Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

न्यायमूर्ति कुरैशी का युवा वकीलों को सुझाव, 'असाधारण वकील बनने के लिए बच्चों जैसी जिज्ञासा का विकास करें'

LiveLaw News Network
12 Aug 2020 4:00 AM GMT
न्यायमूर्ति कुरैशी का युवा वकीलों को सुझाव, असाधारण वकील बनने के लिए बच्चों जैसी जिज्ञासा का विकास करें
x


लाइवलॉ ने हाल ही में एक वेबिनार का आयोजन किया, जिसका विषय था- क्लासरूम ट्रेनिंग का उपयोग बढ़‌िया वकालत के लिए कैसे करें।

कार्यक्रम में त्रिपुरा उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति अकिल कुरैशी ने वकालत के पेशे से संबंधित कई विषयों पर अपनी बहुमूल्य अंतर्दृष्टि प्रदान की। जस्टिस कुरैशी ने छात्रों के व्यावहारिक प्रशिक्षण के लिए लॉ स्कूलों की वर्तमान शैक्षणिक संरचना की पर्याप्तता सहित न्याय वितरण प्रणाली में मजबूत बार की भूमिका का विस्तृत विश्लेषण किया।

भाई-भतीजावाद पर उन्होंने कहा कि बार को पेशे में नाजायज पक्षपात की घटनाओं के खिलाफ सख्त कदम उठाने चाहिए। उन्होंने वकीलों और छात्रों को COVID-19 के दौर में उत्साहित रहने, खुद को अध‌िक कुशल बनाने और अपने ज्ञान को बढ़ाने का सुझाव दिया। वेबिनार का संचालन एडवोकेट प्राची दत्ता ने किया।

अपने समापन संदेश में, उन्होंने युवा पेशेवरों को सलाह दी कि वे अपने सिद्धांतों का अनुकरण करते रहें और परिस्थित‌ियां जैसी भी हों, सिद्धांतों के साथ कभी भी समझौता न करें।

उन्होंने कहा, "वकील के रूप में आप, सभी के लिए समानता और सामाजिक न्याय सुरक्षित करते हुए, राष्ट्र की यात्रा जारी रखने के लिए एक अद्वितीय स्थिति में हैं। भारत वर्गों के सामाजिक पुनर्गठन में एक अभूतपूर्व प्रयोग का प्रतिनिधित्व करता है। जैसे-जैसे आप का अनुभव बढ़ता हैं, इस यात्रा पर कड़ी निगरानी रखें। चिंता न करें, यदि इस यात्रा की गति कभी-कभी धीमी होती है, हालांकि तब निश्चित रूप से चिंता करें जब इस यात्रा का दिशा आपको गलत लगती है।"

वेबिनार की प्रमुख बातें-

मॉडरेटर: आपके मुताबिक, मौजूदा दौर में " क्लासरूम ट्रेनिंग का उपयोग बढ़िया वकालत में कैसे करें" विषय क्यों प्रासंगिक है?

न्यायमूर्ति कुरैशी: देश में कुशल न्याय वितरण प्रणाली के लिए मजबूत बार आवश्यक है। एक मजबूत बार न्यायपालिका को मजबूत करती है। महान वकीलों की मदद से ही न्यायाधीश ऐतिहासिक फैसले दे पाते हैं। मजबूत बार यह सुनिश्चित करती है सक्षम कानून के छात्र और वकील न्यायपालिका में शामिल हों। सक्षम उम्मीदवारों की कमी देश भर के न्यायाधीशों की कमी का प्रमुख कारण है।

कानून मंत्रालय की 2 अगस्त, 2020 की नवीनतम रिपोर्ट के अनुसार, देश भर में हाईकोर्ट में 1079 रिक्त‌ियां हैं, जिनमें से 685 भरे हुए हैं और 394 रिक्त हैं। 2018 के थोड़े पुराने आंकड़े हैं, जो बताते हैं कि जिला न्यायालयों में 22,474 पद खाली थे, जिनमें से 16, 726 भरे गए थे और लगभग 6,000 खाली थे। देश भर की जिला अदालतों में भर्ती से जुड़े प्रमुख कारक सक्षम उम्मीदवारों की अनुपलब्धता है।

तीसरा, वकीलों देश में एक स्वतंत्र और निष्पक्ष न्यायपालिका सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक है क्योंकि वे ऐसे हिस्सेदार हैं, जिनके पास बहुत साहस और दृढ़ विश्वास है और वे एक न्यायाधीश को सही दिशा में रख सकते हैं, और नागरिकों को कार्यकारी के मनमाने रवैये से बचाने में उनकी अहम भूमिका है।

मॉडरेटर: क्या आपको लगता है कि वर्तमान शैक्षणिक संरचना न्यायपालिका और कानून की पेशेवर भूमिकाओं के लिए एक उम्मीदवार की कुशलता को निखारने के लिए अनुकूल नहीं है?

