Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

सुप्रीम कोर्ट ने  कर्नाटक हाईकोर्ट के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के खिलाफ दायर भ्रष्टाचार मामले को बहाल करने के आदेश पर रोक लगाई

LiveLaw News Network
5 April 2021 7:51 AM GMT
सुप्रीम कोर्ट ने  कर्नाटक हाईकोर्ट के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के खिलाफ दायर भ्रष्टाचार मामले को बहाल करने के आदेश पर रोक लगाई
x

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को कथित तौर पर भूमि के डी-नोटिफिकेशन के संबंध में मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के खिलाफ दायर भ्रष्टाचार मामले को बहाल करने के कर्नाटक उच्च न्यायालय के आदेश पर रोक लगा दी।

सीजेआई एसए बोबडे की अगुवाई वाली एक बेंच ने हाई कोर्ट के आदेश को चुनौती देने वाली याचिका पर येदियुरप्पा की ओर से पेश, वरिष्ठ वकील केवी विश्वनाथन के अनुरोध पर हाई कोर्ट के आदेश पर अंतरिम रोक लगाई है और नोटिस जारी किया है।

यह मामला सीआरपीसी की धारा 200 के तहत येदियुरप्पा के खिलाफ दायर एक निजी शिकायत से संबंधित है, जिसमें आरोप लगाया गया है कि 2008-12 में अपने सीएम रहने के कार्यकाल के दौरान, येदियुरप्पा ने 20 एकड़ निजी भूमि को अवैध रूप से डिनोटिफाई कर दिया, ताकि निजी पक्षों को अनुचित लाभ मिल सके जिससे 2,64,00,000 रुपये के सेवा शुल्क और 6.00 करोड़ रुपये के विकास शुल्क के तौर पर सरकारी खजाने को नुकसान पहुंचा। उन पर भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम, 1988 की धारा 7, 10, 13 और 15 के तहत अपराध के गठन का आरोप लगाया गया था।

2016 में, विशेष न्यायाधीश ने यह कहते हुए मामले को खारिज कर दिया था कि शिकायत में येदियुरप्पा के खिलाफ कोई आरोप नहीं था।

"आरोपी बीएस येदियुरप्पा और कट्टा सुब्रमण्यम नायडू के खिलाफ शिकायत में कोई आरोप नहीं हैं। जब आरोप पत्र में आरोपी संख्या 1 और 2 के खिलाफ कोई आरोप नहीं लगाया गया है और शिकायत में 1 और 2 आरोपियों के खिलाफ कुछ नहीं है, यह अदालत कथित अपराध के लिए आरोपियों के खिलाफ अपराध का संज्ञान लेने में असमर्थ है। "

इस आदेश को कर्नाटक उच्च न्यायालय ने यह कहते हुए रद्द कर दिया था कि,

"एक बार चार्जशीट दाखिल हो जाने के बाद, मजिस्ट्रेट या कोर्ट के पास चार्जशीट में कथित अपराध का संज्ञान लेने और कानून के अनुसार आगे बढ़ने के अलावा और कोई विकल्प नहीं है।"

येदियुरप्पा ने उच्च न्यायालय के आदेश को शीर्ष न्यायालय के समक्ष चुनौती दी है।

उच्च न्यायालय के समक्ष, येदियुरप्पा के वकील ने तर्क दिया था कि उनका नाम पीसीआर में या पुलिस में दर्ज एफआईआर में नहीं था; जांच केवल आरोपी संख्या 1 से 9 के बीच की गई; येदियुरप्पा के खिलाफ कोई आरोप नहीं थे और उक्त परिस्थितियों में, याचिकाकर्ता के पास विशेष अदालत द्वारा दिए गए आदेश को चुनौती देने के लिए कोई लोकस-स्टैंडी नहीं है, जब जांच एजेंसी ने विशेष अदालत द्वारा पारित आदेश के खिलाफ किसी भी अपील या संशोधन दाखिल करने के लिए नहीं चुना है।

Next Story