Top
Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

सिख समुदाय के खिलाफ टिप्पणी को लेकर दिल्ली विधानसभा समिति ने कंगना रनौत को तलब किया

LiveLaw News Network
25 Nov 2021 10:15 AM GMT
सिख समुदाय के खिलाफ टिप्पणी को लेकर दिल्ली विधानसभा समिति ने कंगना रनौत को तलब किया
x

अभिनेत्री कंगना रनौत को छह दिसंबर को दिल्ली विधानसभा की शांति और सद्भाव समिति ने सिख समुदाय के बारे में उनके इंस्टाग्राम टिप्पणियों पर तलब किया है। इसमें उन्होंने कृषि कानूनों को निरस्त करने की केंद्र की घोषणा के मद्देनजर उन्हें 'खालिस्तानी आतंकवादी' के रूप में चिन्हित किया था।

कंगना रनौत ने इंस्टाग्राम पर अपनी पोस्ट में दावा किया कि खालिस्तानी सरकार पर ज़बरदस्ती दबाव (arm-twisting) बना रहे थे और उन्हें भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा मच्छरों की तरह कुचल दिया गया था।

दिल्ली के विधायक और शांति और सद्भाव समिति के अध्यक्ष राघव चड्ढा ने गुरुवार को कंगना रनौत को नोटिस जारी कर उन्हें 20 नवंबर को अभिनेत्री की 'अपमानजनक' इंस्टाग्राम पोस्ट के खिलाफ कई शिकायतें मिलने के बाद समिति के सामने पेश होने का निर्देश दिया। रनौत को जारी नोटिस में कहा गया कि सिख समुदाय को 'खालिस्तानी आतंकवादी' के रूप में लेबल करना पूरे सिख समुदाय को बुरे परिप्रेक्ष्य में दर्शाता है और जो शिकायतों के अनुसार पूरे सिख समुदाय को 'अपमान' करने की क्षमता रखता है।

मुंबई पुलिस ने हाल ही में दिल्ली सिख नेताओं के साथ गुरुद्वारा प्रबंधन समिति (DSGMC) के अमरजीत सिंह संधू और कुलवंत सिंह संधू की शिकायत के आधार पर धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने से संबंधित भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 295 ए के तहत अपराध के लिए अभिनेता के खिलाफ उनकी उपरोक्त टिप्पणियों के लिए एक प्राथमिकी दर्ज की।

धार्मिक समुदायों, भाषाई समुदायों और सामाजिक समूहों के बीच सांप्रदायिक वैमनस्य को दूर करने के लिए उपयुक्त उपायों की सिफारिश करने के लिए मार्च 2020 में शांति और सद्भाव समिति का गठन किया गया था। समिति का उद्देश्य शासन, सामाजिक एकता, भाईचारे और शांति के मुद्दों पर निवारक और उपचारात्मक उपायों की सिफारिश करना भी है।

नोटिस में आगे कहा गया कि सोशल मीडिया पोस्ट ने कथित तौर पर सिख समुदाय के लोगों की धार्मिक भावनाओं को अत्यधिक पीड़ा, संकट और गंभीर रूप से आहत किया है। इस प्रकार 'संभावित रूप से दिल्ली के एनसीटी में शांति और सद्भाव के विघटन की स्थिति पैदा हो रही है।' उक्त पोस्ट का उद्देश्य कथित तौर पर पूरे समुदाय का अनादर करना और सिख समुदाय के लोगों के जीवन और स्वतंत्रता के लिए खतरा पैदा करना है।

समिति द्वारा प्राप्त असंख्य शिकायतों का उल्लेख करते हुए नोटिस में कहा गया,

"महत्वपूर्ण रूप से शिकायतों ने प्रचलित परिस्थितियों को स्पष्ट रूप से रेखांकित किया गया। मुख्य रूप से आपकी पोस्ट से निकली, जिसमें सांप्रदायिक शांति और सद्भाव को बिगाड़ने की क्षमता है। इस प्रकार इस समिति को जांच की गई शिकायतों में प्राप्त मुद्दे का तत्काल संज्ञान लेने के लिए प्रेरित किया। इसके अनुसार समिति के विचारार्थ विषयों का परिहार इसके लिए जिम्मेदार कारकों की पहचान करने की दृष्टि से उक्त मुद्दे की विस्तार से जांच करना और ऐसे कारकों को समाप्त करने के उपाय सुझाना होगा।"

इसी के तहत एक्ट्रेस कंगना रनौत को छह दिसंबर को दोपहर दो बजे कमेटी के सामने पेश होने को कहा गया।

तीन विवादास्पद कृषि कानून-किसान उत्पादन व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) अधिनियम, 2020; (2) आवश्यक वस्तु (संशोधन) अधिनियम, 2020; और (3)किसान (सशक्तिकरण और संरक्षण) मूल्य आश्वासन और कृषि सेवा अधिनियम, 2020 पर समझौता - सितंबर 2020 में संसद द्वारा अधिनियमित का कई किसान संगठनों द्वारा कड़ा विरोध किया गया। देश भर में कई किसान समूह इन कानूनों के पारित होने के बाद से एक साल से अधिक समय से व्यापक विरोध और आंदोलन कर रहे हैं और मांग कर रहे हैं कि उन्हें खत्म किया जाए।

Next Story