Top
Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

महाराष्ट्र सरकार ने आईडी प्रूफ की आवश्यकता के बिना सेक्स वर्कर्स के लिए 5,000 रुपये प्रति माह वित्तीय सहायता की घोषणा की

LiveLaw News Network
28 Nov 2020 5:16 AM GMT
महाराष्ट्र सरकार ने आईडी प्रूफ की आवश्यकता के बिना सेक्स वर्कर्स के लिए 5,000 रुपये प्रति माह वित्तीय सहायता की घोषणा की
x

महाराष्ट्र सरकार ने उन महिलाओं के लिए 5,000 रुपये प्रति माह की वित्तीय सहायता की घोषणा की है जो सेक्स कार्य पर निर्भर है। यह वित्तीय सहायता बिना किसी पहचान पत्र के दी जाएगी।

सरकार इन महिलाओंं के बच्चों को भी 2,500 रुपये देगी।

यह सहायता अक्टूबर 2020 से दिसंबर 2020 तक के महीनों के लिए प्रदान की जाएगी।

यह फैसला उच्चतम न्यायालय द्वारा बुधदेव कर्मस्कर बनाम पश्चिम बंगाल राज्य और अन्य मामले में जारी निर्देशों के आलोक में आया है, जिसमें केंद्र और राज्य सरकार से आग्रह किया गया है कि वे पहचान के प्रमाण पर जोर दिए बिना सूखे राशन, मौद्रिक सहायता के साथ-साथ मास्क, साबुन और सैनिटाइजर के रूप में चल रही महामारी के कारण परेशान यौनकर्मियों को राहत प्रदान करने पर तत्काल विचार करें।

उद्धव-ठाकरे के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र सरकार ने गुरुवार को राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन (नाको) को निर्देश दिया कि वह पहचान के प्रूफ पर जोर दिए बिना राज्य में यौनकर्मियों को मासिक मुआवजा और राशन वितरण की व्यवस्था करे।

इस कदम को राज्य महिला एवं बाल कल्याण विभाग ने मंजूरी दी थी और मुख्यमंत्री सहायता कोष द्वारा 51 करोड़ रुपये से अधिक की राशि जारी की गई है। इस पूरी योजना का मसौदा जिलाधिकारी की अध्यक्षता में नाको प्रतिनिधियों की एक समिति द्वारा तैयार किया गया था।

न्यायमूर्ति एल नागेश्वर राव और न्यायमूर्ति हेमंत गुप्ता की पीठ ने 21 सितंबर को केंद्र और राज्य सरकारों को निर्देश दिया था कि वे चल रही महामारी के कारण उनके सामने आने वाली परेशानी को उजागर करने वाली याचिका में यौनकर्मियों को भोजन और वित्तीय सहायता प्रदान करें ।

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्यों से पहचान प्रमाण पर जोर दिए बिना यौनकर्मियों को मौद्रिक सहायता, राशन प्रदान करने का आग्रह किया।

इस मामले में पारित नवीनतम आदेश के अनुसार, राज्य सरकारों को नाको द्वारा तैयार मानक संचालन प्रक्रिया का पालन करना और यौनकर्मियों को शुष्क राशन का वितरण शुरू करना भी आवश्यक है । उन्हें सेक्स वर्कर्स की गोपनीयता और निजता बनाए रखने के लिए भी आगाह किया गया है।

सेक्स वर्कर्स से संबंधित अन्य न्यायिक आदेश:

· सेक्स वर्कर्स को गिरफ्तार नहीं किया जाना चाहिए, बल्कि उन्हें अपराध का शिकार माना जाना चाहिए: कलकत्ता उच्च न्यायालय;

· "वेश्यावृत्ति एक अपराध नहीं; वयस्क महिला को अपना व्यवसाय चुनने का अधिकार है": बॉम्बे हाई कोर्ट ने सुधारात्मक संस्था से 3 यौनकर्मियों को रिहा करने का आदेश दिया;

· राजस्थान उच्च न्यायालय ने सेक्स वर्कर की गर्भावस्था को समाप्त करने की अनुमति दी, उसे बलात्कार की शिकार के समान समझा;

· वयस्क यौनकर्मियों "सहमति के साथ भाग लेने" को गिरफ्तार नहीं किया जाना चाहिए: अनुसूचित जाति पैनल;

· गुजरात उच्च न्यायालय ने कहा, ' स्वैच्छिक ' सेक्स वर्क अपराध नहीं;

· दिल्ली की अदालत ने बलात्कारियों को दस साल का सजा दिया, सेक्स वर्कर की गरिमा बरकरार रखा।

Next Story