Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

केरल हाईकोर्ट ने 'बॉन्ड' और 'एग्रीमेंट' के बीच अंतर समझाया

LiveLaw News Network
19 Oct 2021 9:38 AM GMT
केरल हाईकोर्ट ने बॉन्ड और एग्रीमेंट के बीच अंतर समझाया
x

केरल हाईकोर्ट ने हाल ही में अनुबंध (agreement) और बॉन्ड (bond) के बीच के अंतर स्थापित करते हुए दोहराया कि किसी इंस्ट्रूमेंट के बॉन्ड के चरित्र में आने के लिए यह आवश्यक है कि इंस्ट्रूमेंट (साधन) में ही दायित्व उत्पन्न हो।

न्यायालय के समक्ष प्रश्न यह था कि क्या पक्षकारों द्वारा किया गया एग्रीमेंट केरल स्टाम्प अधिनियम, 1959 की धारा 2 (ए) के तहत परिभाषित एक बॉन्ड है या एक समझौता।

न्यायमूर्ति विजू अब्राहम ने निर्णय पर आने के लिए कई ऐतिहासिक फैसलों के अंशों का उल्लेख करते हुए कहा:

"बॉन्ड की विशिष्ट विशेषता यह है कि दायित्व इंस्ट्रूमेंट में ही उत्पन्न होना चाहिए और यदि दायित्व पहले से मौजूद रहे तो यह एक बॉन्ड के चरित्र का हिस्सा नहीं है ... जहां एक दायित्व एक पूर्व- मौजूदा दायित्व की प्रकृति या अनुबंध के नियमों और शर्तों को बताते हुए बाद का दस्तावेज एक मात्र समझौता होगा।"

यह पाते हुए कि दस्तावेज़ के निष्पादन की तारीख के अनुसार याचिकाकर्ता को भुगतान की जाने वाली बकाया राशि के समझौते में एक विशिष्ट स्वीकृति थी, इसे केवल एक समझौते के रूप में माना जा सकता है। यह एक बांड के चरित्र का हिस्सा भी नहीं है, जैसा कि अधिनियम की धारा 2(ए) में परिभाषित किया गया है।

इसलिए, यह माना गया कि उक्त दस्तावेज को केवल एक समझौते के रूप में माना जा सकता है न कि बॉन्ड के रूप में।

पृष्ठभूमि:

याचिकाकर्ता और प्रतिवादी ने वर्षों से कई व्यापारिक लेन-देन किए और उन्होंने खातों के निपटान पर इसे समाप्त करने का निर्णय लिया। यह पाया गया कि प्रतिवादी द्वारा 53,57,000/- की राशि देय थी। उसके आधार पर 16 जनवरी 2017 को एक समझौता और एक वचन पत्र निष्पादित किया गया।

तदनुसार, प्रतिवादी से 54 लाख रुपये से अधिक की राशि की वसूली के लिए निचली अदालत के समक्ष एक मुकदमा दायर किया गया।

हालांकि, अदालत ने पाया कि भुगतान करने का दायित्व उक्त समझौते द्वारा ही बनाया गया था; इसलिए दस्तावेज़ में एक बांड का चरित्र है और याचिकाकर्ता को स्टाम्प शुल्क और दंड का भुगतान करने का निर्देश दिया है।

याचिकाकर्ता ने अतिरिक्त उप न्यायालय के उक्त आदेश के खिलाफ हाईकोर्ट का रुख किया।

आपत्तियां:

याचिकाकर्ता की ओर से पेश अधिवक्ता एन एम मधु ने तर्क दिया कि विवादित दस्तावेज को पढ़ने से स्पष्ट रूप से पता चलता है कि इससे कोई दायित्व उत्पन्न नहीं हुआ और इसे केवल पहले से मौजूद दायित्व को स्वीकार करने के लिए निष्पादित किया गया था, इसलिए उन्होंने तर्क दिया कि एक दस्तावेज जिसके द्वारा निष्पादक प्रदान की गई अवधि के भीतर एक पूर्व-मौजूदा देयता को समाप्त करने का वचन दिया गया है, केवल एक समझौता है न कि बॉन्ड।