जस्टिस कुरैशी: नेशनल लॉ यूनिवर्सिटीज़ के आगमन ने पेशे में बहुत उज्ज्वल मस्तिष्कों को आकर्षित किया है, जो मेरे समय में नहीं ‌दिखता था। तब बहुत कम लोगों ने अपनी पहली पसंद के रूप में पेशे में प्रवेश किया। पूरा ध्यान अब क्लासरूम ट्रेनिंग से हटकर मूट कोर्ट, निबंध लेखन प्रतियोगिताओं और इंटर्नशिप के माध्यम से एक व्यावहारिक शिक्षण दृष्टिकोण पर चला गया है और ये बहुत सकारात्मक बदलाव हैं। मैं कहूंगा कि हमें अब सुधारों की एक दूसरी लहर की जरूरत है। शिक्षाविदों को इन सुधारों की प्रकृति पर निर्णय लेना चाहिए।

इसके अलावा, छात्र अपनी समस्या सुलझाने की तकनीकों का निर्माण कर अपने पेशेवर कौशल को बेहतर बना सकते हैं। उन्हें काल्पनिक या वास्तविक जीवन की समस्याओं को उठाना चाहिए और समाधान खोजने पर काम करना चाहिए क्योंकि समस्याओं को हल करने पेशे की महत्वपूर्ण आवश्यकता है। इंटर्नशिप के दौरान, छात्रों को शोध के सवालों के जवाब खोजने के लिए गूगल का उपयोग नहीं करना चाहिए और कानूनी डेटाबेस, पुस्तकों और टिप्पणियों का उपयोग करके मूल शोध करना चाहिए।

मॉडरेटर: भाई-भतीजावाद पर आपके क्या विचार हैं और क्या आपको लगता है कि पेशे में सफल होने के लिए युवा वकील के पास कानूनी पृष्ठभूमि होना जरूरी है?

न्यायमूर्ति कुरैशी: भाई-भतीजावाद, हालांकि अनुचित है, लेकिन जीवन का एक तथ्य है। वैध साधनों के जर‌िए वकीलों और न्यायाधीशों के बेटों और बेटियों को मिलने वाले लाभों के बारे में शिकायत नहीं की जा सकती है, लेकिन जब नाजायज तरीके शामिल होते हैं, तो बार को कार्रवाई करनी चाहिए। इसके अलावा, पहली पीढ़ी के वकीलों को अपनी सीमाओं को अपनी प्रगति को सीमित करने की अनुमति कभी नहीं देनी चाहिए।

मानव जाति का इतिहास उन लोगों से भरा पड़ा है, जिन्होंने सभी बाधाओं को चुनौती दी है और ऐसी असंभव चीजों को प्राप्त किया है, जिनकी आपके और मेरे जैसे लोगों के लिए कल्पना करना मुश्किल है… वो अपनी कमियों के कारण रुके नहीं। उन्हें चुनौती दें और सफल हों और आपकी सफलता और भी मीठी होगी। यदि आपके पास एक उत्कृष्ट वकील होने की क्षमता और दृढ़ विश्वास है तो भी बेहतर बनने के ल‌िए बहुत प्रयास करने की आवश्यकता होगी या ।

युवा वकीलों को एक उत्कृष्ट वकील बनने के लिए दो क्षेत्रों पर ध्यान देने की आवश्यकता है- तैयारी और प्रस्तुति। पेशे के लिए अच्छी तरह से तैयार होने के लिए, एक वकील के पास जीवन भर बच्चे जैसी जिज्ञासा होनी चाहिए और जितना संभव हो उतना विविध क्षेत्रों की जानकारी हो।

"यदि आप एक उत्कृष्ट वकील बनना चाहते हैं, तो आपको केवल एक गुणवत्ता विकसित करने की आवश्यकता है। और अगर मैं एक शब्द में उस गुणवत्ता का वर्णन कर सकता हूं, तो यह जिज्ञासा है। जीवन भर बच्चों जैसी जिज्ञासा रखें। कानून के बाहर के क्षेत्रों से भी अधिक-अधिक से ज्ञान अर्जित करें.."

