Top
Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

क्रिमिनल पक्ष के ट्रायल वकीलों को सफलता के लिए सीनियर एडवोकेट आर बसंत की 8 सलाह

LiveLaw News Network
29 Jun 2020 4:30 AM GMT
क्रिमिनल पक्ष के ट्रायल वकीलों को सफलता के लिए सीनियर एडवोकेट आर बसंत की 8 सलाह
x

सुप्रीम कोर्ट के सीनियर एडवोकेट (और केरल हाईकोर्ट के पूर्व जज) आर बसंत ने आपराधिक पक्ष के ट्रायल वकीलों के लिए कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां साझा की है, सफल प्रैक्टिस के लिए जिनका पालन किया जाना आवश्यक है।

1. अपने कागजात को बखूबी समझें

"ट्रायल वकीलों काम बहुत कठिन है। सिविल मामलों के विपरीत, आपराधिक कानून में कोई दलील नहीं होती है। गवाहों के बयान अहस्ताक्षरित होते हैं और बाध्यकारी नहीं होते हैं। गवाह मुकर सकते हैं।

पहली बात है कि अपने कागजात को अच्छी तरह से बुद्धिमानी और कल्पनाशीलता से समझना। जब मामला ट्रायल के लिए आएगा तो क्या विचलन हो सकता है, इसका आकलन करना भी महत्वपूर्ण है।

एक कल्पनाशील ट्रायल वकील उस के बारे में सोचता है। आपराधिक प्रक्रिया की धारा 207 के तहत आपको सभी कागजात की पूरी जानकारी होनी चाहिए "

2. साक्ष्य अधिनियम का पूर्ण ज्ञान

"अच्छा ट्रायल वकील होने के लिए, आपको साक्ष्य अधिनियम और प्रावधानों को पूरी तरह से जानना चाहिए"।

3. प्रक्रियात्मक और ठोस कानूनों की पूरी जानकारी

एक ट्रायल वकील को दंड प्रक्रिया संहिता और साक्ष्य के नियमों की पूरी जानकारी होनी चाहिए।

इसके अलावा, वकील को कानून, अपराधों की परिभाषा और अदालतों ने उनसे कैसे निपटा है, सामान्य अपवाद आदि से अच्छी तरह वाकिफ होना चाहिए।

4. एक कल्पनाशील मन

मामले की सभी संभावनाओं पर काम करने वाला एक कल्पनाशील दिमाग आवश्यक है।

"आपके पास एक कल्पनाशील कॉमन सेंस होना चाहिए ताकि आप विभिन्न संभावनाओं का आकलन कर सकें जो तथ्यों से उपजी हों।"

5. ऐसी समझ ‌कि अभियोजन से हर चीज़ के लिए लड़ना, मदद करने वाली नहीं है

ट्रायल वकील को स्पष्ट तथ्यों पर विवाद नहीं करना चाहिए।

"मैं उन वकीलों को जानता हूं जो हर बात से इनकार करते रहते हैं। कुछ लोग तो इस बात से भी इनकार करते हैं कि गवाह एक पुलिस अधिकारी है। वह पूछते हैं कि क्या आपके पास कोई दस्तावेज है, जो यह बताए कि आप पुलिस अधिकारी हैं। केवल अनुभवहीन व्यक्ति ऐसा करता है।"

के कुन्हीरामन की शिक्षाओं को को याद करते हुए बसंत ने कहा:

"जहां तक ​​संभव हो अभियोजन पक्ष के साथ जाएं; केवल महत्वपूर्ण बिंदुओं पर अपना रास्ता अलग लें और अभियोजन पक्ष से दूर जाएं"।

6. जहां तक ​​संभव हो निश्च‌ित मामला लें; विरोधाभासी दलीलों से बचें

के कुन्हीरामन के सबक को याद करते हुए, बसंत ने कहा

" जहां तक संभव हो एक निश्चित मामला लें। आप वैकल्पिक बचाव कर सकते हैं, लेकिन विरोधाभासी बचाव नहीं कर सकते- जैसे कि एलिबी और निजी बचाव की रक्षा। इससे आपको हार का सामना करना पड़ेगा। ऐसे बचाव, जो एक दूसरे के विरोधाभासी हैं, उन्हें लेना समझदारी नहीं है।

7. प्रभावी कम्यून‌िकेशन और विश्लेषण की क्षमता

एक वकील के लिए प्रभावी कम्यून‌िकेशन आवश्यक है। हालांकि लच्छेदार भाषा या वक्तृत्व बहुत मदद करने वाला नहीं है।

एक अच्छा जज लच्छेदार भाषा पर ध्यान नहीं देता है। क्या अधिक महत्वपूर्ण है यह कानून और तथ्यों के विश्लेषण से आता है। युवा वकीलों को केवल इसलिए नहीं शर्माना चाहिए क्योंकि उनके पास लच्छेदार अंग्रेजी भाषा नहीं है। अंग्रेजी पर महारत की तुलना में विश्लेषण की शक्ति अधिक महत्वपूर्ण है।

8. कड़ी मेहनत; कोई शॉर्ट कट नहीं

बसंत ने कड़ी मेहनत के महत्व पर प्रकाश डाला और कहा कि सफलता के लिए कोई शॉट कट नहीं है।

उन्होंने कहा कि पेशे से गॉड फादर या पूर्ववर्ती होना सफलता के लिए आवश्यक नहीं है। "मैं इसके लिए शर्त लगा सकता हूं। पेशे से मेरा कोई गॉड फादर नहीं है।"

बसंत ने लाइवलॉ की ओर से आयोजित "फंडामेंटल ऑफ क्रिमिनल ट्रायल" विषय पर आयोजित एक वेबिनार में "लॉ प्रैक्टिशनर्स सीरीज़" के उद्घाटन सत्र में ये बाते कहीं।

पूरा वीडियो सुनने के लिए क्लिक करें-


Next Story