Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

जीवन के अधिकार का अभिन्न अंग है बिजली; वितरक का यह कर्तव्य कि आवेदन के एक महीने के भीतर कनेक्शन प्रदान करेः केरल हाईकोर्ट

LiveLaw News Network
16 March 2021 10:43 AM GMT
जीवन के अधिकार का अभिन्न अंग है बिजली; वितरक का यह कर्तव्य कि आवेदन के एक महीने के भीतर कनेक्शन प्रदान करेः केरल हाईकोर्ट
x

केरल उच्च न्यायालय ने सोमवार को एक आदेश में केरल राज्य बिजली बोर्ड के दो कर्मचारियों को राहत देने से इनकार कर दिया, जिन्होंने एक व्यक्ति को बिजली कनेक्शन देने में देरी की थे। उस व्यक्ति ने कनेक्शन के लिए आवेदन किया था।

जस्टिस मुरली पुरुषोत्तम की एकल पीठ ने घोषणा की, "बिजली जीवन में एक बुनियादी आवश्यकता है। पानी और बिजली भारत के संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत जीवन के अधिकार का अभिन्न अंग हैं।"

विद्युत अधिनियम, 2003 की धारा 43 का उल्लेख करते हुए, अदालत ने कहा कि इस तरह की आपूर्ति की आवश्यकता वाले आवेदन की प्राप्ति के बाद एक महीने के भीतर आवेदकों को विद्युत कनेक्शन प्रदान करना वितरण लाइसेंसधारी का वैधानिक कर्तव्य है।

केसीबी के दो अधिकारियों की ओर से उपभोक्ता शिकायत निवारण फोरम और राज्य विद्युत नियामक आयोग द्वारा एक व्यक्ति सैनुद्दीन के घर बिजली कनेक्‍शन करने में देरी के मामले में लगाए गए जुर्माने के ‌खिलाफ दायर याचिका पर अदालत ने उक्त टिप्पणियां की।

इस संबंध में, न्यायालय ने काव्यात्मक रूप से अवलोकन किया, "अपने छोटे से घर में एक छोटे से बल्ब को जलाने के लिए सैनुद्दीन को लंबी दौड़ लगानी पड़ी। उपभोक्ता शिकायत निवारण फोरम (CGRF) के एक आदेश भी उसके घर का अंधेरा खत्म नहीं कर सका और राज्य नियामक आयोग ने दो अधिकारियों पर जुर्माना लगा दिया।

बिजली कनेक्शन देने में देरी के लिए बोर्ड और इस तरह ये दोनों अधिकारी इस अदालत के समक्ष हैं।"

याचिकाकर्ताओं ने प्रथम दृष्टया यह कहते हुए कि सैनुद्दीन के आवेदन पर आपत्त‌ि जताई थी कि उनके घर का निर्माण लो टेंशन (एलटी) लाइन से न्यूनतम दूरी बनाए बिना किया गया था, और लाइन शिफ्ट होने के बाद ही बिजली कनेक्शन की अनुमति दी जा सकती थी।

केएसईबी उपभोक्ता शिकायत निवारण फोरम (CGRF) के समक्ष सैनुद्दीन की ओर से शिकायत दर्ज करने के बाद, आयोग ने याचिकाकर्ताओं को निर्देश दिया कि वे सैनुद्दीन से अनुमानित राशि एकत्र करने के बाद 21 दिनों के भीतर एलटी लाइन को स्थानांतरित कर दें।

अनुमानित राशि जमा होने के बावजूद, याचिकाकर्ताओं ने बिजली की व्यवस्था करने का कोई प्रयास नहीं किया।

राज्य विद्युत विनियामक आयोग को किए गए अभ्यावेदन में याचिकाकर्ताओं और केएसईबी के सहायक अभियंता ने कहा कि सैनुद्दीन के घर से लगी संपत्ति के मालिक की सहमति के बाद ही लाइन को स्थानांतरित किया जाना था।

आगे की कार्यवाही के बाद, और CGRF के आदेश पर पुनर्विचार की मांग करने के याचिकाकर्ताओं द्वारा विनियामक आयोग से किए गए अनुरोध पर, विनियामक आयोग ने पाया कि CGRF आदेश का इच्छा से नहीं किया गया था।

उक्त कार्रवाई को विद्युत अधिनियम के प्रावधानों का अनुपालन नहीं करने जैसा मानते हुए विदयुत अधिनियम 142 के तहत पहले याचिकाकर्ता पर 50,000 और दूसरे याचिकाकर्ता पर 25,000 रुपए का जुर्माना लगाया गया।

इसके अलावा, आयोग ने याचिकाकर्ताओं के इस तर्क को खारिज कर दिया कि देरी का कारण पास की संपत्ति के मालिक से सहमति पत्र का नहीं होना था।

यह मानते हुए कि इन कारणों को पहले उदाहरण में CGRF से इच्छापूर्वक छुपाया गया गया था, आयोग ने कहा अन्य आसान तकनीकी विकल्पों पर विचार नहीं किया गया था। इसी आलोक में, जुर्माना लगाया गया था।

इन निष्कर्षों से सहमत, कोर्ट ने कहा, "यह न्यायालय एक्सटी पी 18 में नियामक आयोग की खोज से सहमत है कि रिट याचिकाकर्ताओं ने अपनी इच्छा से CGRF को सूचित नहीं किया कि लाइन को स्थानांतरित करने के लिए चौ‌थे प्रतिवादी के परिसर में एक स्टे वायर लगाया जाना है और वे CGRF के समक्ष उनके द्वारा प्रस्तुत प्रस्ताव पर वापस चले गए। CGRF के Ext.P4 आदेश को रिट याचिकाकर्ताओं ने रोक दिया है। यह न्यायालय भी नियामक आयोग के विचार से सहमत है कि जब आसान तकनीकी विकल्प ... उपलब्ध हैं, ऐसे विकल्पों का सहारा लिया जाए। "

केएसईबी की भूमिका पर, अदालत ने अतिरिक्त रूप से रेखांकित किया, " पहला प्रतिवादी बोर्ड राज्य के भीतर बिजली के लिए एकमात्र वितरण लाइसेंसधारी है और इसलिए बोर्ड और उसके अधिकारी बिना किसी देरी के आवेदकों को बिजली की आपूर्ति प्रदान करने के लिए हर संभव प्रयास करेंगे।"

कोर्ट को सूचित किया गया कि सैनिद्दीन के घर में बिजली की व्यवस्था की गई है और याचिका खारिज कर दी गई।

निर्णय डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें

Next Story