Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

'इस सिस्टम ने मुझे ऊँचाई प्रदान की': दिल्ली हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति मिधा ने अपने रिटायरमेंट पर भारतीय न्यायपालिका पर कहा

LiveLaw News Network
7 July 2021 5:53 AM GMT
इस सिस्टम ने मुझे ऊँचाई प्रदान की: दिल्ली हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति मिधा ने अपने रिटायरमेंट पर भारतीय न्यायपालिका पर कहा
x

दिल्ली हाईकोर्ट से नम आँखों से विदा देते हुए न्यायमूर्ति एमआर मिधा ने अपने रिटायरमेंट के अवसर पर मंगलवार को साथी न्यायाधीशों और सहयोगियों के साथ बार में अपने शुरुआती दिनों को याद करते कहा, "इस सिस्टम ने मुझे ऊँचाई प्रदान की।"

उन्होंने प्रणाली के प्रति अपनी प्रशंसा और कृतज्ञता व्यक्त की और इसके शीर्ष पर निष्पक्षता को बुलंद करते हुए कहा कि पेशे में कोई गॉडफादर नहीं होने के बावजूद उन्हें सिस्टम द्वारा एक न्यायाधीश के पद पर पदोन्नत किया गया था।

"मैं 1992 में बार में शामिल हुआ और 2008 में न्यायाधीश हो गया। जब मैं केवल 13 वर्ष का था, तब मैंने अपने पिता को खो दिया था। मेरा कोई भाई नहीं था और केवल 500 रुपये की किराये की आय थी। जब मैं बार में शामिल हुआ तो मैंने एक ब्रीफकेस के साथ शुरुआत की और कृष्णा नगर से तीस हजारी तक बस में सफर किया करता था। मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि बिना गॉडफादर वाला आम आदमी इस पद पर आ जाएगा। मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं इस मुकाम तक पहुंच सकता हूं।'

उन्होंने दिल्ली हाईकोर्ट बार एसोसिएशन (डीएचसीबीए) द्वारा आयोजित ई-विदाई में अपना विदाई भाषण दिया।

कानूनी पेशे में कई भूमिकाओं में एक शिक्षक की भूमिका को अधिकांश अन्य दिग्गजों की तरह निभाते हुए उन्होंने 1989 से 1992 तक कैंपस लॉ सेंटर, फैकल्टी ऑफ लॉ, दिल्ली विश्वविद्यालय में कानून पढ़ाना शुरू किया।

11 अप्रैल, 2008 को दिल्ली हाईकोर्ट के अतिरिक्त न्यायाधीश के रूप में नियुक्त हुए छह जुलाई, 2011 को तीन साल से कुछ अधिक समय के बाद उनकी पोस्ट को स्थायी बना दिया गया। बार में उनकी प्रैक्टिस दिल्ली हाईकोर्ट, सुप्रीम कोर्ट और MRTP आयोग, राष्ट्रीय उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग जैसे अन्य मंचों तक फैली हुई थी।

इस अवसर पर न्यायमूर्ति मिधा के साथी न्यायाधीश न्यायमूर्ति विपिन सांघी भी डीएचसीबीए के अध्यक्ष मोहित माथुर, सचिव अभिजात और वरिष्ठ वकील डॉ अभिषेक मनु सिंघवी के साथ वरिष्ठ अधिवक्ता सिद्धार्थ लूथरा, संदीप सेठी, अमनदीप सिंह चंडीओक उपस्थित रहे।

न्यायमूर्ति मिधा की प्रशंसा करते हुए डीएचसीबीए के अध्यक्ष मोहित माथुर ने कहा कि वह "उनकी उदारता के प्राप्तकर्ता हैं।"

डॉ अभिषेक मनु सिंघवी ने अपनी यादों को साझा करते हुए कहा कि कैसे न्यायमूर्ति मिधा ने पद प्राप्त करने के लिए एक न्यायाधीश के रूप में अपने काम में खुद को पूरी तरह से डुबो दिया था।

उनके शोध कौशल की प्रशंसा करते हुए सिंघवी ने कहा,

"उनका शोध इतना सूक्ष्म है और मोटर वाहन अधिनियम के क्षेत्र में उनका काम भी है।"

न्यायमूर्ति मिधा के हालिया दिए गए फैसले के संदर्भ में, जिसमें उन्होंने आवारा कुत्तों को खिलाने और नागरिकों को उन्हें खिलाने के अधिकार को बरकरार रखा, सिंघवी ने कहा, "वह हमेशा कल्याण और समाज को संतुलित करने का प्रयास करते हैं।"

अपने आध्यात्मिक पक्ष पर सिंघवी की टिप्पणी का उल्लेख करते हुए न्यायमूर्ति मिधा ने अपने विदाई भाषण में कहा कि उन्होंने हमेशा एक न्यायाधीश के काम को ध्यान के रूप में देखा था। साल 2013 में एक मामले के डिफ़ॉल्ट रूप से खारिज होने के बाद वकील से अधिक एक वादी पर ध्यान केंद्रित किया था।

सिस्टम के हाथों वादी को जो नुकसान हुआ था, उसे महसूस करते हुए,

"... एक बात जो मैंने उस दिन से अपनाई है वह कि मुझे लगता है कि 2013 मैंने कभी भी किसी भी मामले को डिफ़ॉल्ट रूप से खारिज नहीं किया। इसके साथ ही 2013 या उसके बाद से कभी भी किसी के खिलाफ एकतरफा कार्यवाही नहीं की।"

एक न्यायाधीश के पेशेवर जीवन के पीछे के काम पर प्रकाश डालते हुए न्यायमूर्ति मिधा ने साझा किया कि पिछले 13 वर्षों में उन्हें ठीक से नींद नहीं आई। उनके पास टेलीविजन देखने या यहां तक ​​कि सुर्खियों से भरे समाचार पत्र पढ़ने का भी समय नहीं रहा।

उन्होंने यह कहते हुए निष्कर्ष निकाला,

"सत्य कार्रवाई में न्याय है। यह हमेशा कहीं न कहीं छिपा होता है।"

Next Story