Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

कानून मंत्रालय को उचित समय के भीतर कॉलेजियम की सिफारिशों का जवाब देना चाहिएः सुप्रीम कोर्ट ने 55 लंबित नामों पर एजी से जवाब मांगा

LiveLaw News Network
25 March 2021 8:36 AM GMT
कानून मंत्रालय को उचित समय के भीतर कॉलेजियम की सिफारिशों का जवाब देना चाहिएः सुप्रीम कोर्ट ने 55 लंबित नामों पर एजी से जवाब मांगा
x

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को हाईकोर्ट में न्यायाधीशों के लिए 55 नामों की कॉलेजियम द्वारा की गई सिफारिशों पर फैसला करने में देरी पर भारत के अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल के माध्यम से केंद्र सरकार से जवाब मांगा है।

भारत के मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे, न्यायमूर्ति संजय किशन कौल और न्यायमूर्ति सूर्यकांत की पीठ ने 8 अप्रैल को एजी के जवाब की मांग की।

न्यायमूर्ति कौल ने एजी से कहा कि उन्होंने अखिल भारतीय आधार पर कानून और न्याय मंत्रालय के स्तर पर कॉलेजियम की सिफारिशों की पेंडेंसी के संबंध में एक चार्ट तैयार किया है।

न्यायमूर्ति कौल ने पूछा,

"45 नाम हैं, जो हाईकोर्ट द्वारा अनुशंसित किए गए हैं, लेकिन (एससी) कॉलेजियम को नहीं भेजे गए हैं। कॉलेजियम द्वारा 10 नामों को मंजूरी दे दी गई है, जो अधिसूचना का इंतजार कर रहे हैं। क्या आप कॉलेजियम के लिए 45 नामों का प्रस्ताव रखते हैं और आप नियुक्ति के लिए बाकी 10 नामों की कब अधिसूचना जारी करेंगे?"

न्यायमूर्ति कौल ने कहा कि,

"कॉलेजियम द्वारा सिफारिशें किए जाने के बाद कानून मंत्रालय को जवाब देने के लिए एक उचित समय सीमा होनी चाहिए।"

न्यायमूर्ति कौल ने कहा कि ऐसे नाम हैं, जिन्हें हमने मंजूरी दे दी है लेकिन कानून मंत्रालय ने 6 महीने से अधिक समय से उन्हें मंजूरी नहीं दी है।

सीजेआई बोबडे ने अटॉर्नी जनरल से कहा,

"मेरे काबिल दोस्त ने एक चार्ट तैयार किया है, जिसे आपके पास भेजा जाएगा। आप समय सीमा के बारे में एक जवाब देंगे, जिसके भीतर इन 55 नामों (45 + 10) का फैसला किया जाएगा।"

एजी ने सुनवाई की अगली तारीख 8 अप्रैल तक जवाब दाखिल करने पर सहमति व्यक्त की।

पीठ इस मामले पर विचार कर रही थी कि पीएलआर प्रोजेक्ट्स लिमिटेड बनाम महानदी कोलफील्ड्स प्राइवेट लिमिटेड, जो कि 2019 में एक ट्रांसफर पीटीशन है, सुप्रीम कोर्ट में उड़ीसा हाईकोर्ट से एक केस स्थानांतरित करने की मांग कर रही है। इस मामले पर विचार करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने मंत्रालय स्तर पर कॉलेजियम की सिफारिशों की पेंडेंसी के मुद्दे पर रोक लगा दी थी।

दिसंबर 2019 में जस्टिस एसके कौल और जस्टिस केएम जोसेफ की खंडपीठ ने मामले में एक आदेश पारित किया था, जिसमें कहा गया था कि हाईकोर्ट कॉलेजियम द्वारा अनुशंसित व्यक्ति, जिन्हें सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम और सरकार द्वारा अनुमोदित किया जाता है, उन्हें 6 महीने के लिए नियुक्त किया जाना चाहिए।

2019 में मामले की पहले की सुनवाई में पीठ ने टिप्पणी की थी कि हाईकोर्ट के न्यायाधीशों के लगभग 40% स्वीकृत पद खाली पड़े थे और अटार्नी जनरल से नियुक्ति प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए कदम उठाने का आग्रह किया।

"... यह निर्धारित किया गया है कि एक प्रयास यह किया जाना चाहिए कि रिक्तियों के लिए सिफारिशें छह महीने पहले भेजी जाती हैं। यह एक ऐसा पहलू है जिस पर हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीशों की निगाह रहेगी। छह महीने की यह अवधि अपेक्षा से उत्पन्न होती है। उक्त अवधि सिफारिश के चरण से नियुक्ति तक नामों को संसाधित करने के लिए पर्याप्त होगी।

पीठ ने नवंबर 2019 में पारित एक आदेश में कहा था,

इस प्रकार, अग्रिम में छह महीने के नाम भेजना तभी सार्थक होगा, जब तक नियुक्ति की प्रक्रिया छह महीने के भीतर पूरी न हो जाए, जो एक काम है, जिसे सरकार को करना चाहिए।"

Next Story