Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

शरजील इमाम ने दिल्ली कोर्ट में जमानत याचिका दायर कर सुप्रीम कोर्ट के राजद्रोह आदेश के लाभ की मांग की

Shahadat
27 May 2022 10:48 AM GMT
शरजील इमाम ने दिल्ली कोर्ट में जमानत याचिका दायर कर सुप्रीम कोर्ट के राजद्रोह आदेश के लाभ की मांग की
x

शरजील इमाम ने दिल्ली के कड़कड़डूमा कोर्ट में अपने खिलाफ एफआईआर में अंतरिम जमानत की मांग की है। उक्त एफआईआर में भारतीय दंड संहिता की धारा 124ए के तहत राजद्रोह का अपराध शामिल है। सुप्रीम कोर्ट ने अपने हालिया आदेश में केंद्र सरकार को उक्त प्रावधान पर पुनर्विचार करने तक राजद्रोह कानून को स्थगित रखने के लिए कहा था।

इमाम पर दिल्ली पुलिस द्वारा एफआईआर 22/2020 के तहत मामला दर्ज किया गया था। यूएपीए के तहत कथित अपराध को बाद में जोड़ा गया। एफआईआर नागरिकता संशोधन अधिनियम के खिलाफ दिल्ली के अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी और जामिया इलाके में उनके द्वारा दिए गए कथित भड़काऊ भाषणों से संबंधित है।

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अमिताभ रावत के समक्ष याचिका दायर की गई है, जिन्होंने उसे जमानत देने से इनकार कर दिया था और उक्त एफआईआर में उसके खिलाफ आरोप भी तय किए थे।

हाईकोर्ट ने गुरुवार को इमाम को अंतरिम जमानत के लिए निचली अदालत का दरवाजा खटखटाने की स्वतंत्रता दी थी, जब अभियोजन ने हाईकोर्ट के समक्ष अंतरिम जमानत आवेदन की स्थिरता पर प्रारंभिक आपत्ति उठाई थी। अभियोजन पक्ष ने यह प्रस्तुत किया कि 2014 के सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार, जमानत के लिए आवेदन पहले विशेष अदालत के समक्ष पेश किया जाना है। अगर इससे पीड़ित विशेष अदालत से संतुष्ट नहीं होता है तो उसके बाद वह हाईकोर्ट के समक्ष अपील कर सकता है।

याचिका में कहा गया,

"माननीय सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों को ध्यान में रखते हुए इस विशेष अदालत द्वारा आक्षेपित आदेश में उठाए गए बाधा को दूर किया गया है और इसलिए भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 124-ए के तहत अपराध के बारे में टिप्पणियों को याचिकाकर्ता के खिलाफ कार्यवाही में विचार नहीं किया जा सकता। हालांकि आईपीसी की धारा 124 की संवैधानिक चुनौतियों का अंतिम परिणाम आने अभी बाकी है।"

याचिका में कहा गया कि इमाम को लगभग 28 महीने तक जेल में रखा गया है, जबकि अपराधों के लिए अधिकतम सजा सात साल की कैद हो सकती है। इसमें आईपीसी की 124-ए के तहत अपराध शामिल नहीं हैं।

याचिका में आगे कहा गया,

"याचिकाकर्ता जमानत के लिए 'ट्रिपल टेस्ट' को पूरा करता है। इसके अलावा, यह अभियोजन पक्ष का मामला नहीं है [न ही किसी भी स्तर पर] कि आवेदक के फरार होने की संभावना है या किसी भी गवाह को प्रभावित करने या किसी सबूत से छेड़छाड़ करने का जोखिम है।"

अदालत ने इमाम के खिलाफ आईपीसी की धारा 124ए, 153ए, 153बी, 505 और यूएपीए की धारा 13 के तहत आरोप तय किए हैं।

केस टाइटल: शारजील इमाम बनाम दिल्ली के एनसीटी राज्य

Next Story