Top
Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

आनंद विवाह अधिनियम: उत्तराखंड हाईकोर्ट ने सिख विवाह के लिए नियम अधिसूचित करने के निर्देश की मांग करने वाली याचिका पर राज्य को नोटिस जारी किया

LiveLaw News Network
9 July 2021 6:27 AM GMT
आनंद विवाह अधिनियम: उत्तराखंड हाईकोर्ट ने सिख विवाह के लिए नियम अधिसूचित करने के निर्देश की मांग करने वाली याचिका पर राज्य को नोटिस जारी किया
x

उत्तराखंड हाईकोर्ट ने बुधवार को राज्य सरकार को एक याचिका पर नोटिस जारी कर आग्रह किया कि राज्य सरकार को आनंद विवाह अधिनियम, 1909 के तहत नियमों को अधिसूचित करना चाहिए।

मुख्य न्यायाधीश आरएस चौहान और न्यायमूर्ति आलोक कुमार वर्मा की पीठ ने राज्य को याचिका पर जवाब देने के लिए चार सप्ताह का समय दिया है।

पक्षकार अमनजोत सिंह चड्ढा द्वारा व्यक्तिगत रूप से दायर की गई याचिका में कहा गया कि अधिनियम धारा छह के तहत राज्य सरकार पर आनंद विवाह के पंजीकरण के लिए नियम बनाने के लिए एक कर्तव्य डालता है, क्योंकि आनंद विवाह पंजीकरण के लिए उत्तराखंड राज्य में कोई मौजूदा ढांचा नहीं है। इसने विवाह पंजीकरण के उनके अधिकार में बाधा उत्पन्न की।

यह ध्यान दिया जा सकता है कि संसद ने जून 2012 में अधिनियम में संशोधन किया था और राज्यों को सिख विवाह के पंजीकरण के लिए नियम बनाने का आदेश दिया था।

याचिका में कहा गया है कि राज्य विधानमंडल ने पहले ही उत्तराखंड अनिवार्य विवाह पंजीकरण अधिनियम 2010 पारित कर दिया है, जो उत्तराखंड राज्य में होने वाले सभी विवाहों के अनिवार्य पंजीकरण का प्रावधान करता है। हालांकि, दूसरी ओर राज्य द्वारा आनंद विवाह अधिनियम के तहत विवाह पंजीकरण के नियम बनाने के लिए कोई नियम अधिसूचित नहीं किया गया है।

याचिका में कहा गया,

"आनंद विवाह अधिनियम, 1909 के तहत उत्तराखंड राज्य में सिख विवाहों का पंजीकरण न करना अनुच्छेद 14 का उल्लंघन करके सिख धर्म को मानने वाले जोड़ों को प्रतिकूल रूप से प्रभावित कर रहा है। आगे धर्म को मानने और अभ्यास करने की उनकी स्वतंत्रता का उल्लंघन कर रहा है, जो भारत के संविधान के अनुच्छेद 25 और 26 के तहत संरक्षित है।"

इस बात पर बल देते हुए कि भारत के संविधान के अनुच्छेद 25 और 26 के तहत प्रत्येक नागरिक को अपने धर्म का पालन करने और अपनी धार्मिक पहचान बनाए रखने का अधिकार दिया गया है। याचिका में कहा गया है कि शादियों को एक समुदाय की पहचान और किसी भी तंत्र के गैर-कार्यान्वयन से जोड़ा जाता है। इन विवाह समारोहों के पंजीकरण के लिए ऐसे अधिकारों का हनन होता है।

Next Story