Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

दिल्ली दंगों की बड़ी साजिश का मामला: हाईकोर्ट ने मीरान हैदर की ट्रायल कोर्ट के जमानत से इनकार करने के आदेश को चुनौती देने वाली याचिका पर नोटिस जारी किया

Shahadat
20 May 2022 5:34 AM GMT
दिल्ली दंगों की बड़ी साजिश का मामला: हाईकोर्ट ने मीरान हैदर की ट्रायल कोर्ट के जमानत से इनकार करने के आदेश को चुनौती देने वाली याचिका पर नोटिस जारी किया
x

दिल्ली हाईकोर्ट ने शुक्रवार को मीरान हैदर द्वारा दायर अपील पर नोटिस जारी किया। इस अपील में ट्रायल कोर्ट के आदेश को चुनौती दी गई थी, जिसमें उन्हें भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) और यूएपीए के तहत आरोप लगाते हुए 2020 के दिल्ली दंगों में बड़ी साजिश का भागीदार बताया गया है।

जस्टिस मुक्ता गुप्ता और जस्टिस मिनी पुष्कर्ण की खंडपीठ ने मामले में स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करने के लिए अभियोजन पक्ष को चार सप्ताह का समय दिया।

प्रत्युत्तर दाखिल करने के लिए तीन सप्ताह का अतिरिक्त समय दिया गया है। अब इस मामले की सुनवाई 21 जुलाई को होगी।

पांच अप्रैल को शहर की कड़कड़डूमा कोर्ट ने मीरान को जमानत देने से इनकार कर दिया था।

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अमिताभ रावत ने जमानत देने से इनकार करते हुए कहा था कि यह मानने के लिए उचित आधार है कि मीरान हैदर के खिलाफ आरोप प्रथम दृष्टया सही है और इसलिए, यूएपीए की धारा 43डी और सीआरपीसी की धारा 437 के तहत प्रतिबंध लगाए गए हैं।

यूएपीए अधिनियम की धारा 15 का उल्लेख करते हुए अभियोजन पक्ष ने तर्क दिया था कि दंगों की सावधानीपूर्वक योजना बनाई गई थी, संपत्तियों को नष्ट किया गया था, आवश्यक सेवाओं में व्यवधान, पेट्रोल बम, लाठी, पत्थर आदि का उपयोग किया गया था, इसलिए एक मीटिंग की गई थी। उक्त मानदंड अधिनियम की धारा 15(1)(a)(i),(ii) और (iii) के तहत आवश्यक हैं।

अभियोजन पक्ष ने कहा था कि दंगों के दौरान कुल 53 लोग मारे गए थे, पहले चरण के दंगों में 142 लोग घायल हुए थे और दूसरे चरण में अन्य 608 घायल हुए थे।

अभियोजन पक्ष ने तर्क दिया था कि 25 मस्जिदों के करीब रणनीतिक विरोध स्थलों को चुनते हुए 2020 के धरना-प्रदर्शन की सावधानीपूर्वक योजना बनाई गई थी। उन्होंने प्रस्तुत किया कि ये स्थल धार्मिक महत्व के स्थान हैं लेकिन कथित रूप से सांप्रदायिक विरोध को वैध रूप देने के लिए जानबूझकर इन्हें धर्मनिरपेक्ष नाम दिए गए थे।

अभियोजन पक्ष ने 20 दिसंबर, 2019 की मीटिंग का उल्लेख किया। इस मीटिंग में उमर खालिद ने हर्ष मंदर, यूनाइटेड अगेंस्ट हेट, स्वतंत्र नागरिक संगठन आदि के सदस्यों के साथ भाग लिया था। अभियोजन पक्ष ने कहा कि इस मीटिंग ने विरोध के क्षेत्रों और रणनीतियों को तय करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

यह भी तर्क दिया गया कि विरोध का मुद्दा सीएए या एनआरसी नहीं था बल्कि सरकार को शर्मिंदा करने और ऐसे कदम उठाने का था कि यह अंतर्राष्ट्रीय मीडिया में उजागर हो जाए।

अभियोजन पक्ष के तर्कों का मुख्य जोर यह था कि डीपीएसजी ग्रुप अत्यधिक संवेदनशील ग्रुम था। इसमें हर छोटे मैसेज पर निजी तौर पर विचार-विमर्श किया जाता था और फिर अन्य मेंबर्स को भेजा जाता था। अभियोजन पक्ष ने कहा हर फैसला सोच-समझकर और सोच-समझकर लिया गया था।

अभियोजन पक्ष ने प्रस्तुत किया कि जबकि अभियोजन पक्ष का मामला यह नहीं है कि साजिश में सामने आने वाले प्रत्येक व्यक्ति को आरोपी बनाया जाना चाहिए और केवल एक समूह पर चुप रहने से कोई आरोपी नहीं बनता है। हालांकि, यह जोड़ा गया कि मामले में किसी भी व्यक्ति के खिलाफ सबूत मिलने पर आपराधिक कार्रवाई करनी पड़ती है।

इस पृष्ठभूमि में अभियोजन पक्ष ने तर्क दिया कि 2020 के उत्तर पूर्वी दिल्ली दंगों को करने में एक 'खामोश साजिश' थी, जिसके पीछे व्यवस्था को पूरी तरह से पंगु बना देना था।

एफआईआर में यूएपीए की धारा 13, 16, 17, 18, शस्त्र अधिनियम की धारा 25 और 27 और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान की रोकथाम अधिनियम, 1984 की धारा 3 और 4 सहित कड़े आरोप शामिल हैं। उन पर भारतीय दंड संहिता, 1860 के तहत उल्लिखित विभिन्न अपराधों का भी आरोप है।

पिछले साल सितंबर में पिंजरा तोड़ सदस्यों और जेएनयू की छात्राओं देवांगना कलिता और नताशा नरवाल, जामिया मिलिया इस्लामिया के छात्र आसिफ इकबाल तन्हा और छात्र कार्यकर्ता गुलफिशा फातिमा के खिलाफ मुख्य आरोप पत्र दायर किया गया था।

आरोप पत्र में कांग्रेस की पूर्व पार्षद इशरत जहां, जामिया समन्वय समिति के सदस्य सफूरा जरगर, मीरान हैदर और शिफा-उर-रहमान, निलंबित आप पार्षद ताहिर हुसैन, कार्यकर्ता खालिद सैफी, शादाब अहमद, तसलीम अहमद, सलीम मलिक, मोहम्मद सलीम खान और अतहर खान शामिल हैं।

इसके बाद, नवंबर में जेएनयू के पूर्व छात्र नेता उमर खालिद और जेएनयू के छात्र शारजील इमाम के खिलाफ फरवरी में पूर्वोत्तर दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा में कथित बड़ी साजिश से जुड़े एक मामले में एक पूरक आरोप पत्र दायर किया गया था।

केस टाइटल: मीरा हैदर बनाम राज्य

Next Story