उन्होंने तर्कों की प्रस्तुति के लिए निम्नलिखित सुझाव दिए:

1. बहस करने की शैली प्रेरक होनी चाहिए। एक न्यायाधीश को सकारात्मक आदेश देने के लिए मजबूर करने के बजाय आपको उसे इस तरीके से राजी करना चाहिए कि वह आपको यह आदेश देना चाहता है।

2. यह पता लगाना और जज को यह बताना बहुत ज़रूरी है कि आपका विरोधी अदालत के सामने क्या तर्क देने वाला है और उन तर्कों पर आपके जवाब क्या होंगे। यह प्रतिद्वंद्वी को आपके खिलाफ टेम्पो बनाने नहीं देगा।

3. यदि कोई भी जानकारी आपके प्रतिकूल है तो उसे, दूसरे पक्ष को आपके खिलाफ प्रोजेक्ट करने देने के बजाय खुद प्रस्तुत करें।

4. न्यायाधीशों से मांगी गई राहत को सरल बनाने का प्रयास करें क्योंकि न्यायाधीश हमेशा ऐसे कुछ देने के लिए आशंकित होंगे जो कि बड़ा है, ऐसा कुछ जो पहली बार किया जा रहा है।

5. ऐसे महत्वपूर्ण बिंदु से अंजान मत बनें, जिसे आपका प्रतिद्वंद्वी रख सकता है। अपने पक्ष में एक बिंदु को भूलना ठीक है, लेकिन अपने खिलाफ किसी बिंदु को भूल जाना पाप होगा।

6. अपने तर्कों के शुरुआती स्तर पर, दिए गए क्षेत्र में न्यायाधीश की तैयारियों और उसके सुविधा का आकलन करने का प्रयास करें। न्यायाधीशों की समझ के आधार पर तर्कों का फैसला किया जाना चाहिए।

7. अपने दृष्टिकोण और अपने तर्कों में लचीले बनें। अपने तर्कों को रखने में कठोर मत बनो।

8. एक अच्छे वकील और एक असाधारण वकील के बीच अंतर, समयस्फूर्त बहस करने की क्षमता है। अपनी तैयारी को इस तरह से बनाने की कोशिश करें कि आप अप्रत्याशित स्थितियों को संभाल सकें।


मॉडरेटर: COVID-19 संकट को संभालने के लिए युवा वकीलों को कोई सलाह?

न्यायमूर्ति कुरैशी: ठहरिए, यह समय स्थायी नहीं है। हर कोई वायरस के नियंत्रण में आने की बात कर रहा है और टीके जल्द ही बनेंगे, जैसा कि हम मानते हैं। तब तक, काम करते रहें, अपने आप को प्रेरित रखें, अपने कौशल को बढ़ाएं। मेरे पास उन लोगों के लिए कोई ठोस उपाय नहीं है जो आर्थिक रूप से संघर्ष कर रहे हैं। बस 2-3 महीने के लिए संयम रखें, चीजें बेहतर होंगी।

मॉडरेटर: पेशे में वरिष्ठ पदों पर महिला वकीलों की कमी पर आपके क्या विचार हैं?

जस्टिस कुरैशी: समय बेहतरी के लिए बदल रहा है। त्रिपुरा में लगभग 40% महिलाएं न्यायिक पदों पर काबिज हैं। महिलाओं पर जिम्मेदारियां हैं, जिनकी पूरे समय काम करने वाले व्यक्ति से उम्मीद नहीं की जानी चाहिए। लेकिन समय बदल जाएगा। आप महिला वकीलों की पहली पीढ़ी हैं, जो अपने पेशे को बहुत गंभीरता से ले रही हैं और आपको सामाजिक परिवर्तनों के लिए प्रयास करना चाहिए। यह संभव हो सकता है कि आपको अपने पुरुष समकक्षों की तुलना में अधिक काम करना होगा, लेकिन यदि आपके पास साहस और चरित्र है, तो आप निश्चित रूप से शीर्ष पदों पर अपना रास्ता बना सकती हैं।

मॉडरेटर: क्या आपको लगता है कि लंबे समय में वर्चुअल कोर्ट एक व्यवहार्य विकल्प हैं?

न्यायमूर्ति कुरैशी: प्रौद्योगिकी के उपयोग के बारे में मेरी मिश्रित भावनाएं हैं। हमें यह सुनिश्चित करने के लिए सावधानी और संतुलन के साथ इसका उपयोग करना चाहिए कि यह एक वर्ग में बंटवारे का नतीजा नहीं है और देश में कई के लिए वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग और हाई स्पीड इंटरनेट जैसी तकनीक उपलब्ध नहीं हैं। लंबे समय में इन सुधारों को आगे बढ़ाने से पहले हमें सभी को साथ लेकर चलना चाहिए।

जस्टिस कुरैशी ने सत्र के समापन पर युवा वकीलों से कहा, "जब आप बड़े हो जाते हैं तो अपने सिद्धांतों से कभी समझौता न करें। हमेशा अपने विश्वास को बनाए रखने का साहस रखें"।

पूरा वीडियो देखें :


Next Story