Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

"हम न्याय के लिए झुकेंगे, लेकिन अगर हमसे झूठ बोला जाएगा, तो हम अपने अधिकार क्षेत्र का उपयोग भी करेंगे", सुप्रीम कोर्ट ने रिकॉर्ड छुपाने पर याचिकाकर्ता को फटकारा

LiveLaw News Network
29 Nov 2020 10:04 AM GMT
हम न्याय के लिए झुकेंगे, लेकिन अगर हमसे झूठ बोला जाएगा, तो हम अपने अधिकार क्षेत्र का उपयोग भी करेंगे, सुप्रीम कोर्ट ने रिकॉर्ड छुपाने पर याचिकाकर्ता को फटकारा
x

ज‌स्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने शुक्रवार को कहा, "हम न्याय के लिए झुकेंगे, लेकिन अगर हमसे झूठ बोला जाएगा, तो हम अपने अधिकार क्षेत्र का उपयोग भी करेंगे।

जस्टिस चंद्रचूड़, इंदु मल्होत्रा ​​और इंदिरा बनर्जी की खंडपीठ दिल्ली हाईकोर्ट के 18 सितंबर के फैसले के खिलाफ दायर एसएलपी पर सुनवाई कर रही थी। याचिकाकर्ता भारतीय सेना के 130 वें टेक्निकल ग्रेजुएट कोर्स में कमीशन ऑफिसर की भर्ती में एक उम्मीदवार था। उम्मीदवारी को रद्द किए जाने के खिलाफ दायर उसकी याचिका को 21 जनवरी को रद्द कर दिया गया था। 7 अक्टूबर को समीक्षा याचिका भी खारिज कर दी गई थी।

जस्टिस चंद्रचूड़ ने सुप्रीम कोर्ट में एक जवाबी हलफनामा नहीं दायर कर पाने पर याचिकाकर्ता नाराजगी जताई थी, जबकि हलफनामा हाईकोर्ट में प्रस्तुत किया गया था।

पीठ ने कहा, "भारत के सर्वोच्च न्यायालय के समक्ष प्रै‌क्टिस इस स्तर तक गिर गई है? निचली अदालत में पेश किया जा चुका ‌रिकॉर्ड का एक हिस्सा सुप्रीम कोर्ट में छ‌िपाया जा रहा है? आपको लगता है कि यह एक व्यस्त अदालत है और आप इस अदालत के समक्ष काउंटर दाखिल नहीं करेंगे और एक आदेश प्राप्त कर लेगे?"

जस्टिस चंद्रचूड़ ने याचिकाकर्ता के वकील को कहा, "आपने काउंटर क्यों नहीं दायर किया? एक युवा आगे बढ़ने की कोशिश कर रहा है? और यह एक ऐसा व्यक्ति है जो सेना में जाना चाहता है। उसे बताएं कि हम इस बारे में बहुत गंभीर विचार कर रहे हैं।"

आखिरकार, पीठ ने वकील को सुनने के बाद एसएलपी खारिज कर दी।

मामले में हाईकोर्ट के समक्ष 28 जुलाई को याचिका प्रवेश के लिए आई थी। याचिकाकर्ता के वकील की दलील थी कि भर्ती प्रक्रिया में याचिकाकर्ता की उम्मीदवारी को रद्द कर दिया गया था। कारण यह था कि याचिकाकर्ता ने बीटेक (सिविल इंजीनियरिंग) में न्यूनतक 67% अंक नहीं प्राप्त किए थे, बल्‍कि 66.67% अंक प्राप्त किए थे। याचिकाकर्ता के 6000 अंकों में से 4037 अंक थे, जो 67.28% अंकों के बराबर था और उक्त कोर्स में भर्ती के लिए जारी व‌िज्ञापन में आवेदन आमंत्रित करने पर, न्यूनतम 67% अंक की सीमा निर्धारित नहीं थी।

उत्तरदाता संख्या एक से तीन, भारतीय सेना, की ओर से पेश वकील ने 11 अगस्त को कहा कि दिनांक 28 फरवरी, 2020 को प्रतिवादी संख्या 4, डॉ एपीजे अब्दुल कलाम तकनीकी विश्वविद्यालय, के अतिरिक्त परीक्षा नियंत्रक द्वारा सर्टिफिकेट जारी किया गया था, जबकि दिनांक 11 जनवरी, 2020 को जारी पहले प्रमाण पत्र में दिखाया गया था कि याचिकाकर्ता को 66.67% नंबर प्राप्त हुए थे, जिसे प्रतिवादी संख्या 4, डॉ एपीजे अब्दुल कलाम तकनीकी विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक ने जारी किया था; यह तर्क दिया गया था कि अतिरिक्त परीक्षा नियंत्रक, पहले प्रमाणपत्र का उल्लेख किए बिना और उसी की व्याख्या किए बिना, एक अलग तस्वीर को दर्शाते हुए दूसरा प्रमाण पत्र जारी नहीं कर सकते थे। यह उत्तरदाता संख्या एक से तीन के वकील की दलील थी ‌कि याचिकाकर्ता तथ्यों को छुपा रहा था और अन्य परीक्षाओं में जिसमें वह उपस्थित हुआ था, अपने नंबर अलग-अलग भरे थे। प्रतिवादी नंबर 1 से 3 भारतीय सेना द्वारा दायर किए गए जवाबी हलफनामे में संलग्न विभिन्न दस्तावेजों को ओर इस संबंध में ध्यान आकर्षित किया गया था।

