Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

"मानव जीवन के नुकसान के प्रति अधिकारियों में चिंता का पूर्ण अभाव": एनजीटी ने कारखाने में आग के कारण हुई मौतों पर स्वत: संज्ञान लेते हुए संयुक्त समिति का गठन किया

LiveLaw News Network
26 July 2021 5:36 AM GMT
मानव जीवन के नुकसान के प्रति अधिकारियों में चिंता का पूर्ण अभाव: एनजीटी ने कारखाने में आग के कारण हुई मौतों पर स्वत: संज्ञान लेते हुए संयुक्त समिति का गठन किया
x

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने मानव जीवन के नुकसान के प्रति चिंता की कमी को देखते हुए अधिकारियों की खिंचाई करते हुए इस सप्ताह दिल्ली के उद्योग नगर में एक कारखाने में आग लगने के बारे में एक समाचार लेख के आधार पर स्वत: संज्ञान कार्यवाही शुरू की।

इस हादसे में 6 लोग मारे गए थे।

एनजीटी के अध्यक्ष आदर्श कुमार गोयल की अध्यक्षता वाली पीठ ने घटना के कारण को पता लगाने के लिए जल अधिनियम, वायु अधिनियम और पर्यावरण (संरक्षण) अधिनियम, 1986 या इस विषय पर किसी अन्य कानून के अनुपालन की स्थिति का पता लगाने और सुझाव देने के लिए एक संयुक्त समिति का गठन भी किया।

यह समिति पीड़ितों को मुआवजा देने के लिए उपचारात्मक उपाय और भविष्य में ऐसी घटना को रोकने के लिए आगे के कदम के विषय पर सुझाव देगी।

ट्रिब्यूनल ने इंडियन एक्सप्रेस अखबार में छपी एक खबर के आधार पर संज्ञान लिया। दिनांक 12 जुलाई को छपी इस खबर का शीर्षक था "कारखाने में आग लगने से छह लोग मारे गए: मालिक पकड़ा गया, दूसरे आरोपी को पकड़ने के लिए छापेमारी"। खबर से पता चला कि पश्चिमी दिल्ली में उद्योग नगर में एक जूता और परिधान निर्माण इकाई चलाई जा रही थी। इस कारखाने के अंदर भीषण आग के परिणामस्वरूप छह श्रमिकों की मौत हो गई थी।

रिपोर्ट के अनुसार, 12 श्रमिक फंस गए थे, जिनमें से छह को कारखाने से बचा लिया गया था। फैक्ट्री के मालिक को बाद में आईपीसी की धारा 308 के तहत गिरफ्तार कर लिया गया था।

दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति के अनुसार, न्यायाधिकरण के समक्ष प्रस्तुत किया गया था कि अग्निशमन विभाग की अनुमति के बिना कोई निरीक्षण नहीं किया जा सकता है। यह भी कहा गया कि डीपीसीसी द्वारा जल (प्रदूषण की रोकथाम और नियंत्रण) अधिनियम, 1974 (जल अधिनियम) और वायु (प्रदूषण की रोकथाम और नियंत्रण) अधिनियम, 1981 (वायु अधिनियम) के तहत कोई सहमति नहीं दी गई थी।

यह सुनकर ट्रिब्यूनल ने कहा:

"यह खेद की बात है कि एक भीषण घटना में छह लोगों की मौत हो गई है, लेकिन प्रशासन ने सार्थक जानकारी एकत्र करने के लिए संवेदनशीलता नहीं दिखाई है और न ही पीड़ितों के उत्तराधिकारियों को मुआवजा देने के लिए कदम उठाए हैं।"

इसके अलावा, ट्रिब्यूनल ने कहा:

"यह भी आश्चर्य की बात है कि छह व्यक्तियों की मृत्यु के होने के बाद भी महज 'हत्या के प्रयास' के लिए मामला दर्ज किया गया। वहीं डीएम ने सूचित किया है कि प्रति मृतक केवल 50,000/- रुपये की अनुग्रह राशि की घोषणा की गई है, लेकिन भुगतान नहीं किया गया है। ये चौंकाने वाले तथ्य संबंधित अधिकारियों द्वारा मानव जीवन के नुकसान के लिए चिंता की कमी दिखाते हैं।"

पर्यावरण कानूनों का उल्लंघन होने पर प्रथम दृष्टया विचार करते हुए न्यायाधिकरण ने कहा कि पीड़ितों को एनजीटी अधिनियम की धारा 15 के तहत मुआवजा दिया जाना जरूरी है।

इसलिए, ट्रिब्यूनल ने एक संयुक्त सदस्य समिति का गठन किया। इसमें निम्नलिखित सदस्य शामिल हैं: सीपीसीबी, डीपीसीसी, जिला मजिस्ट्रेट, पश्चिमी दिल्ली, निदेशक, औद्योगिक सुरक्षा और स्वास्थ्य और डीसीपी, बाहरी दिल्ली।

ट्रिब्यूनल ने कहा,

"समिति साइट का दौरा कर सकती है और यूनिट के मालिक सहित हितधारकों के साथ बातचीत कर सकती है। साइट के दौरे को छोड़कर, समिति ऑनलाइन कार्यवाही करने के लिए स्वतंत्र होगी। यह सभी प्रासंगिक जानकारी एकत्र करने के लिए किसी अन्य व्यक्ति या संस्थान की सहायता ले सकती है।"

इसे देखते हुए ट्रिब्यूनल ने समिति को एक सप्ताह के भीतर अपनी पहली बैठक बुलाने का निर्देश दिया।

अब इस मामले पर सात सितंबर को विचार किया जाएगा।

शीर्षक: पुन: में: इंडियन एक्सप्रेस में दिनांक 12.07.2021 को प्रकाशित समाचार शीर्षक "कारखाने में आग में छह मारे गए: मालिक पकड़ा गया, दूसरे आरोपी को पकड़ने के लिए छापे"

ऑर्डर डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें




Next Story