Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

'वह स्कूल यूनिफॉर्म में थी': मद्रास हाईकोर्ट ने पॉक्सो एक्ट के तहत दोषसिद्धि की पुष्टि की, उम्रकैद की सजा घटाई

LiveLaw News Network
1 April 2022 2:30 AM GMT
मद्रास हाईकोर्ट
x

मद्रास हाईकोर्ट

मद्रास हाईकोर्ट ने दसवीं कक्षा की छात्रा के अपहरण, शादी और यौन उत्पीड़न में शामिल एक पादरी सहित तीन आरोपियों की उम्रकैद की सजा को घटा दिया है।

जस्टिस पीएन प्रकाश और जस्टिस एए नक्किरन ने कहा कि अपीलकर्ता-आरोपी की सजा की पुष्टि अन्य मूल सजाओं के साथ की गई है, हालांकि पॉक्सो एक्ट के तहत आजीवन कारावास की सजा को प्रत्येक आरोपी के लिए एक निश्चित अवधि तक कम किया जा सकता है।

मामले के आरोपी विजयकुमार (ए-1) थे, जिन्होंने अपहरण के बाद नाबालिग के गले में 'थाली' बांधकर उससे शादी की थी, पादरी मुनियांडी (ए-2) जिसने नकली शादी को अंजाम दिया था, और जोसेफ राजा (ए-3) थे, जो ए-1 का साथी था।

अपील के दौरान, अदालत ने ए-2 और ए-3 की प्रस्तुतियों पर ध्यान दिया कि वे पीड़िता की उम्र से अनजान थे और वास्तव में उसे 18 वर्ष से अधिक मानते थे। ए-2 और ए-3 ने प्रस्तुत किया कि विजयकुमार (ए-1) ने उन्हें विश्वास दिलाया कि वह 18 वर्ष से अधिक की है और पीड़िता स्वयं चुप रही जब विजयकुमार ने ए-2 और ए-3 दोनों को बताया कि वह 18 वर्ष की है।

हालांकि, अदालत ने पाया कि तर्क पहली बार में 'थोड़ा ठोस' प्रतीत होता है, पीड़िता की जिरह से पता चला है कि जब वह सुलूर में जोसेफ राजा और गुडलुर में पादरी मुनियांडी के घर ले गई तो वह स्कूल की यूनिफॉर्म में थी

"... X (PW2) की जिरह में, उसने स्पष्ट रूप से कहा है कि वह स्कूल की यूनिफॉर्म में थी, जब उसे पादरी मुनियांडी@ रमेश (ए-2) और जोसेफ राजा (ए-3) के घर ले जाया जा रहा था। इसलिए-, पादरी मुनियांडी @ रमेश (ए-2) और जोसेफ राजा (ए-3), जो घटना के समय क्रमशः लगभग 39 और 35 वर्ष के थे (जैसा कि धारा 313 सीआरपीसी के तहत दिए बयान से देखा जा सकता है), यह कहते हुए नहीं सुना जा सकता कि उनका मानना था कि X (PW 2) नाबालिग नहीं था।"

अदालत ने यह भी कहा कि स्कूल की यूनिफॉर्म में लड़की को देखकर दूसरे और तीसरे आरोप‌ियों की पहली प्रतिक्रिया उसके माता-पिता को सूचित करना होनी चाहिए थी। इसके बजाय, उन्होंने पादरी मुनियांडी के घर में जगह देने और 'गुप्त विवाह' करने के विजयकुमार के अनुरोध को स्वीकार किया।

पॉक्सो एक्ट की धारा 6 के तहत विजयकुमार को दी गई आजीवन कारावास की सजा को कम करके बिना किसी छूट लाभ के 14 साल के कठोर कारावास में बदल दिया गया था। पोक्सो एक्ट की धारा 6 सहपठित धारा 17 के तहत पादरी मुनियांडी और जोसेफ राजा को आजीवन कारावास की सजा को घटाकर 10 साल के कठोर कारावास में बदल दिया गया।

अदालत ने स्पष्ट किया कि आईपीसी और बाल विवाह निषेध अधिनियम के तहत दिए गए दंड के साथ-साथ, अपीलकर्ताओं पर ट्रायल कोर्ट द्वारा लगाए गए जुर्माना और ‌डिफॉल्ट क्लॉज अपरिवर्तित रहेगा।

पृष्ठभूमि

अभियोजन का मामला यह था कि पीड़िता दसवीं कक्षा में पढ़ रही थी और घटना के समय अपनी दादी के साथ उक्काराम में रह रही थी। मुख्य आरोपी विजयकुमार अक्सर अपनी बहन से मिलने जाता था, जो पीड़िता की पड़ोसी थी। अभियोजन पक्ष के अनुसार, मुख्य आरोपी ने पीड़िता की सहानुभूति पाते के लिए अपने प्यार का इजहार किया और यह खुलासा किया उसके अपनी पत्नी और दो बच्चों ने छोड़ दिया है।

उसने नाबालिग से कहा कि वह चाहता है कि वह उसकी पत्नी बने और दोनों ने 23.08.2016 को स्कूल के बाद मोटरसाइकिल पर सवार होकर भाग गए, जबकि नाबालिग की दादी उसे लेने आई थी।

बाद में, विजयकुमार उसे सबसे पहले सुलूर में जोसेफ राजा के घर ले गए। जोसेफ राजा उन दोनों के साथ पादरी मुनियांडी के घर गए। शादी के बाद, वे सुलूर वापस आ गए और जोसेफ राजा के घर का एक हिस्सा किराए पर ले लिया।

