Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

'अनुचित और मनमाना': DHCBA ने सुप्रीम कोर्ट के वकीलों को हाईकोर्ट के जज के रूप में पदोन्नत करने के SCBA के प्रस्ताव के खिलाफ CJI को पत्र ‌लिखा

LiveLaw News Network
12 Jun 2021 4:00 AM GMT
अनुचित और मनमाना: DHCBA ने सुप्रीम कोर्ट के वकीलों को हाईकोर्ट के जज के रूप में पदोन्नत करने के SCBA के प्रस्ताव के खिलाफ CJI को पत्र ‌लिखा
x

चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (CJI) को दिए सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन (SCBA) के प्रस्ताव कि हाईकोर्ट के जजों के रूप में पदोन्नति के लिए सुप्रीम कोर्ट में प्रैक्टिस कर रहे वकीलों पर विचार किया जाए, के विरोध में दिल्ली हाईकोर्ट बार एसोसिएशन (DHCBA) ने चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया को एक पत्र लिखा है।

पत्र में कहा गया है, "माननीय हाईकोर्ट के जज के रूप में पदोन्नति के लिए विचार करने के लिए माननीय सुप्रीम कोर्ट के समक्ष अभ्यासरत वकीलों का एक अलग वर्ग बनाने का प्रयास न केवल अनुचित, मनमाना और भेदभावपूर्ण है, बल्कि इससे हाईकोर्ट के वकीलों में बड़े पैमाने पर नाराजगी पैदा होने की संभावना है। इससे बार के एक बड़े वर्ग में असंतोष फैलेगा और उनका मनोबल गिरेगा।"

DHCBA ने CJI से उच्च न्यायालयों के मुख्य न्यायाधीशों को दिए गए निर्देशों, यदि कोई हो, कि उच्च न्यायालयों में न्यायाधीश पद के लिए सुप्रीम कोर्ट में अभ्यासरत वकीलों पर विचार किया जाए, जैसा किस SCBA का प्रस्ताव है, को वापस लेने का अनुरोध किया है।

मौजूदा मुद्दे की शुरुआत SCBA के एक पत्र से हुई, जिसमें उसने कहा कि CJI उच्च न्यायालयों के न्यायाधीशों के रूप में पदोन्नति के लिए सुप्रीम कोर्ट में अभ्यासरत वकीलों पर विचार करने के प्रस्ताव पर सहमत हो गए हैं।

SCBA ने यह भी दावा किया कि "CJI SCBA द्वारा किए गए अनुरोध पर सहमत हो गए हैं और उच्च न्यायालयों के मुख्य न्यायाधीशों से अनुरोध किया है कि वे उच्च न्यायालयों में पदोन्नति के लिए सर्वोच्च न्यायालय में अभ्यासरत वकीलों पर विचार करें"।

SCBA के इस कदम की सराहना किए बिना, DHCBA ने कहा है, "यह एक परेशान करने वाला और गंभीर चिंता का विषय है कि अकेले सुप्रीम कोर्ट में प्रैक्टिस करने वाले वकीलों को इस तरह के भेदभाव के लिए अधिवक्ताओं के एक अलग वर्ग के रूप में माना जाना चाहिए"।

DHCBA ने कहा कि "देश के सभी उच्च न्यायालयों और अधीनस्थ न्यायालयों में प्रतिभाशाली, सक्षम और मेधावी वकीलों की कोई कमी नहीं है।"

गलत धारणा है कि सुप्रीम कोर्ट के वकील ज्यादा मेधावी होते हैं

DHCBA ने SCBA द्वारा दिए गए इस बयान पर कड़ी आपत्ति जताई है कि सुप्रीम कोर्ट के वकील अधिक मेधावी हैं।

पत्र में कहा गया है, "यह दावा न केवल बेतुका है बल्कि वास्तव में देश भर में अन्य माननीय न्यायालयों के समक्ष अभ्यासरत वकीलों को अपमानित करता है। SCBA द्वारा किया गया यह दावा न केवल झूठा और भ्रामक है बल्कि उच्च न्यायालयों में अभ्यासरत वकीलों की क्षमता और प्रतिभा को भी कमजोर करता है। यह कोई रहस्य नहीं है कि कई जाने-माने विधिवेत्ता उच्च न्यायालयों में अभ्यास करते हुए विकसित हुए हैं।"

उच्च न्यायालयों में पदोन्नति के लिए वकीलों की स्क्रीनिंग के लिए SCBA के पास "सर्च कमेटी" नहीं हो सकती है

DHCBA ने सुप्रीम कोर्ट के योग्य और मेधावी वकीलों की पहचान करके पदोन्नति की प्रक्रिया को सुविधाजनक बनाने के लिए SCBA द्वारा गठित "सर्च कमेटी" पर भी अस्वीकृति व्यक्त की।

उन्होंने कहा है कि कि वकीलों को उच्च न्यायालयों में पदोन्नत करने की प्रथा और प्रक्रिया कॉलेजियम की सिफारिशों पर आधारित है।

DHCBA ने पूछा, "यदि तथाकथित "सर्च कमेटी" उच्च न्यायालयों के कॉलेजियम द्वारा विचार के लिए नामों को अग्रेषित करना है, तो प्रतिभाशाली और मेधावी उम्मीदवारों की पहचान करने और उनके नाम अग्रेषित करने के लिए सभी हाईकोर्ट बार एसोसिएशन ऐसी ही सर्च कमेटी क्यों ना बनाए?"

पत्र पर DHCBA के अध्यक्ष वरिष्ठ अधिवक्ता मोहित माथुर और सचिव अभिजीत के हस्ताक्षरित हैं।

पत्र पढ़ने/डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें



Next Story