Top
ताजा खबरें

(धारा 304बी आईपीसी) वित्तीय सहायता मांगना भी दहेज की मांग में शामिल: सुप्रीम कोर्ट

LiveLaw News Network
20 Dec 2019 8:36 AM GMT
(धारा 304बी आईपीसी) वित्तीय सहायता मांगना भी दहेज की मांग में शामिल: सुप्रीम कोर्ट
x

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि वित्तीय सहायता मांगना भी 'दहेज की मांग' में शामिल हो सकता है। दहेज हत्या के मामले से संबंधित एक आपराधिक अपील में अभियुक्त ने दलील दी थी कि उसके अपनी क्लिनिक के विस्तार के लिए पैसा मांगा था न कि दहेज के रूप में।

अप्‍पासाहेब व एएनआर बनाम स्टेट ऑफ महाराष्ट्र (2007) 9 एससीसी 721 के फैसले पर भरोसा जताते हुए, यह कहा गया कि कुछ वित्तीय आवश्यकताओं के कारण या कुछ जरूरी घरेलू खर्चों को पूरा करने के लिए या खाद खरीदने के लिए पैसे की मांग को दहेज की मांग नहीं कहा जा सकता है।

इस मामले में आरोपी (जतिंदर कुमार बनाम हरियाणा राज्य) को अपनी मृत पत्नी का दहेज के लिए शोषण करने का आरोपी पाया गया. उसकी मां और दो भाइयों को भी ट्रायल कोर्ट ने दोषी पाया. हाईकोर्ट ने दोषियों की सजा की पुष्टि करते हुए अन्य को बरी कर दिया।

अप्पासाहेब केस पर आधारित दलीलों को खारिज करते हुए जस्टिस दीपक गुप्ता और जस्टिस अनिरुद्ध बोस की बेंच ने कहा: न्यायालय के उस फैसले को, जिसमें कहा गया था कि वित्तीय सहायता को दहेज नहीं माना जाएगा, राजिंदर सिंह बनाम पंजाब राज्य के मामले में इस न्यायालय की तीन जजों की बेंच खारिज कर दिया है ( 2015) 6 एससीसी 477।

राजिंदर सिंह के मामले में तीन जजों की बेंच ने कहा था कि दहेज निषेध अधिनियम की धारा 2 के मुताबिक, शादी से पहले या उसके बाद किसी भी वक्त, किसी व्यक्ति द्वारा धन या संपत्ति या मूल्यवान वस्तु की मांग, यद‌ि वह उचित रूप से विवाहिता की मृत्यु से जुड़ा हुआ है, तो वह विवाह से संबंधित ही होगा, जबतक कि उक्त मामले में तथ्य दूसरी ओर इशारा नहीं कर रहे. कोर्ट ने यह भी कहा कि भारतीय दंड संहिता की धारा 304 बी में "जल्द ही" को "तत्काल" का पर्याय नहीं माना जाना चाहिए। इन्हीं टिप्‍पणियों के साथ बेंच ने ये अपील खारिज कर दिया।

जजमेंट को पढ़ने / डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें



Next Story