Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

वकीलों ने पूरी तरह से फिजिकल सुनवाई को फिर से शुरू करने के लिए सुप्रीम कोर्ट का रुख किया

LiveLaw News Network
24 Nov 2021 9:30 AM GMT
वकीलों ने पूरी तरह से फिजिकल सुनवाई को फिर से शुरू करने के लिए सुप्रीम कोर्ट का रुख किया
x

प्रैक्टिस करने वाले और सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन के सदस्य 114 वकीलों ने 16 मार्च, 2021 से पहले पूरी तरह से फिर से फिजिकल सुनवाई को शुरू करने के लिए एक हस्तक्षेप आवेदन के माध्यम से सुप्रीम कोर्ट का रुख किया।

वर्चुअल कोर्ट सुनवाई को मौलिक अधिकार घोषित करने की मांग करते हुए ऑल इंडिया ज्यूरिस्ट एसोसिएशन द्वारा दायर रिट याचिका में हस्तक्षेप आवेदन दायर किया गया।

आवेदन में कहा गया,

"परंपरागत रूप से न्याय प्रशासन को वादियों के मामलों और शिकायतों को उनके कानूनी प्रतिनिधियों/अधिवक्ताओं और न्यायाधीशों द्वारा ओपन कोर्ट में सुनने की आवश्यकता होती है। ओपन कोर्ट पूर्ण सार्वजनिक दृश्य में कानून की अदालत के समक्ष की गई कार्यवाही को संदर्भित करती हैं।"

ओपन कोर्ट में सभी दीवानी और आपराधिक मामलों की सुनवाई की आवश्यकता के लिए सीपीसी की धारा 153बी, 1908 और सीआरपीसी, 1973 की धारा 327 का उल्लेख करते हुए आवेदकों ने कहा कि हालांकि सुप्रीम कोर्ट सामान्य अदालत की सुनवाई पर वापस लौटने के लिए दृढ़ है, लेकिन "कुछ याचिकाएं" इस तरह के प्रयासों को विफल करने के लिए दायर की जा रही है।

आवेदन में यह प्रस्तुत किया गया कि न्यायालयों ने वकीलों को नई तकनीक के अनुकूल बनाने के लिए प्रशिक्षित करने की पूरी कोशिश की है, लेकिन वर्चुअल कोर्ट की स्थापना अभी भी समाज के कमजोर वर्ग से संबंध रखने वाले वकीलों के लिए बहुत सारी समस्याएं पैदा करते हैं।

आवेदन में कहा गया,

"भले ही सुनवाई की वर्चुअल प्रणाली ने महामारी के दौरान भारत में न्याय वितरण प्रणाली के लिए एक अल्पकालिक प्रभावी विकल्प प्रदान किया, लेकिन भारत में इसकी निरंतरता को प्रभावित करने के लिए गंभीर संरचनात्मक परिवर्तनों की आवश्यकता होगी।"

वर्चुअल कोर्ट्स के नुकसानों को उल्लेख करने के लिए आवेदकों ने कहा कि बार के जूनियर मेम्बर सीनियर्स को उनके तर्क और अदालती शिल्प कौशल को देखते हुए व्यावहारिक टिप्पणियों पर भारी नुकसान करते हैं। इसमें आगे कहा गया कि बार के जूनियर मेम्बर्स के लिए न्यायाधीश द्वारा अदालत का आचरण भी एक महत्वपूर्ण अवलोकन होगा।

आवेदन में आगे कहा गया,

"यदि सुनवाई के सामान्य तरीके को फिर से शुरू नहीं किया गया तो माननीय सुप्रीम कोर्ट अपना चमक खो देगा। अदालत की मर्यादा, अनुशासन और गरिमा को सुनवाई के इस वर्चुअल तरीके से झटका लगा है। इसके कई उदाहरण हैं जब वर्चुअल कोर्ट के कामकाज के दौरान इनकी महिमा और गरिमा के साथ समझौता होते देखा गया। हालांकि, इसे सभी या किसी के लिए बदनामी से बचने के लिए स्पष्ट रूप से नहीं बताया जा रहा है।"

जस्टिस एलएन राव, जस्टिस बीआर गवई और जस्टिस बीवी नागरत्ना की बेंच के समक्ष एडवोकेट ऑन रिकॉर्ड स्मारक सिंह ने आज आवेदन का उल्लेख किया। इसके बाद पीठ 6 दिसंबर, 2021 को इस पर सुनवाई के लिए तैयार हो गई।

केस टाइटल: ऑल इंडिया एसोसिएशन ऑफ ज्यूरिस्ट्स एंड अन्य बनाम हाईकोर्ट ऑफ उत्तराखंड| डब्ल्यूपी (सिविल) 941/2021

Next Story