Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

शिवसेना सांसद संजय राउत की गिरफ्तारी की मांग वाली याचिका बॉम्बे हाईकोर्ट में खारिज

LiveLaw News Network
25 Aug 2021 10:18 AM GMT
शिवसेना सांसद संजय राउत की गिरफ्तारी की मांग वाली याचिका बॉम्बे हाईकोर्ट में खारिज
x

बॉम्बे हाईकोर्ट ने बुधवार को एक 39 वर्षीय मनोवैज्ञानिक की याचिका खारिज कर दी जिसमें शिवसेना सांसद संजय राउत की गिरफ्तारी की मांग की गई थी।

याचिकाकर्ता स्वप्ना पाटकर ने आरोप लगाया कि राउत और उनके पति के कहने पर उन्हें प्रताड़ित किया गया और उनका पीछा किया गया।

याचिकाकर्ता ने मुंबई पुलिस को 2013 और 2018 में अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ दर्ज तीन प्राथमिकी की उचित जांच और उप पुलिस आयुक्त (डीसीपी), जोन VIII के खिलाफ कार्रवाई शुरू करने के लिए निर्देश देने की मांग की थी।

न्यायमूर्ति एस एस शिंदे और न्यायमूर्ति एन जे जमादार की खंडपीठ ने बुधवार को तीन याचिकाओं में हस्तक्षेप करने से इनकार कर दिया और पाटकर से मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट के समक्ष राहत की मांग करने को कहा।

हालांकि अदालत ने मजिस्ट्रेट के सामने मामले में पाटेकर को सुनने और मामले को जल्द से जल्द निपटाने के लिए कहा।

अपनी याचिका में, याचिकाकर्ता ने आरोप लगाया कि डीसीपी ने सांसद और अन्य लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने के राष्ट्रीय महिला आयोग के निर्देशों का पालन नहीं किया, जिन्होंने प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से राउत से सांठगांठ की।

यह ध्यान दिया जा सकता है कि इस साल की शुरुआत में राउत के खिलाफ याचिका दायर करने के बाद, उन्हें पद से हटाए जाने से पहले फर्जी डिग्री का उपयोग करके एक अस्पताल में अभ्यास करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। हालाँकि, बॉम्बे हाईकोर्ट ने हाल ही में उनके खिलाफ गंभीर अपराधों को रद्द करने की उनकी याचिका में उन्हें अंतरिम जमानत दे दी थी।

बहस के दौरान मुख्य लोक अभियोजक अरुणा पई ने अदालत को सूचित किया कि पाटेकर की एक शिकायत में आरोप पत्र दायर किया गया है और दो अन्य में 'ए' सारांश रिपोर्ट दर्ज की गई है।

पीठ ने कहा,

"हम केवल [मजिस्ट्रेट के सामने] कार्यवाही में तेजी ला सकते हैं। हर किसी को कानून में विश्वास होना चाहिए।"

याचिकाकर्ता की ओर से वकील आभा सिंह ने मौखिक रूप से मामले को सीबीआई को स्थानांतरित करने की मांग की। सिंह ने प्रस्तुत किया कि यह विश्वास करना असंभव है जब मुंबई पुलिस कहती है कि याकिकाकर्ता को परेशान किया गया था, लेकिन वे दोषियों को नहीं ढूंढ सकते।

राउत की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता प्रसाद ढकेफलकर ने याचिका पर प्रारंभिक आपत्ति जताई और कहा कि राउत की बेटी की तरह महिला उन पर केवल इसलिए आरोप लगा रही है क्योंकि उसे लगता है कि राउन महिला और उनके पति के बीच चल रहे वैवाहिक विवाद में उनके पति का साथ दे रहे हैं।

ऑर्डर डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें



Next Story