Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

दिल्ली हाईकोर्ट ने अंतरिम आदेशों की अवधि 22 अक्टूबर तक बढ़ाई

LiveLaw News Network
6 Oct 2021 6:00 AM GMT
दिल्ली हाईकोर्ट ने अंतरिम आदेशों की अवधि 22 अक्टूबर तक बढ़ाई
x

दिल्ली हाईकोर्ट ने अपने अंतरिम आदेशों की अवधि 22 अक्टूबर, 2021 तक बढ़ा दिया।

दूसरी COVID-19 लहर के कारण न्यायालयों के सीमित कामकाज को देखते हुए इसके और अधीनस्थ न्यायालयों के समक्ष लंबित सभी मामलों में अंतरिम आदेशों के विस्तार पर दर्ज स्वत: संज्ञान याचिका पर विचार करते हुए यह आदेश पारित किया गया।

न्यायमूर्ति विपिन सांघी, न्यायमूर्ति रेखा पल्ली और न्यायमूर्ति तलवंत सिंह की पूर्ण पीठ ने इस प्रकार आदेश दिया:

"हम स्पष्ट करते हैं कि हमारे द्वारा 20.04.2021 को दिया गया अंतरिम आदेश 22.10.2021 तक बढ़ा दिया गया।"

सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया था कि राज्यों की हाई पावर्ड कमेटी द्वारा सात मई के आदेश के तहत स्वतः संज्ञान मामले में COVID-19 महामारी के मद्देनजर रिहा किए गए सभी कैदियों को अगले आदेश तक आत्मसमर्पण करने के लिए नहीं कहा जाना चाहिए।

इसने सभी राज्य सरकारों को सात मई के आदेश को कैसे लागू किया गया था और COVID-19 की स्थिति को ध्यान में रखते हुए आपातकालीन पैरोल पर कैदियों को रिहा करने के लिए एचपीसी द्वारा अपनाए गए मानदंडों का विवरण देने से पहले एक रिपोर्ट प्रस्तुत करने का निर्देश दिया।

हाल ही में पीठ ने कहा कि पिछले साल जमानत दिए जाने पर समय पर आत्मसमर्पण नहीं करने वाला आवेदक हाई पावर्ड कमेटी के दिशानिर्देशों के तहत अंतरिम जमानत से इनकार करने का कारण नहीं हो सकता।

इससे पहले कोर्ट ने COVID-19 महामारी के बीच जेलों की भीड़ कम करने के उद्देश्य से हाई पावर्ड कमेटी द्वारा की गई सिफारिशों के मद्देनजर अंतरिम आदेशों के विस्तार और विचाराधीन कैदियों को दी गई अंतरिम जमानत के प्रभाव पर दिल्ली सरकार से स्थिति रिपोर्ट मांगी थी।

न्यायालय ने 20 अप्रैल, 11 मई, चार जून और नौ, 19, 30 जुलाई और 13 अगस्त सहित पूर्व के अवसरों पर अंतरिम आदेशों की अवधि बढ़ाई थी।

केस टाइटल: कोर्ट ऑन इट्स ओन मोशन बनाम स्टेट (एनसीटी ऑफ दिल्ली सरकार)

ऑर्डर डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें



Next Story