलेज से मान्यता प्राप्त मेडिकल कॉलेज में प्रवास की अनुमति नहीं दी जा सकती है। जस्टिस एल. नागेश्वर राव और इंदिरा बनर्जी की बेंच ने सितंबर, 2020 तक राजस्थान उच्च न्यायालय के फैसले को एमसीआई की चुनौती के रूप में सुना था और उक्त प्रवासन की अनुमति देते हुए कहा कि 'माइग्रेशन' शब्द को विनियम 6 के उप-खंड (2) में संदर्भित किया गया है। माइग्रेशन नियम मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया अधिनियम, 1956 की अनुसूची- I तक सीमित नहीं है (जो मान्यता प्राप्त चिकित्सा योग्यताओं की गणना करता है) लेकिन यह दायरे में बहुत व्यापक है। उच्च न्यायालय का यह विचार था कि जिन संस्थानों को चिकित्सा शिक्षा प्रदान करने की अनुमति है, उन्हें प्रवास के लिए आवेदनों पर विचार करने के उद्देश्य से मान्यता प्राप्त कॉलेज माना जाना चाहिए।

आगे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

दिल्ली सिलिंग : मूल रूप से दुकान के रूप में खरीदे गए परिसरों को सील नहीं किया जाएगा, सुप्रीम कोर्ट ने कहा

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि दिल्ली नगर निगम द्वारा ऐसे परिसर की सीलिंग जारी रखने का कोई कारण नहीं है, अगर वे वास्तव में दुकानों के रूप में बेचे गए थे। भारत के मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा, "अगर यह एक तथ्य है कि परिसर को आवासीय से वाणिज्यिक उपयोग के अनधिकृत परिवर्तन के आधार पर सील कर दिया गया है और वे वास्तव में दुकान के रूप में बेचे गए थे, तो हमेंं सीलिंंग जारी रखने का कोई कारण नज़र नहींं आता।"

आगे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

केवल करेंसी नोटों की बरामदगी भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा 7 के तहत अपराध कायम करने के लिए पर्याप्त नहीं : सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि केवल करेंसी नोटों का क़ब्ज़ा या बरामदगी भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा 7 के तहत अपराध कायम करने के लिए पर्याप्त नहीं है। आरोप साबित करने के लिए, यह उचित संदेह से परे साबित किया जाना चाहिए कि अभियुक्त ने स्वेच्छा से रिश्वत के रूप में जानते हुए ये पैसा स्वीकार किया। जस्टिस अशोक भूषण, जस्टिस आर सुभाष रेड्डी और जस्टिस एमआर शाह की पीठ ने भ्रष्टाचार के एक मामले में एक व्यक्ति को सजा देने के हाईकोर्ट के आदेश को रद्द करते हुए कहा।

आगे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

चाइनीज फेक लोन एप्स के खिलाफ याचिका: सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाकर्ता को केंद्र से संपर्क करने को कहा

सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को चीन समर्थित नकली लोन एप्स के खिलाफ कार्रवाई की मांग करने वाली याचिका का निपटारा किया और याचिकाकर्ता को उचित प्रतिनिधित्व के साथ केंद्र सरकार से संपर्क करने को कहा। भारत के मुख्य न्यायाधीश की अध्यक्षता वाली पीठ एक एनजीओ सेव देम इंडिया फाउंडेशन के प्रेसिडेंट प्रवीण कलालीसेवन के माध्यम से दायर पीआईएल पर विचार कर रही थी। याचिकाकर्ता ने कई मोबाइल-आधारित ऐप की समस्या पर प्रकाश डाला, जो सहज लोन के प्रस्तावों के माध्यम से निर्दोष और भोले व्यक्तियों को फंसाने के लिए COVID-19 लॉकडाउन अवधि के दौरान सक्रिय हो गए।

आगे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

"हाईकोर्ट से संपर्क करें " : सुप्रीम कोर्ट ने ' लव जिहाद' अध्यादेश को चुनौती देने वाली याचिकाओं को वापस लेने की स्वतंत्रता दी

सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को गैरकानूनी धर्म परिवर्तन पर विवादास्पद उत्तर प्रदेश अध्यादेश को चुनौती देने वाली दो रिट याचिकाओं को वापस लेने की अनुमति दी - उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाने के लिए स्वतंत्रता देते हुए- जिसे आमतौर पर 'लव जिहाद' अध्यादेश के रूप में जाना जाता है । भारत के मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय इस मामले से निपटने के लिए इच्छुक नहीं है जब उच्च न्यायालय पहले से ही इस पर विचार कर रहा है।

आगे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

5 मार्च 2010 के बाद एआईसीटीई विनियमों के अनुसार तकनीकी संस्थानों में असिस्टेंट प्रोफेसर पद के लिए पीएचडी अनिवार्य: सुप्रीम कोर्ट

केरल हाईकोर्ट के एक फैसले को रद्द करते हुए, सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि एआईसीटीई विनियमों के अनुसार 5.3.2010 के बाद सहायक प्रोफेसर के पद के लिए पीएचडी अनिवार्य है। ज‌स्ट‌िस संजय किशन कौल, दिनेश माहेश्वरी और हृषिकेश रॉय की खंडपीठ ने केरल हाईकोर्ट की एक खंडपीठ के फैसले के खिलाफ दायर विशेष अनुमति याचिकाओं को खारिज कर दिया है। हाईकोर्ट ने अपने फैसले में असिस्टेंट प्रोफेसरों की ओर से दायर बारह याचिकाओं के एक बैच का निस्तार‌ित किया था। उन्हें आशंका थी कि पीएचडी डिग्री के अभाव में उन्हें पदावनत कर दिया जाएगा।

आगे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

"हमें यकीन है कि सरकार जांच कर रही है " : सुप्रीम कोर्ट ने गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा की जांच करने की याचिकाओं पर सुनवाई से इनकार किया

प्रीम कोर्ट ने बुधवार को गणतंत्र दिवस पर राष्ट्रीय राजधानी में आयोजित किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा की जांच के लिए दायर याचिका पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया। न्यायालय ने याचिकाकर्ताओं को उपयुक्त सरकारी मंत्रालय में प्रतिनिधित्व देने के लिए स्वतंत्रता के साथ याचिका वापस लेने की अनुमति दी। भारत के मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे ने पीठ की अध्यक्षता करते हुए मौखिक रूप से कहा कि सरकार पहले से ही इस मामले की जांच कर रही है और याचिकाकर्ताओं से प्रतिनिधित्व के साथ उपयुक्त मंत्रालय का रुख करने को कहा।

आगे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

140 वकीलों ने किसान आंदोलन के दौरान दिल्ली-एनसीआर के कुछ हिस्सों में इंटरनेट सेवाओं के बंद होने के खिलाफ सीजेआई को पत्र लिखा, स्वत: संज्ञान लेने की मांग

140 वकीलों ने किसान आंदोलन के दौरान दिल्ली-एनसीआर के कुछ हिस्सों में इंटरनेट सेवाओं के बंद होने के खिलाफ सीजेआई को पत्र लिखा, स्वत: संज्ञान लेने की मांग

आगे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

अनुच्छेद 227 के तहत हाईकोर्ट याचिकाएं तय करते समय अनुच्छेद 136 के दृष्टिकोण को नहीं अपना सकता : सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को कहा कि भारत के संविधान के अनुच्छेद 227 के तहत उच्च न्यायालय द्वारा याचिकाएं

आगे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Next Story