Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

"सिस्टम हम पर हंस रहा है": गुजरात हाईकोर्ट ने बलात्कार के दोषी, जिसके साथ 'पीड़िता' ने स्वेच्छा से शादी की और बच्चों को जन्म दिया, उसे रिहा करने का आदेश दिया

LiveLaw News Network
13 Aug 2021 7:40 AM GMT
सिस्टम हम पर हंस रहा है: गुजरात हाईकोर्ट ने बलात्कार के दोषी, जिसके साथ पीड़िता ने स्वेच्छा से शादी की और बच्चों को जन्म दिया, उसे रिहा करने का आदेश दिया
x

गुजरात हाईकोर्ट ने पिछले सप्ताह यह देखते बलात्कार के एक दोषी की सजा को निलंबित कर उसे रिहा करने का आदेश दिया कि कथित पीड़िता ने स्वीकार किया है कि वह दोषी के साथ विवाह कर चुकी है, उसके साथ रहना शुरू कर दिया, और यहां तक कि उसके दो बच्चों को जन्म दिया है।

दोषसिद्धि के फैसले और उस व्यक्ति के खिलाफ पारित आदेश पर टिप्पणी करते हुए, जस्टिस परेश उपाध्याय की खंडपीठ ने मौखिक रूप से गुजराती में कहा:

"बिना विवेक का प्रयोग किया कानून का कार्यान्वयन ... हमें ऐसे मामलों पर सामूहिक रूप से सोचना होगा। मुझे ट्रायल कोर्ट का दोष नहीं दिखता क्योंकि यह कानून को लागू करने के लिए बाध्य था, यहां तक ​​​​कि अभियोजन पक्ष को भी दोषी नहीं ठहराया जा सकता है।"

आदमी और 'पीड़ित' मुकदमे के लंबित रहने के दौरान भी साथ रह रहे थे क्योंकि वह आदमी जमानत पर बाहर था और यहां तक कि निचली अदालत ने भी इस तथ्य पर ध्यान दिया कि वह आदमी और 'पीड़ित' एक-दूसरे के साथ पति-पत्नी के रूप में रह रहे थे और उनके बच्चे भी थे।

इसे मामले का चमकदार पहलू बताते हुए, कोर्ट ने कहा कि न तो दो बच्चों की मां ('पीड़ित') और न ही पिता (बलात्कार के दोषी) ने उनके जन्म और न ही पितृत्व से इनकार किया और फिर भी पिता को अन्य बातों के साथ भारतीय दंड संहिता की धारा 376 के तहत दोषी ठहराया गया है और 10 साल सश्रम कारावास का आदेश दिया गया।

वास्तव में, सत्र न्यायालय इस तथ्य से भी अवगत था कि पीड़ित और आदमी ने एक-दूसरे से विवाह किया है, क्योंकि उसने अपने फैसले में कहा था कि दोनों पति-पत्नी के रूप में रह रहे हैं और इस प्रकार, किसी भी सरकार से प्राप्त कोई मुआवजा/सहायता वापस करने की जरूरत है।

जस्टिस उपाध्याय ने मौखिक रूप से कहा, "सिस्टम हम पर हंस रहा है कि 16 साल से अधिक उम्र की लड़की ने खुद ही उस आदमी से शादी की और बच्चों को जन्म दिया, और उसका पति बलात्कार का दोषी है और जेल में है।"

उन्होंने कहा, "वह आरोपी हाथों पीड़‌ित नहीं हुई है, बल्‍कि वह स‌िस्टम के हाथों पीड़ित हुई है।"

नतीजतन, इन परिस्थितियों में, अदालत ने फैसला सुनाया कि वर्तमान अपीलकर्ता को और अधिक हिरासत में नहीं रहना चाहिए।

अदालत ने टिप्पणी की, " ...ऐसी तथ्यात्मक पृष्ठभूमि वाले मामलों में दोषसिद्धि की स्थिरता के बारे में व्यापक मुद्दे को भी इस न्यायालय द्वारा जांच की आवश्यकता हो सकती है, जिस पर बाद में विचार किया जा सकता है। "

परिणामस्वरूप, यह आदेश दिया गया कि आवेदक को विशेष न्यायाधीश (POCSO) और तीसरे अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश, जूनागढ़ द्वारा भारतीय दंड संहिता की धारा 376 और पोक्सो एक्ट की धारा 4, 6, 8 और 12 के तहत सजा सुनाई गई अपील के लंबित रहने के तक निलंबित रहेगी।

कोर्ट ने कहा कि हालांकि उसे बिना किसी शर्त के जमानत पर रिहा करने की जरूरत है, लेकिन कोर्ट ने कहा कि यह देखने के लिए कि प्रक्रियात्मक रूप से उसके लिए कोई कठिनाई नहीं है, यह आदेश दिया जाता है कि आवेदक को 100 रुपए के व्यक्तिगत बांड पर जमानत पर रिहा किया जाए।

केस टाइटिल- अश्विनभाई @ राज रणछोड़भाई पोयाला बनाम गुजरात राज्य

ऑर्डर डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें



Next Story