यह तर्क दिया गया कि स्टाम्प शुल्क और जुर्माने का भुगतान करने का निर्देश इसे एक बांड के रूप में मानते हुए न्यायालय द्वारा अपास्त किए जाने योग्य है।

प्रतिवादी का प्रतिनिधित्व करने वाले अधिवक्ता वी.वी सुरेंद्रन ने तर्क दिया कि खाते का निपटान उक्त समझौते के अनुसार किया गया था और खातों के निपटान के अनुसार याचिकाकर्ता को भुगतान की जाने वाली राशि दस्तावेज़ के खंड (3) में स्पष्ट रूप से बताई गई है।

यह तर्क दिया गया कि उक्त दस्तावेज़ द्वारा ही राशि का भुगतान करने का दायित्व उत्पन्न हुआ है, इसलिए यह अधिनियम की धारा 2(ए) में परिभाषित बॉन्ड की परिभाषा के अंतर्गत आएगा।

अवलोकन:

अदालत ने यह तय करने के लिए अधिनियम की धारा 2 (ए) के प्रावधानों की जांच की कि क्या विवादित दस्तावेज बॉन्ड के रूप में योग्य है। इस तरह की जांच में पाया गया कि किसी इंस्ट्रूमेंट के बॉन्ड के चरित्र में आने के लिए यह आवश्यक है कि इंस्ट्रूमेंट (साधन) में ही दायित्व उत्पन्न हो।

इस तरह की समझ पर बेंच ने तब प्रश्न में दस्तावेज़ का विश्लेषण किया। उक्त लिखत के खंड (2) में केवल यह कहा गया कि दोनों पक्षों ने उक्त तिथि पर पूर्ण संतुष्टि में आपसी सहमति से पिछले तीन वर्षों के दौरान किए गए उक्त व्यापारिक लेनदेन में शामिल खातों का निपटान किया।

आगे समझौते के खंड (3) में प्रतिवादी स्वीकार करता है कि उस पर याचिकाकर्ता का 53,57,000/- रुपये बकाया है। साथ ही वह स्वीकार करता है कि याचिकाकर्ता को भुगतान किए जाने के लिए 53,57,000/- रुपये बकाया हैं।

कोर्ट ने पाया कि क्लॉज (3) में शब्दों ने यह स्पष्ट कर दिया कि यह केवल उस राशि की एक स्वीकृति है जो याचिकाकर्ता को दस्तावेज के निष्पादन की तारीख के अनुसार बकाया है। उक्त समझौते के अनुसार, प्रतिवादी ने केवल मौजूदा देयता को को एक समय सीमा के भीतर चुकाने का वचन दिया।

चूंकि दस्तावेज़ के निष्पादन की तारीख को याचिकाकर्ता को भुगतान की जाने वाली बकाया राशि के समझौते में एक विशिष्ट स्वीकृति थी तो इसे केवल एक समझौते के रूप में माना जा सकता है और यह एक बॉन्ड के चरित्र का हिस्सा नहीं है जैसा कि अधिनियम की धारा 2(ए) में परिभाषित किया गया है।

विचाराधीन लिखत याचिकाकर्ता को प्रतिवादी द्वारा भुगतान की जाने वाली राशि की केवल पूर्व-मौजूदा देयता को स्वीकार करता है।

मामले के तथ्यों और परिस्थितियों में यह माना गया कि उक्त दस्तावेज को केवल एक समझौते के रूप में माना जा सकता है न कि बांड के रूप में, इसलिए मूल याचिका को अनुमति दी गई और ट्रायल कोर्ट के आदेश को रद्द कर दिया गया।

केस शीर्षक: सफीर बनाम साजिद

ऑर्डर डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें




Next Story