Top
Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

केंद्र ने जस्टिस राजेश बिंदल, जस्टिस संजय यादव, जस्टिस विनीत कोठारी के स्थानांतरण की अधिसूचना जारी की

LiveLaw News Network
1 Jan 2021 11:29 AM GMT
केंद्र ने जस्टिस राजेश बिंदल, जस्टिस संजय यादव, जस्टिस विनीत कोठारी के स्थानांतरण की अधिसूचना जारी की
x

केंद्र सरकार ने गुरुवार (31 दिसंबर) को प्रदेश जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के न्यायमूर्ति राजेश बिंदल को कलकत्ता हाईकोर्ट करने की स्थानांतरण करने की अधिसूचना जारी कर दी।

इसके साथ ही केंद्र ने मध्य प्रदेश हाईकोर्ट के न्यायाधीश न्यायमूर्ति संजय यादव को इलाहाबाद हाईकोर्ट स्थानांतरित करने की अधिसूचना भी जारी की है।

इसके अलावा, केंद्र ने मद्रास हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति विनीत कोठारी को गुजरात हाईकोर्ट स्थानांतरित करने की अधिसूचना भी जारी की।

[नोट: भारत के संविधान के अनुच्छेद 223 द्वारा प्रदत्त शक्ति के तहत राष्ट्रपति ने मद्रास हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति विनीत कोठारी को उस हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के कर्तव्यों का पालन करने के लिए नियुक्त किया है।

01 जनवरी, 2021 से न्यायमूर्ति अमरेश्वर प्रताप साही मद्रास हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश होंगे।]

केंद्र सरकार ने न्यायमूर्ति आरएस चौहान की नियुक्ति को लेकर भी अधिसूचना जारी की है। न्यायमूर्ति आरएस चौहान वर्तमान में उत्तराखंड के नए मुख्य न्यायाधीश हैं, उन्हें तेलंगाना हाईकोर्ट स्थानांतरित किया गया है।

केंद्र ने मध्य प्रदेश हाईकोर्ट के नए मुख्य न्यायाधीश के रूप में वर्तमान में उड़ीसा हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति मोहम्मद रफीक की नियुक्ति की भी अधिसूचना जारी की।

केंद्र सरकार ने न्यायमूर्ति रवि आर. मलिमठ को जम्मू-कश्मीर हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के रूप नियुक्त किया और हिमाचल प्रदेश हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के रूप में न्यायमूर्ति पंकज मिथल की नियुक्ति की भी अधिसूचना जारी की है।

यह ध्यान दिया जा सकता है कि वर्तमान में पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट के न्यायाधीश न्यायमूर्ति डॉ. एस. मुरलीधर को उड़ीसा हाईकोर्ट का मुख्य न्यायाधीश नियुक्त किया गया है। साथ ही, दिल्ली हाईकोर्ट की न्यायाधीश न्यायमूर्ति हिमा कोहली को तेलंगाना हाईकोर्ट का मुख्य न्यायाधीश नियुक्त किया गया है।

इससे पहले केंद्र ने आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश जे के माहेश्वरी को सिक्किम हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश और सिक्किम हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश एके गोस्वामी को आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट के सीजे के रूप में स्थानांतरित करने की अधिसूचना भी जारी की।

जस्टिस राजेश बिंदल के बारे में

जस्टिस बिंदल ने 1985 में कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से कानून की डिग्री प्राप्त की और पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट में पेशे में शामिल हुए। उन्होंने 2004 तक एक दशक से अधिक समय तक केंद्रीय प्रशासनिक न्यायाधिकरण के समक्ष चंडीगढ़ प्रशासन का प्रतिनिधित्व किया।

न्यायमूर्ति बिंदल को 22 मार्च, 2006 को पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट के न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया।

पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट में उनके कार्यकाल के दौरान न्यायमूर्ति बिंदल ने लगभग 80,000 मामलों का निपटारा किया। जम्मू-कश्मीर हाईकोर्ट में उनके स्थानांतरण से पहले, वह कंप्यूटर समिति, एरियर्स समिति सहित विभिन्न समितियों का नेतृत्व कर रहे थे।

जम्मू और कश्मीर हाईकोर्ट में स्थानांतरण होने पर उन्होंने 19 नवंबर 2018 को पद की शपथ ली।

