Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

भारत की जिला न्यायालयों में 3.5 करोड़ मामले लंबित :अधीनस्थ न्यायालयों में अधिक न्यायाधीशों की नियुक्ति के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका

LiveLaw News Network
19 Jan 2021 4:37 AM GMT
भारत की जिला न्यायालयों में  3.5 करोड़ मामले लंबित :अधीनस्थ न्यायालयों में अधिक न्यायाधीशों की नियुक्ति के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका
x

भारत में अधीनस्थ न्यायालयों में मामलों के लंबे समय से लंबित रहने के मुद्दे को रेखांकित करते हुए, सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की गई है, जिसमें समय-सीमा के भीतर न्यायाधीशों की नियुक्ति के लिए औपचारिक दिशानिर्देश और प्रक्रियाओं के नियम की मांग की गई है।

याचिका कानून के अंतिम वर्ष के छात्र श्रीकांत प्रसाद द्वारा दायर की गई है, जिसमें कहा गया है कि न्याय के प्रशासन में देरी से पीड़ितों और अभियुक्तों को मानसिक उत्पीड़न होता है, और ये संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत जीने के अधिकार की गारंटी से इनकार करने के समान है। [हुसैनारा खातून (IV) बनाम गृह सचिव, बिहार राज्य [(1980) 1 SCC 98]
याचिकाकर्ता ने कहा है कि भारत की जिला न्यायालयों में लगभग 3.5 करोड़ मामले लंबित हैं, जिनमें से लगभग 2.5 करोड़ मामले आपराधिक प्रवृत्ति के हैं। इसके अलावा, 30 वर्ष से अधिक के लगभग 56,000 मामले लंबित हैं।
"न्यायिक बैकलॉग और देरी के मुद्दे को व्यापक रूप से स्वीकार किया गया है और बड़े पैमाने पर इसके बारे में लिखा गया है, लेकिन ऐसा लगता है कि इसका हल कहीं नहीं हो रहा है। आज, एक वादी को अदालत के गलियारों में दशकों तक अटका कर रखा जा सकता है ... मूल वादी उस समय तक जीवित भी नहीं रहते जब न्यायालय उनके मुद्दे को हल करता है। दशकों के बाद दिए गए किसी भी फैसले को 'न्याय' के रूप में वर्णित करना डींग मारना ही है, "याचिका में कहा गया है।
याचिका में पहचान की गई है कि न्याय में इतनी देरी के पीछे प्राथमिक कारण अधीनस्थ न्यायालयों में न्यायाधीशों और संबंधित कर्मचारियों की कमी है। केंद्रीय कानून मंत्रालय द्वारा प्रकाशित 2019 की रिपोर्ट पर भरोसा करते हुए, याचिकाकर्ता ने कहा कि 2014 में 17 की तुलना में देश में प्रति 10 लाख लोगों पर केवल 20 न्यायाधीश हैं।
इसके परिणामस्वरूप प्रत्येक दिन एक न्यायाधीश के समक्ष बहुत सारे मामलों की सूची होती है, और इतने सारे मामलों को सार्थक रूप से सुनना असंभव हो जाता है, इस प्रकार यह अनिवार्य रूप से कई बार स्थगन किया जाता है, याचिका में कहा गया है।
इसके अलावा, सर्वोच्च न्यायालय द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, अधीनस्थ न्यायपालिका को 20,000 से अधिक न्यायिक अधिकारियों को समायोजित करने के लिए 5,000 से अधिक न्यायालयों की आवश्यकता है। 40,000 से अधिक कर्मचारियों के पदों को भरने की भी आवश्यकता है, जो कई वर्षों से खाली पड़े हैं।
इस पृष्ठभूमि में, याचिकाकर्ता ने न्यायालय से आग्रह किया है कि वह संबंधित अधिकारियों को अधीनस्थ न्यायालयों के रिक्त पदों को भरने के लिए निर्देश दे और ऑल इंडिया जज एसोसिएशन और अन्य बनाम भारत संघ और अन्य 2002 SC 247 में निर्धारित अनुपात में न्यायाधीशों की संख्या भी बढ़ाए।
इस मामले में शीर्ष अदालत ने केंद्र सरकार के साथ-साथ राज्य सरकारों को भी निर्देश दिया था कि वे मुकदमों पर अंकुश लगाने के लिए ट्रायल कोर्ट में जजों की संख्या बढ़ाएं।
इसके अलावा, याचिकाकर्ता ने सुझाव दिया है कि सर्वोच्च न्यायालय और उच्च न्यायालय संविधान के अनुच्छेद 127 के तहत अपनी शक्तियों का प्रयोग करते हुए प्रभावी और कुशल न्यायाधीशों को एड-हॉक न्यायाधीशों के रूप में नियुक्त कर सकते हैं।
अधीनस्थ न्यायालयों में बुनियादी ढांचे को ठीक से बनाए रखने को सुनिश्चित करने के लिए एक और दिशानिर्देश मांगा गया है।

याचिका यहाँ से डाउनलोड करें

Next Story