पीड़िता के बयान के मुताबिक अपहरण के बाद से ही उनके बीच सहवास रहा और वे पति-पत्नी की तरह रह रहे थे। विजयकुमार और नाबालिग लड़की दोनों को पुलिस ने अक्टूबर 2016 में एक चेक पोस्ट पर रोक लिया था। पूछताछ के बाद, यह पता चला कि पीड़ित लड़की वही है जिसे नाबालिग लड़की की दादी ने लिखित शिकायत में विजयकुमार द्वारा अपहरण करने का आरोप लगाया गया था।

विजयकुमार को गिरफ्तार कर लिया गया और जांच अधिकारी ने यौन अपराधों से बच्चों के संरक्षण एक्ट, 2012 के प्रावधानों को शामिल करके एक परिवर्तन रिपोर्ट दायर की। पीड़िता का धारा 164 सीआरपीसी के तहत बयान गोबिचेट्टीपलायम में न्यायिक मजिस्ट्रेट नंबर I ने दर्ज किया था। पीड़िता की मेडिकल जांच में पुष्टि हुई कि उसके साथ सहवास हुआ है, हालांकि योनि के स्वाब से वीर्य की उपस्थिति का संकेत नहीं मिला।

आयु निर्धारण परीक्षण से यह भी पता चला कि पीड़िता की उम्र 14 वर्ष से अधिक और 15 वर्ष से कम थी।

मुनियांडी और जोसेफ राजा को 2017 में गिरफ्तार किया गया और रिमांड पर लिया गया। पादरी मुनियांडी, जोसेफ राजा और विजयकुमार पर आईपीसी की धारा 366, बाल विवाह निषेध एक्ट, 2006 की धारा 9 और 10 और पोक्सो एक्ट की धारा 6 और 17 के तहत अपराध दर्ज किए गए थे। .

निचली अदालत द्वारा आरोप पत्र में सभी अपराधों के लिए उनमें से प्रत्येक को दोषी मानते हुए सजा सुनाए जाने से व्यथित होकर उन्होंने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया।

न्यायालय की टिप्पणियां

हालांकि जन्म प्रमाण पत्र में एक छोटी सी गलती थी, अदालत ने पाया कि पीड़िता स्कूल के प्रधानाध्यापक के अनुसार दसवीं कक्षा में पढ़ रही थी और इसलिए वह नाबालिग थी।

अदालत ने कहा कि इस निष्कर्ष पर पहुंचने के लिए कोई सबूत नहीं है कि मुख्य आरोपी पीड़िता को जबरन स्कूल से ले गया था और वास्तव में, वह स्वेच्छा से उसके साथ मोटरसाइकिल पर गई थी।

"हालांकि, "X" (PW2) ने कहा है कि विजयकुमार (ए1) ने उसे बताया था कि एक विवाहित व्यक्ति था और दो बच्चों का पिता था। लेकिन, उसकी पत्नी और बच्चों ने उसे छोड़ दिया है। विजयकुमार (ए-1) ने "X" (PW2) के दिमाग में यह कहकर एक सहानुभूति पैदा कि थी वह उससे बहुत प्यार करता है और उससे शादी करना चाहता है। क्या यह विजयकुमार (ए-1) को आरोपों से मुक्त करने के लिए पर्याप्त होगा?"

अदालत ने कहा कि पीड़िता के नाबालिग होने के तथ्य को चुनौती नहीं दी जा सकती:

"... "X" (PW2) की जन्म तिथि 06.04.2002 है और यहां तक ​​कि चिकित्सा साक्ष्य के अनुसार, "X" (PW2) घटना के समय 14 और 15 वर्ष के बीच थी। इसलिए, इस मामले में सहमति की कोई प्रासंगिकता नहीं है, लेकिन सजा के प्रश्न को तय करते समय इसे कम करने वाले कारक के रूप में माना जा सकता है।"

पादरी और जोसेफ राजा की भूमिका पर, अदालत ने POCSO अधिनियम की धारा 16 के तहत दुष्प्रेरण का जिक्र किया और स्पष्टीकरण II में दिया गया।

चूंकि पॉक्सो अधिनियम के तहत अपराधों का गठन करने के लिए मूलभूत तथ्य पहले ही सबूतों द्वारा स्थापित किए जा चुके थे, अदालत ने कहा कि आरोपियों पर पोक्सो अधिनियम की धारा 29 और 30 के तहत एक उल्टा बोझ है, जिसे वे संतोषजनक ढंग से निर्वहन करने में विफल रहे हैं।

इसलिए, अदालत ने निष्कर्ष निकाला कि आरोपियों के खिलाफ आरोप उचित संदेह से परे साबित हुए हैं।

हालांकि, प्रतिवादी वकीलों ने इस आधार पर सजा को कम करने का अनुरोध किया कि नाबालिग और मुख्य आरोपी एक दूसरे के प्यार में थे और अपनी मर्जी से साथ गए थे। वह अब जाहिर तौर पर किसी अन्य व्यक्ति से विवाहित है और किसी अन्य स्थान पर रहती है।

इस पर ध्यान देते हुए, अदालत ने निम्नानुसार निष्कर्ष निकाला

"मामले के सभी तथ्यों और परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए, निर्धारित किए गए विभिन्न प्रावधानों के तहत अपीलकर्ताओं की सजा की पुष्टि की जाती है। सजा के लिए, हमारी राय है कि न्याय के हितों की सेवा होगी यदि अपीलकर्ताओं को दी गई उम्रकैद की सजा को घटाकर फिक्‍स्ड टर्म तक कर दिया गया है..."

केस शीर्षक: पादरी मुनियांडी @ रमेश और अन्य बनाम पुलिस निरीक्षक द्वारा प्रतिनिधित्व किया गया राज्य

केस नंबर: Crl.A.Nos.130 of 2018, 190 & 506 of 2019

सिटेशन: 2022 लाइव लॉ (मद्रास) 128

आदेश पढ़ने/डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें

Next Story