केंद्र सरकार ने दिसंबर 2020 में जम्मू-कश्मीर हाईकोर्ट के वरिष्ठतम न्यायाधीश न्यायमूर्ति राजेश बिंदल को हाईकोर्ट का कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश नियुक्त किया था।

जस्टिस संजय यादव के बारे में

न्यायमूर्ति संजय यादव का जन्म 26 जून 1959 को हुआ था। वह 25 अगस्त 1986 को एक वकील के रूप में बार में शामिल हुए। उन्होंने जबलपुर में मध्य प्रदेश हाईकोर्ट में सिविल, राजस्व और संवैधानिक पक्षों पर प्रैक्टिस की। उन्होंने मध्य प्रदेश के उप महाधिवक्ता के पद पर भी कार्य किया है।

उन्हें 2 मार्च, 2007 को मध्य प्रदेश हाईकोर्ट के न्यायाधीश और 15 जनवरी, 2010 को स्थायी न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया था।

सितंबर, 2020 में केंद्र ने 30 सितंबर से न्यायमूर्ति संजय यादव को मध्य प्रदेश हाईकोर्ट (भारत के संविधान के अनुच्छेद 223 के अनुसार) के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया।

न्यायमूर्ति विनीत कोठारी के बारे में

न्यायमूर्ति विनीत कोठारी ने एक वकील के रूप में राजस्थान हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में 20 साल तक टेक्स और अन्य वाणिज्यिक और संवैधानिक कानूनों, मध्यस्थता और कंपनी कानून की प्रैक्टिस की। वह 13-06-2005 से राजस्थान हाईकोर्ट में न्यायाधीश के रूप में नियुक्त हुए और वहां 11 वर्षों तक कार्यरत रहे।

उन्हें 18-04-2016 को कर्नाटक हाईकोर्ट में स्थानांतरित कर दिया गया। इसके बाद उन्होंने 23-11-2018 मद्रास हाईकोर्ट के वरिष्ठ न्यायाधीश के रूप में पद ग्रहण किया।

उन्हें 21-09-2019 से 10-11-2019 तक मद्रास हाईकोर्ट के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया था।

इसके अलावा केंद्र ने हाईकोर्ट के निम्न न्यायाधीशों के स्थानांतरण को भी अधिसूचित किया हैः

मध्य प्रदेश के हाईकोर्ट जस्टिस सतीश चंद्र शर्मा को कर्नाटक हाई कोर्ट स्थानांतरित किया।

कलकत्ता हाईकोर्ट की न्यायमूर्ति जोमाल्य बागची को आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट स्थानांतरित किया गया।

सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने 14 दिसंबर, 2020 को नौ न्यायाधीशों / मुख्य न्यायाधीशों के स्थानांतरित करने की भी सिफारिश की थी,

तेलंगाना हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति आरएस चौहान को हाईकोर्ट स्थानांतरित करने की सिफारिश की थी।

आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति जेके माहेश्वरी को सिक्किम हाईकोर्ट स्थानांतरित करने की सिफारिश की थी।

उड़ीसा हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति मोहम्मद रफीक को मध्य प्रदेश हाईकोर्ट स्थानांतरित करने की सिफारिश की थी।

सिक्किम हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति एके गोस्वामी को आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट स्थानांतरित करने की सिफारिश की थी।

मध्य प्रदेश हाईकोर्ट के न्यायामूर्ति संजय यादव को इलाहाबाद हाईकोर्ट स्थानांतरित करने की सिफारिश की थी।

जम्मू और कश्मीर हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति राजेश बिंदल को कलकत्ता हाईकोर्ट स्थानांतरित करने की सिफारिश की थी।

मद्रास हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति विनीत कोठारी को गुजरात हाईकोर्ट स्थानांतरित करने की सिफारिश की थी।

कलकत्ता हाईकोर्ट की न्यायमूर्ति जोमाल्य बागची को आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट स्थानांतरित करने की सिफारिश की थी।

मध्य प्रदेश हाईकोर्ट के न्यायाधीश जस्टिस सतीश चंद्र शर्मा को कर्नाटक हाईकोर्ट स्थानांतरित करने की सिफारिश की थी।

Next Story