Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

'दोहरी डिग्री' धारी उम्मीदवारों की पब्लिक ऑफिस में नियुक्ति को मनमाने ढंग से खारिज नहीं किया जा सकता: उड़ीसा हाईकोर्ट

Avanish Pathak
1 Jun 2022 9:30 AM GMT
दोहरी डिग्री धारी उम्मीदवारों की पब्लिक ऑफिस में नियुक्ति को मनमाने ढंग से खारिज नहीं किया जा सकता: उड़ीसा हाईकोर्ट
x

उड़ीसा हाईकोर्ट ने माना कि किसी सार्वजनिक पद पर नियुक्ति के लिए प्रयासरत उम्मीदवार की उम्मीदवारी को केवल 'दोहरी डिग्री' के आधार पर ‌सिरे से और मनमाने ढंग से खारिज नहीं किया जा सकता है। एक ऐसे उम्मीदवार को राहत प्रदान करते हुए, जिसका आवेदन ऐसे कारण से खारिज कर दिया गया था, जस्टिस संजीव कुमार पाणिग्रही की सिंगल जज बेंच ने कहा,"इस मामले में कोर्ट की राय है कि नियुक्ति के मामलों में, नियुक्ति समिति द्वारा प्रदान किए गए नियमों का कड़ाई से पालन किया जाए। मौजूदा मामले में ओपीएससी ने दोहरी ड‌िग्री धारी उम्मीदवारों के लिए कोई निर्देश प्रदान नहीं किया है। स्थिति को एक विशिष्ट मामले के रूप में माना जा सकता है, लेकिन याचिकाकर्ता की उम्मीदवारी को सिरे से खारिज करना मनमाना है।"

पृष्ठभूमि

उड़ीसा लोक सेवा आयोग (ओपीएससी) ने उच्च शिक्षा विभाग द्वारा प्रशासनिक रूप से नियंत्रित विश्वविद्यालयों में एसिस्टेंट प्रोफेसर पद पर भर्ती के लिए विज्ञापन दिया था। विज्ञापन में खंड-4 में पदों के लिए शैक्षणिक योग्यता निर्धारित की गई थी। याचिकाकर्ता ने विज्ञापन के विवरण को समझने के बाद ओपीएससी के ऑनलाइन पोर्टल में आवेदन भरा। अपनी शैक्षणिक योग्यता में उन्होंने उल्लेख किया कि उनके पास आईआईटी, बॉम्बे की 'एमएससी और पीएचडी डुअल डिग्री' है।

उनका आवेदन पत्र स्वीकार कर लिया गया और उन्हें उनकी शैक्षिक योग्यता और ओपीएससी द्वारा निर्धारित चयन के नियमों के आधार पर दस्तावेज सत्यापन के लिए बुलाया गया। मूल दस्तावेजों का सत्यापन किया गया। याचिकाकर्ता के पास एमएससी और पीएसडी के अंकों को अलग किए बिना संस्थान द्वारा जारी एक ही प्रमाण पत्र था, इसलिए उन्होंने इसे अपलोड किया था। उसे स्वीकार कर लिया गया और याचिकाकर्ता को साक्षात्कार के लिए बुलाया गया, लेकिन सत्यापन के समय उसकी शैक्षणिक योग्यता के संबंध में अपना दृष्टिकोण स्पष्ट करने का अवसर दिए बिना उसकी उम्मीदवारी को खारिज कर दिया गया।

उन्होंने इसी रिजेक्शन नोटिस को इस रिट याचिका के जरिए चुनौती दी है।

विवाद

याचिकाकर्ता की ओर से पेश वकील सौभाग्य स्वैन ने प्रस्तुत किया कि अस्वीकृति नोटिस प्रकाशित होने के बाद, याचिकाकर्ता ने संपर्क किया और संस्थान के नियम के अनुसार दोहरी डिग्री योग्यता और अंकों के पृथक्करण के संबंध में ओपी नंबर 2 को समझाने का प्रयास किया। हालांकि, ओपी नंबर 2 ने प्रमाण पत्र पर विचार नहीं किया और न ही याचिकाकर्ता को साक्षात्कार में उपस्थित होने की अनुमति दी।

