Top
Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

'अगली तारीख पर पेश हों या वारंट का सामना करें': मुंबई कोर्ट ने जावेद अख्तर द्वारा दायर मानहानि मामले में अभिनेत्री कंगना रनौत को चेतावनी दी

LiveLaw News Network
27 July 2021 10:49 AM GMT
अगली तारीख पर पेश हों या वारंट का सामना करें: मुंबई कोर्ट ने जावेद अख्तर द्वारा दायर मानहानि मामले में अभिनेत्री कंगना रनौत को चेतावनी दी
x

मुंबई की एक कोर्ट ने मंगलवार को अभिनेत्री कंगना रनौत को गीतकार जावेद अख्तर द्वारा उनके खिलाफ दायर मानहानि मामले में 'आखिरी मौका' के रूप में पेश होने से छूट दे दी।

मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट आरआर खान ने रनौत के वकील को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया कि वह अगली तारीख पर उपस्थित हों। उनके ऐसा नहीं करने पर अख्तर उनके खिलाफ वारंट जारी करने के लिए आवेदन कर सकते हैं।

रनौत ने कोर्ट कुछ दिन के लिए उपस्थिति से छूट मांगी है। उन्होंने कहा कि वह इस समय देश में नहीं है और देश के बाहर शूटिंग कर रही है।

हालांकि, अख्तर की ओर से पेश हुए वकील जय भारद्वाज ने आवेदन का कड़ा विरोध किया और उनके खिलाफ वारंट जारी करने की मांग की।

मजिस्ट्रेट ने अख्तर की याचिका को खारिज कर दिया। इसके साथ ही अभिनेत्री को आखिरी मौका के रूप में छूट देते हुए मामले को एक सितंबर के लिए स्थगित कर दिया।

अख्तर ने सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद रिपब्लिक टीवी पर दिए गए बयानों को लेकर रनौत के खिलाफ आपराधिक मानहानि की शिकायत दर्ज कराई थी।

फरवरी 2021 में मुंबई के अंधेरी में मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट ने सीआरपीसी की धारा 204 के तहत मामले की प्रक्रिया जारी की थी और रनौत को अदालत में बुलाया था।

कंगना ने हाल ही में सीआरपीसी की धारा 202 के तहत जारी मजिस्ट्रेट के जांच आदेश की आलोचना करते हुए बॉम्बे हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था और सभी कार्यवाही को रद्द करने की मांग की थी।

स्थायी छूट

मंगलवार को दायर आवेदन में अख्तर ने मामले में उपस्थिति से स्थायी छूट की मांग करने वाले रनौत के आवेदन को खारिज करने की भी मांग की थी।

अख्तर ने आरोप लगाया कि रनौत अंधेरी कोर्ट में सिर्फ अपने खिलाफ जारी जमानती वारंट को रद्द करने के लिए पेश हुई है। वहीं इस मामले में उनकी बार-बार अनुपस्थिति कानून और न्यायिक कार्यवाही के लिए उनके कम सम्मान को दर्शाती है।

पिछले महीने दायर अपने आवेदन में कंगना ने मामले में उपस्थिति से छूट लेने के लिए देश भर में अपनी कार्य प्रतिबद्धताओं का हवाला दिया था।

अभिनेत्री की याचिका में कहा गया था कि नियमित सुनवाई की तारीखों पर उपस्थिति होने के लिए उन्हें विभिन्न कार्यस्थलों से मुंबई तक मीलों की यात्रा करनी होगी। इससे उन्हें अनुचित कठिनाई और वित्तीय नुकसान होगा।

अपने स्थायी छूट आवेदन के लिखित जवाब में अख्तर ने कहा कि सीआरपीसी की धारा 205 किसी भी आवेदक को जमानती अपराध के मामले में स्थायी छूट लेने का अधिकार नहीं देती है।

"आवेदक आरोपी का आचरण उस आकस्मिक दृष्टिकोण के बारे में बताता है जिसके साथ वर्तमान मामले चल रहा है। यह इस तथ्य से जुड़ा है कि आज तक आवेदक आरोपी मामले की सुनवाई की एक भी तारीख को उपस्थित नहीं हुआ है। इसलिए, यह सबसे सम्मानजनक रूप से प्रस्तुत किया गया कि यह अदालत वर्तमान आवेदन को खारिज करने और आवेदक आरोपी के लिए उचित निर्देश जारी करने की कृपा कर सकती है कि वह निर्धारित तारीखों पर इस अदालत के समक्ष उपस्थित रहे।"

उन्होंने आगे बताया कि कैसे रनौत ने अपने खिलाफ लंबित मानहानि के मामले को छुपाकर अपना पासपोर्ट नवीनीकृत करने में कामयाबी हासिल की।

बॉम्बे हाईकोर्ट ने सोमवार को अख्तर के पासपोर्ट मुद्दे के संबंध में अंतरिम आवेदन पर सुनवाई करने से मौखिक रूप से इनकार कर दिया था, क्योंकि उसने एक अन्य रद्द की जाने वाली याचिका में आदेश प्राप्त किया था।

अदालत ने अख्तर को शिकायतकर्ता या सरकारी वकील से संपर्क करने के लिए कहा था, क्योंकि वह उस कार्यवाही में एक पक्षकार नहीं थे।

Next Story