उत्तरदाताओं के वकील की दलील थी कि विषय पाठ्यक्रम 14 जनवरी 2020 को शुरू हो गया था, इसलिए याचिकाकर्ता को शामिल होने की अनुमति देना संभव नहीं था। यह आगे कहा गया कि 21 जनवरी 2020 को याचिकाकर्ता को, आरोपित होने पर कार्रवाई का कारण, जब कैंसिलेशन लेटर जारी किया गया था, लेकिन याचिकाकर्ता द्वारा जारी किया गया पहला कानूनी नोटिस दो महीने के बाद काथा और यह याचिका पहले ही सामने आ गई थी...यह भी तर्क था कि याचिकाकर्ता ने अन्यथा झूठ और गलत बयानी की थी और किसी भी राहत के हकदार नहीं थे।

हाईकोर्ट ने प्रतिवादी नंबर 4 डॉ एपीजे अब्दुल कलाम तकनीकी विश्वविद्यालय के वकील को निर्देश दिया, जहां से याचिकाकर्ता ने अपना बी टेक (सिविल इंजीनियरिंग) किया था और उक्त विश्वविद्यालय के कुलपति से भी अनुरोध किया, कि प्रमाणित किया जाए कि उसने व्यक्तिगत रूप से रिकॉर्ड सत्यापित किया है।

11 सितंबर 2020 को, प्रतिवादी-विश्वविद्यालय द्वारा दायर किए गए हलफनामे / पत्र का अध्ययन किया गया और खुले न्यायालय में सम्मान के साथ संतोष व्यक्त किया गया था, हालांकि यह उस तारीख के आदेश में दर्ज नहीं किया गया था। आदेश में इसे रिकॉर्ड करना आवश्यक नहीं समझा गया क्योंकि यह पहले से ही आदेश में दर्ज किया गया था, कि 130 वें तकनीकी स्नातक पाठ्यक्रम जिसके लिए याचिकाकर्ता ने प्रतिस्पर्धा की थी, पहले से ही शुरू हो गया था; प्रतिवादी नंबर 4 डॉ एपीजे अब्दुल कलाम तकनीकी विश्वविद्यालय द्वारा जारी स्पष्टीकरण के आधार पर याचिकाकर्ता को कोई राहत देने से पहले और पूछताछ करना आवश्यक समझा गया। उत्तरदाताओं-भारतीय सेना के सक्षम अधिकारी की व्यक्तिगत उपस्थिति के लिए निर्देशित किया गया।

18 सितंबर की कार्यवाही में कर्नल वीएस नेगी, लेफ्टिनेंट कर्नल कुमार उमाशंकट, लेफ्टिनेंट कर्नल विवेक खंडूरी और मेजर एएस कटोच ने हिस्सा लिया।

हाईकोर्ट ने निर्णय में निम्न बिंदु दर्ज किए, "उन्होंने समझाया, (i) कि याचिकाकर्ता भारतीय सेना के तकनीकी स्नातक पाठ्यक्रम के केवल सिविल इंजीनियरिंग स्ट्रीम में शामिल होने के लिए योग्य था और केवल उक्त धारा में आवेदन किया था; (ii) हालांकि 130 वें तकनीकी ग्रेजुएट कोर्स के लिए प्रकाशित भर्ती के विज्ञापन में, सिविल इंजीनियरिंग की स्ट्रीम में 10 रिक्तियां थीं, मरिट सूची में याचिकाकर्ता 6 वें स्थान पर था, लेकिन उक्त कोर्स शुरू होने और पूरा होने के करीब है, याचिकाकर्ता की संभावना इसमें शामिल होने की नहीं है; (iii) रिक्ति की स्थिति प्रत्येक वर्ष के लिए विज्ञापित की जाती है और रिक्तियों को आगे नहीं बढ़ाया जाता है; (iv) कि 131 वां तकनीकी स्नातक पाठ्यक्रम 19 अक्टूबर, 2020 को शुरू होगा, भर्ती विज्ञापन में 131 वें पाठ्यक्रम के लिए, सिविल इंजीनियरिंग की स्ट्रीम में केवल 8 रिक्तियां हैं और जिसके लिए 17 उम्मीदवार योग्य थे और जिनमें से पहले 8 पाठ्यक्रम के लिए पहले ही चुने जा चुके हैं; (v) वर्तमान 131 वें तकनीकी स्नातक पाठ्यक्रम के लिए सिविल इंजीनियरिंग की धारा में 8 रिक्तियां पहले से ही भरी हुई हैं, याचिकाकर्ता को इसमें समायोजित नहीं किया जा सकता है; (vi) कि याचिकाकर्ता ने भारतीय सेना में शॉर्ट सर्विस कमीशन (SSC) के लिए भी आवेदन किया है और उसने 132 वीं तकनीकी ग्रेजुएट कोर्स के लिए भर्ती प्रक्रिया में आवेदन किया है और उसमें प्रतिस्पर्धा कर सकता है और यदि चयनित हो, तो वह 132 वें टेक्निकल ग्रेजुएट कोर्स में शामिल हो सकता है; और, (vii) कि याचिकाकर्ता को समायोजित करना संभव नहीं है।"

ऑर्डर डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें

Next Story