Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

प्रत्यक्ष भेदभाव अब अधिक प्रणालिगत हो गया है; जातिवादी, ताकतवर और पितृसत्तात्मक, लिंगवादी पदानुक्रम समाज में गहराई तक धंसी संरचनाएं हैंः जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़

LiveLaw News Network
15 April 2021 10:34 AM GMT
प्रत्यक्ष भेदभाव अब अधिक प्रणालिगत हो गया है; जातिवादी, ताकतवर और पितृसत्तात्मक, लिंगवादी पदानुक्रम समाज में गहराई तक धंसी संरचनाएं हैंः जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़
x

जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने बुधवार को कहा, "यह दलील दी जा सकता है कि भारत के संविधान के 70 वर्षों बाद, जाति-आधारित भेदभाव अब मौजूद नहीं है क्योंकि अस्पृश्यता और अन्य जातिगत अत्याचारों को गैरकानूनी बना दिया गया है।

हालांकि, अब अपरोक्ष भेदभाव अधिक प्रणालिगत हो गया है! जातिवादी, सक्षम और पितृसत्तात्मक, लिंगवादी पदानुक्रम हमारे समाज में गहराई तक धंसी संरचनाएं हैं।"

जस्टिस चंद्रचूड़ CEDE नामक एक संगठन के वर्चुअल लॉन्च इवेंट में बोल रहे थे। यह संगठन वकीलों, कानूनी फर्मों, जजों और अन्य संगठनों और व्यक्तियों का एक नेटवर्क, जो भारतीय कानूनी पेशे को सुधारने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

"भेदभाव अब महिलाओं के लिए निकृष्ट लैंगिक भूमिकाओं के रूप में प्रकट होता है, ऐसे पूर्वाग्रह का इंधन यह होता है कि महिलाएं कुछ नौकरियों के लिए फिट नहीं हैं, बहुजनों के लिए कुछ कम पैसे की और शोषणकारी नौकरियां दी जाती हैं और विकलांगों को अलग-थलग किया जाता है।"

उन्होंने बताया कि सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल बबीता पुनिया के मामले में महिला अधिकारियों को स्थायी कम‌िशन के लिए आवेदन करने से रोकने के लिए भारतीय सेना की प्रथा को भेदभावपूर्ण माना, जिसके बाद बड़ी संख्या महिला अधिकारियों ने स्‍थायी कमिशन देने के कार्यप्रणाली पर इस साल फिर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया-

"अप्रत्यक्ष भेदभाव को बढ़ावा देते हुए, अधिकारी इन महिलाओं पर पुरुष अधिकारियों के समान चिकित्सा और मूल्यांकन मानदंड को लागू कर रहे थे। 40 से 50 वर्ष आयु वर्ग के महिला अधिकारियों को युवावस्था के पुरुष अधिकारी के मानकों को पूरा करने की आवश्यकता थी!"

ज‌स्ट‌िस चंद्रचूड़ ने कहा, "साक्षात्कारों में, महिलाओं से उनकी शादी और बच्चे की देखभाल की योजना के बारे में बार-बार पूछताछ की जाती है, ताकि यह निर्धारित किया जा सके कि एक संस्थान को एक उम्मीदवार के रूप में उनमें निवेश करना चाहिए। उनसे यह भी पूछा जाता है कि क्या वे कानून को एक कैरियर या अल्पकालिक शौक के रूप में देख रही हैं।

पुरुषों से इन प्रश्नों को कोई नहीं पूछता है! हालांकि चौखट पर पुरुषों और महिलाओं के उम्मीदवारों की संख्या समान है, यह समानता उन लोगों की संख्या में परिलक्षित नहीं होती है जो कानून फर्मों के पार्टनर हैं, वरिष्ठ अधिवक्ता या यहां तक ​​कि जज हैं। यहां तक ​​कि सुप्रीम कोर्ट में भी बहुजन, आदिवासियों, दलितों, महिलाओं, विकलांगों का प्रतिनिधित्व मामूली रहा है।"

जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि कानूनी बिरादरी में भेदभाव महामारी का रूप ले चुका है, लॉ स्कूल में प्रवेश करने से पहले ही भेदभाव शुरू हो जाता है। अधिकांश टॉप लॉ स्कूल, जहां पांच वर्षीय एकीकृत लॉ कोर्स पढ़ाया जाता है, एक प्रतियोगी परीक्षा लेते हैं, जो केवल अंग्रेजी में होता है, इसके अलावा अंग्रेजी का एक अलग पेपर होता है।

इसका प्रभाव यह है कि केवल उच्च-गुणवत्ता वाली अंग्रेजी माध्यम की शिक्षा प्राप्त करने वाले विशेषाधिकार प्राप्त छात्र ही इसके इसे पास कर पाने में सक्षम होते हैं, जबकि कमजोर वर्गों के वे छात्र जिनकी शिक्षा राष्ट्रीय या क्षेत्रीय भाषाओं में हुई है और जो न्यायिक सेवाओं में प्रवेश करने की आकांक्षा रखते हैं, इन संस्थानों में पढ़ने से वंचित रह जाते हैं....।"

जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा, "एक जज के रूप में हर‌ दिन, कई प्रकार के भेदभाव को देखता हूं। अदालत में मौजूदा कानूनी मामले जातिगत अत्याचार, यौन हिंसा, उचित आवास की मांग में अनुचित कठिनाइयों की कहानियां हैं ... मेरे सहयोगी न्याय करने का प्रयास करते हैं, लेकिन हमें याद दिलाया जाता है कि हमारा हस्तक्षेप भेदभावपूर्ण रवैये की व्यापक सुधार नहीं कर सकता हैं।"

Next Story