उन्होंने तर्क दिया कि जहां उम्मीदवारों के पास दोहरी डिग्री है और उन्हें अपलोड करने का कोई मौका नहीं है, वहां अंकों के पृथक्करण के लिए प्रमाण पत्र प्रदान करने के लिए कोई नियम निर्धारित नहीं है।

इसके अलावा, याचिकाकर्ता को दोहरी डिग्री के संबंध में अपना पक्ष स्पष्ट करने का कोई अवसर नहीं दिया गया, जो नैसर्गिक न्याय के सिद्धांत का उल्लंघन है। उन्होंने कहा कि शैक्षिक प्रमाण पत्र के संबंध में तथ्यों को छिपाया नहीं गया था और उपरोक्त पद के चयन के लिए ओपीएससी द्वारा दोहरी डिग्री भी स्वीकृत की गई थी।

निष्कर्ष

कोर्ट ने शुरू में बताया कि दोहरी डिग्री रखने वाले उम्मीदवारों की नियुक्ति को मद्रास हाईकोर्ट सहित कई हाईकोर्टों द्वारा सचिव बनाम तमिलनाडु राज्य [WP (MD) No 12639 of 2016] के मामले में स्वीकार किया गया है।

कोर्ट ने आगे कहा, वर्तमान मामले में शामिल मुद्दे से निपटने के लिए न्याय के हित, कानून के शासन और जनता के व्यापक हित में बहुत महत्वपूर्ण पहलुओं पर विचार करना अनिवार्य होगा...।

"स्थापित कानूनी प्रस्ताव यह है कि नैसर्गिक न्याय के सिद्धांत वैधानिक नियमों में निर्मित होते हैं और तब तक पालन की आवश्यकता होती है जब तक कि वही स्टैंड नियमों से बाहर न हो। न्यायनिर्णायक प्राधिकारी निष्पक्ष होना चाहिए और किसी भी प्रकार के किसी भी हित या पूर्वाग्रह के बिना ... न्यायनिर्णायक प्राधिकारी को प्रभावित व्यक्ति को अपने मामले के समर्थन में सभी प्रासंगिक सबूत पेश करने का पूरा मौका देना चाहिए।"

जस्टिस पाणिग्रही ने तब कहा सुप्रीम कोर्ट ने बार-बार दोहराया है कि प्राकृतिक न्याय के सिद्धांत को स्ट्रेट-जैकेट या कठोर सूत्र के भीतर कैद नहीं किया जा सकता है और इसका आवेदन कानून की योजना और नीति और किसी विशेष मामले में शामिल प्रासंगिक परिस्थितियों पर निर्भर करेगा।

वर्तमान मामले में, उम्मीदवारी या दोहरी डिग्री रखने वाले व्यक्तियों के संबंध में प्रावधानों की कमी को देखते हुए, याचिकाकर्ता को अंकों के पृथक्करण के संबंध में अपने दृष्टिकोण को स्पष्ट करने के लिए सुनवाई प्रदान की जानी चाहिए थी। इसलिए, उन्होंने निष्कर्ष निकाला, "इस मामले पर पूर्वोक्त परिप्रेक्ष्य में विचार करने और यहां ऊपर उद्धृत उदाहरणों द्वारा निर्देशित होने के बाद, यह न्यायालय याचिका की अनुमति देता है। हालांकि, इस स्तर पर यह स्पष्ट किया जाता है कि घड़ी को उलटा नहीं किया जा सकता है क्योंकि चयन प्रक्रिया पहले ही समाप्त हो चुकी है। हालांकि, यह अनिवार्य है कि ओपीएससी को इसमें शामिल मुद्दे की केंद्रीयता का स्पष्ट रूप से उल्लेख करना चाहिए ताकि कई मेधावी उम्मीदवार जिन्हें वर्तमान याचिकाकर्ताओं के साथ समान रूप से रखा गया है, उन्हें शामिल होने के अवसर से वंचित नहीं किया जाना चाहिए।"

तदनुसार, रिट याचिका को उपरोक्त मामलों में अनुमति दी गई थी।

केस टाइटल: भुबन मोहन बेहरा बनाम उड़ीसा राज्य और अन्य।

केस नंबर: WP(C) NO 3617 Of 2022

कोरम: जस्टिस संजीव कुमार पाणिग्रही

साइटेशन: 2022 लाइव लॉ (Ori) 97

आदेश पढ़ने/डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें

Next Story