Top
मुख्य सुर्खियां

कर्नाटक उच्च न्यायालय ने फाइलिंग के लिए ए4 साइज़ के कागज के दोनों तरफ प्रिंटिंग करके उपयोग की अनुमति दी

LiveLaw News Network
20 Nov 2020 1:38 PM GMT
कर्नाटक उच्च न्यायालय ने फाइलिंग के लिए ए4 साइज़ के कागज के दोनों तरफ प्रिंटिंग करके उपयोग की अनुमति दी
x

कर्नाटक उच्च न्यायालय, अब उच्च न्यायालय में कार्यवाही संबंधित दस्तावेज और सहायक दस्तावेजों को प्रस्तुत करने के उद्देश्य से ए4 साइज़ के कागज़ के दोनों ओर प्रिंट करके इस्तेमाल करने की अनुमति देगा।

मुख्य न्यायाधीश अभय ओका और न्यायमूर्ति एस विश्वामित्र शेट्टी की खंडपीठ ने तीन विधि छात्रों-अकृति अग्रवाल, भावना एम और लक्ष्य पुरोहित की याचिका का निपटारा करते हुए कहा कि "पूर्ण न्यायालय ने 22 अगस्त 2019 को पारित प्रस्ताव द्वारा कर्नाटक नियमावली, 1959 के उच्च न्यायालय के अध्याय 12 के नियम 2 में संशोधन का प्रस्ताव रखा। संशोधन में फुलस्केप कागज के बजाय मीट्रिक A4 आकार के सफ़ेद कागज़ के उपयोग का प्रावधान है ।

राज्य सरकार द्वारा 17 नवंबर को अधिसूचना जारी की गई है, जिसमें उक्त संशोधन को मंजूरी दी गई है, इस प्रकार प्रार्थना खंड ए का कार्य किया जाता है।

जहां तक याचिका में की गई वैकल्पिक प्रार्थना का संबंध है, जिसमें जिला और निचली अदालतों को ए-4 आकार के कागज का उपयोग करने के निर्देश देने की मांग की गई है। कोर्ट ने कहा कि याचिका में ऐसी कोई प्रार्थना नहीं की गई है। हालांकि रजिस्ट्रार जनरल याचिकाकर्ता द्वारा की गई उक्त मौखिक प्रार्थना पत्र पर हाईकोर्ट की संबंधित कमेटी का ध्यान आकर्षित करेंगे।

सुप्रीम कोर्ट ने 5 मार्च को एक सर्कुलर जारी किया था, जिसमें सभी उद्देश्यों के लिए कागज़ के दोनों ओर प्रिंटिंग के साथ A4 साइज के पेपर के अनिवार्य इस्तेमाल का निर्देश दिया गया है। इसी तरह कलकत्ता, केरल और त्रिपुरा के उच्च न्यायालयों ने इसे लागू किया है।

अधिवक्ता पारस जैन ने दलील दी थी कि क्योंकि भारत के उच्चतम न्यायालय ने पहले ही सभी उद्देश्यों के लिए A4 आकार के कागज के दोनों ओर मुद्रण के उपयोग को लागू किया है।

बेहतर एकरूपता और न्याय तक आसान पहुंच के लिए, इस अदालत के लिए यह आवश्यक हो जाता है कि वह इस न्यायालय में और उसके सभी अधीनस्थ न्यायालयों में इसी तरह A4 आकार के कागज के उपयोग के लिए आदेश दे।

Next Story