Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

स्‍थानांतरण याचिका की सुनवाई कर रही सिंगल बेंच सहमति से विवाह विच्छेद करने की ड‌िक्री पारित करने के लिए अनुच्छेद 142 के तहत शक्ति का उपयोग नहीं कर सकतीः सुप्रीम कोर्ट

LiveLaw News Network
12 March 2021 12:36 PM GMT
स्‍थानांतरण याचिका की सुनवाई कर रही सिंगल बेंच सहमति से विवाह विच्छेद करने की ड‌िक्री पारित करने के लिए अनुच्छेद 142 के तहत शक्ति का उपयोग नहीं कर सकतीः सुप्रीम कोर्ट
x

सुप्रीम कोर्ट ने माना कि स्‍थानांतरण याचिका पर सुनवाई करते हुए उसकी सिंगल बेंच आपसी सहमति से विवाह विच्छेद करने की ड‌िक्री पारित करने के लिए संविधान के अनुच्छेद 142 के तहत शक्ति का उपयोग नहीं कर सकती।

इस मामले में, एक स्‍थानांतरण याचिका की पार्टियों (पति और पत्नी) ने सुप्रीम कोर्ट के समक्ष आपसी सहमति से तलाक के लिए एक संयुक्त आवेदन दायर किया ‌था।

उन्होंने अदालत से संविधान के अनुच्छेद 142 के तहत अधिकार क्षेत्र का उपयोग करने, और हिंदू विवाह अधिनियम की धारा 13 बी में विचार की गई कुछ प्रक्रियात्मक औपचारिकताओं और समयरेखा का अनुपालन करने के लिए कहा था।

पत्नी ने स्थानांतरण याचिका दायर की थी, जिसने पति की ओर से दायर तलाक की याचिका को, जिसे परिवार न्यायालय, पुणे, महाराष्ट्र में दायर किया गया था, को प्रधान न्यायाधीश, परिवार न्यायालय, गौतमबुद्धनगर, उत्तर प्रदेश में स्थानांतरित करने की मांग की थी।

सिंगल बेंच के पास अनुच्छेद 142 शक्तियां हैं

ज‌स्ट‌िस अनिरुद्ध बोस ने कहा कि संविधान का अनुच्छेद 142, न्यायालय को किसी भी उद्देश्य या मामले में पूर्ण न्याय करने के लिए आदेश या निर्णय पारित करने की शक्ति देता है। एक जज के पास उक्त अनुच्छेद में निर्दिष्ट शक्ति के तहत आदेश जारी करने या पारित करने का अधिकार है।

कोर्ट ने इस संबंध में रिया चक्रवर्ती बनाम बिहार राज्य के हालिया फैसले का उल्लेख किया।

"यह अनुच्छेद 145 के उपखंड (2) से स्पष्ट होगा कि इसके प्रावधानों के अधीन धारा (3) के प्रावधान, उक्त अनुच्छेद के तहत बनाए गए नियम जजों की न्यूनतम संख्या तय कर सकते हैं जो किसी भी उद्देश्य के लिए बैठने वाले हैं और ऐसे नियम सिंगल जजों और डिवीजन न्यायालयों की शक्तियों के लिए प्रदान करते हैं।

एकल न्यायाधीश की शक्ति या अधिकार क्षेत्र, सुप्रीम कोर्ट के नियम, 2013 के आदेश VI नियम (1) से लिया गया है। मैंने पूर्ववर्ती पैराग्राफ में उक्त नियम को पुन: पेश किया है।

स्थानांतरण के लिए वर्तमान याचिका एकल बैठे जज के डोमेन या अधिकार क्षेत्र के भीतर आती है।

चूंकि, संविधान के अनुच्छेद 142 के प्रावधान इस न्यायालय को किसी भी कारण या मामले में पूर्ण न्याय करने के लिए किसी भी आदेश या निर्णय को पारित करने के अधिकार क्षेत्र के साथ निहित करते हैं, एक एकल जज के पास आदेश जारी करने या पारित करने का अधिकार और अधिकार क्षेत्र है।

'विवाह की समाप्ती' चार श्रेणियों के भीतर नहीं आती है, जिन्हें ऑर्डर vi, नियम (1) एससी नियमों के प्रावधान में उल्लेखित किया गया है

हालाकि, अदालत ने उल्लेख किया कि, जबकि न्यायालय का एक एकल न्यायाधीश भारत के संविधान के अनुच्छेद 142 के तहत अधिकार क्षेत्र का प्रयोग कर सकता है, यह शक्ति या अधिकार क्षेत्र आदेश VI नियम (1) 2013 लिए अनंतिम रूप में संदर्भित मामलों की चार श्रेणियों तक ही सीमित है...

"मध्यस्थता के लिए एक स्थानांतरण याचिका में मुख्य विवाद का गठन करने वाले एक मामले का उल्लेख करना स्पष्ट रूप से उन विषयों के भीतर आता है जो न्यायालय के समक्ष लंबित हैं। हालांकि, मेरे विचार में विवाह की समाप्त‌ि इन चार श्रेणियों में नहीं हो सकती। मेरा विचार है कि अकेले बैठे हुए इस न्यायालय के पास संयुक्त आवेदन में की गई याचिका पर निर्णय लेने का अधिकार क्षेत्र नहीं है।

पूर्ण न्याय करने के लिए भारत के संविधान के अनुच्छेद 142 के तहत क्षेत्राधिकार के अभ्यास के लिए पूर्व शर्त में से एक यह है कि जिस कारण या जिस मामले में अदालत प्रावधानों को लागू करने का इरादा रखती है, उसके समक्ष लंबित होना चाहिए। दिए गए मामले के तथ्यों में विवाह की घोषणा इस न्यायालय के समक्ष लंबित किसी भी कारण या मामले से जुड़ी नहीं हो सकती है...

इसलिए, अदालत ने पाया कि संयुक्त आवेदन को दो या अधिक न्यायाधीशों की एक बेंच द्वारा निस्तार‌ित किया जाना चाहिए।

केस: सबिता शशांक सिंह बनाम बनाम शशांक शेखर सिंह [TRANSFER PETITION (C) NO. 908 OF 2019]

कोरम: जस्टिस अनिरुद्ध बोस

प्रति‌निधित्व: एडवोकेट अश्वनी गर्ग, एओआर अवनीश अर्पुथम

सिटेशन: LL 2021 SC 157

जजमेंट को पढ़ने / डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें



Next Story