Top
Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने "मध्यस्थता से सुलह" विषय को एलएलबी डिग्री कोर्स के लिए अनिवार्य विषय के रूप में अधिसूचित किया

LiveLaw News Network
16 Aug 2020 7:30 AM GMT
बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने  मध्यस्थता से सुलह विषय को एलएलबी डिग्री कोर्स के लिए अनिवार्य विषय के रूप में अधिसूचित किया
x
BCI Notifies Mediation With Conciliation As Compulsory Subject For LLB Courses Wef Academic Session 2020-21

बार काउंसिल ऑफ इंडिया ( BCI) ने अधिसूचित किया है कि "मध्यस्थता से सुलह" (Mediation With Conciliation) विषय सत्र 2020- 2021 से एलएल.बी. डिग्री कोर्स में अनिवार्य विषय के रूप में प्रभावी होगा। ।

यह सूचित गया कि विषय "45 घंटे का कोर्स कंपोनेंट" होगा जो 3 वर्ष और 5 वर्ष के पाठ्यक्रम/ऑनर्स डिग्री और गैर-ऑनर्स दोनों के लिए के लिए अनिवार्य होगा।

काउंसिल ने भारतीय विधिक प्रणाली में सुधार का मार्ग प्रशस्त करने के लिए मध्यस्थता और सुलह की "कला" में छात्रों को प्रशिक्षित करने की आवश्यकता पर जोर दिया है, जिसमें अदालतों पर बोझ को कम करना और पक्षकारों द्वारा त्वरित और प्रभावकारी प्रस्ताव पर सहमति से विवाद के विभिन्न बिंदु पर उसे हल करना शामिल है ।

इसलिए यह कहा गया कि ऐसे कार्यक्रमों के लिए शिक्षकों को पर्याप्त रूप से प्रशिक्षित होना चाहिए।

एलएलबी डिग्री देने वाली यूनिवर्सिटी के कुलपतियों को संबोधित पत्र में बीसीआई ने कहा,

"मध्यस्थता विषय के लिए आवश्यक शिक्षकों की योग्यता किसी भी प्राधिकारी / संस्थान के परामर्श से बार काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा तय की जाएगी जो यूजीसी के लिए फिट हो। फिलहाल, कम से कम 10 वर्ष की वकालत का अनुभव, इन विषयों में सैद्धांतिक ज्ञान और व्यावहारिक अनुभव वाले उम्मीदवार, जिनके पास इन विषयों में 2- साल एलएलएम की डिग्री हो, उनसे आवेदन आमंत्रित किए जा सकते हैं।"

सिलेबस और विषय के लिए साप्ताहिक पाठ्यक्रम अनुसूची, जैसा कि बीसीआई द्वारा अनुशंसित है, नीचे दिए गए पत्र में देखा जा सकता है।

यह कदम महामारी के बीच निलंबित अदालत के कामकाज की पृष्ठभूमि में उठाया गया है, जिसमें मध्यस्थता का विकल्प समाधान के एक महत्वपूर्ण टूल के रूप में सामने आया है।

भारत के माननीय मुख्य न्यायाधीश भी उत्सुक हैं कि एलएलबी छात्रों को मध्यस्थता की कला सिखाई जाए है क्योंकि यह बैकलॉग और मामलों की बढ़ोतरी को कम करने में सहायता करेगा।

बीसीआई ने कहा कि वादकारियों, छात्रों और वकीलों को मध्यस्थता के बारे में अधिक जानकारी देने से सूट / मामलों को सीधे दर्ज करने के बजाय इसे एक विकल्प के रूप में देखा जाएगा।

बीसीआई का पत्र पढ़ें



Next Story