Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

विश्वास, स्थिरता और पारदर्शिता से आगे से बढ़ेंगे : सीजेआई बोबड़े और जस्टिस चंद्रचूड़ ने सुप्रीम कोर्ट फाइलिंग मॉड्यूल का उद्घाटन किया

LiveLaw News Network
16 May 2020 3:54 AM GMT
विश्वास, स्थिरता और पारदर्शिता से आगे से  बढ़ेंगे : सीजेआई बोबड़े और जस्टिस चंद्रचूड़ ने सुप्रीम कोर्ट फाइलिंग मॉड्यूल का उद्घाटन किया
x

शीर्ष अदालत के व्यापक डिजिटलीकरण की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम में सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को लाइव टेलीकास्ट के माध्यम से ऑनलाइन ई-फाइलिंग मॉड्यूल का उद्घाटन किया।

इस लाइव डेमो के टेलीकास्ट ने ई-फाइलिंग का उपयोग करने की प्रक्रिया चरणबद्ध तरीके से ल समझाते हुए बताया कि ई-फाइलिंग का उपयोग कैसे करें।

चीफ जस्टिस एसए बोबडे और जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ (जो एससी के अध्यक्ष के साथ-साथ एससी की ई-फाइलिंग कमेटी के प्रमुख भी हैं), वरिष्ठ अधिवक्ता दुष्यंत दवे और SCAORA के अध्यक्ष श्री शिवाजी जाधव ने सत्र में भाग लिया।

श्री शिवाजी जाधव, अध्यक्ष SCAORA ने धन्यवाद प्रस्ताव शुरू किया: -

" सुप्रीम कोर्ट रजिस्ट्री फूट सोल्जर को नहीं भूलना चाहिए [माननीय सुप्रीम कोर्ट के] जो इस मुश्किल समय में भी आसानी से अपने कर्तव्य का निर्वहन कर रहे हैं।"

- श्री जाधव

" बार में इस बात पर सहमति है कि वर्चुअल कोर्ट एक आवश्यकता है, हालांकि फिज़िकल सुनवाई को प्रतिस्थापित नहीं करना चाहिए। कोई भी बदलाव हमेशा मुश्किल होता है, हालांकि, हम धीरे-धीरे और लगातार इसकी आदत डालेंगे। हम सभी इसमें एक साथ हैं।"

- श्री जाधव

वरिष्ठ अधिवक्ता दुष्यंत दवे ने इन प्रयत्नों में न्यायपालिका द्वारा "अधिक सतर्कता" की आवश्यकता पर प्रकाश डाला।

"स्वतंत्र बार और स्वतंत्र बेंच एक लोकतंत्र की रीढ़ बनती है। हमारी ओर से, हम भी इस दिशा में काम कर रहे हैं। हम न्याय प्रणाली को डिजिटल बनाने के लिए प्रयास कर रहे हैं।"

दवे

इसके बाद, जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ ने ऑनलाइन मॉड्यूल को "सुप्रीम कोर्ट की रजिस्ट्री द्वारा सहायता प्राप्त बार और बेंच के एक सहयोगी प्रयास" के रूप में वर्णित किया।

उन्होंने कहा कि मॉड्यूल "टी-ई-एस-टी मॉडल" पर आधारित है जो विश्वास, सहानुभूति, स्थिरता और पारदर्शिता प्राप्त करने का प्रयास करता है।

विशेष रूप से, इस बात पर जोर दिया गया कि ई-फाइलिंग को 24/7 उपलब्ध कराया जाएगा, जिसमें सीजेआई एसए बोबडे ने एक हल्के अंदाज में कहा

"पता नहीं कि यह अच्छा होगा या नहीं, लेकिन यह 24/7 होगा।"

न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ ने कहा:

"हमने तैयार किया है:

1) ई-फाइलिंग: 24/7 उपलब्ध;

2) डिजिटल ऑब्जेक्शन (एस) स्क्रूटनी मेकेनिज़्म

3) कोर्ट फीस का ई-भुगतान;

4) डिजिटल हस्ताक्षर शामिल करना;

5) डैशबोर्ड - संबंधित वकीलों के सभी व्यक्तिगत डेटा का एक व्यापक ई-फ़ोल्डर होगा "

इसे आगे बढ़ाते हुए न्यायमूर्ति सीजेआई एसए बोबडे ने कहा कि ऑनलाइन डिजीटल ई-फाइलिंग प्रणाली को "न्याय तक पहुंच, सरल और समावेशी प्रौद्योगिकी, कानून के उच्चस्तरीय नियम, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस केंद्रित सूचना जिसे मिनटों में निकाला जा सके," के सिद्धांतों को ध्यान में रखते हुए तैयार किया गया है।

सीजेआई ने यह भी बताया कि यह प्रणाली उच्चतम न्यायालय की निगरानी में तैयार की गई है और न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) चौहान द्वारा इसका नेतृत्व किया गया।

अंत में, सुप्रीम कोर्ट के सेक्रेटरी जनरल ने इस ई-मॉड्यूल का उपयोग करने के लिए एक व्यापक डेमो और एक चरण-दर-चरण परिचय दिया।

Next Story