Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

धारा 106 साक्ष्य अधिनियम उन मामलों पर लागू होता है, जहां अभियोजन ने घटनाओं की श्रृंखला सफलतापूर्वक स्थापित की है: सुप्रीम कोर्ट

Avanish Pathak
21 May 2022 6:46 AM GMT
धारा 106 साक्ष्य अधिनियम उन मामलों पर लागू होता है, जहां अभियोजन ने घटनाओं की श्रृंखला सफलतापूर्वक स्थापित की है: सुप्रीम कोर्ट
x

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि भारतीय साक्ष्य अधिनियम की धारा 106 उन मामलों पर लागू होती है, जहां अभियोजन ने घटनाओं की श्रृंखला को सफलतापूर्वक स्थापित किया हो, जिससे आरोपी के खिलाफ एक उचित निष्कर्ष निकाला जाए।

चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया एनवी रमाना, जस्टिस कृष्णा मुरारी और जस्टिस हिमा कोहली की बेंच ने कहा, परिस्थितिजन्य साक्ष्य पर आधारित मामले में, जब भी अभियुक्त से कोई दोष ठहराने योग्य प्रश्न किया जाता है और वह या तो प्रतिक्रिया से बचता है या ऐसी प्रतिक्रिया देता है जो सत्य नहीं होती तो ऐसी प्रतिक्रिया अपने आप में घटनाओं की श्रृंखला में एक अतिरिक्त कड़ी बन जाती है।

इस मामले में हाईकोर्ट ने आंशिक रूप से अपील की अनुमति देकर, आरोपी की दोषसिद्धि को आईपीसी की धारा 302 से आईपीसी की धारा 304 (II) के तहत संशोधित किया था।

सुप्रीम कोर्ट के समक्ष, अपीलकर्ता-आरोपी ने तर्क दिया कि अभियोजन की अनुपस्थिति में अपने मामले को एक उचित संदेह से परे साबित करने में विफल रहा है, उच्च न्यायालय अभियोजन पक्ष पर मौजूद सबूत के बोझ को निर्वहन करने के लिए साक्ष्य अधिनियम की धारा 106 को हटा नहीं सकता है।

उनकी अपील का विरोध करते हुए, राज्य ने तर्क दिया कि अभियोजन पक्ष ने उचित संदेह से परे घटनाओं की श्रृंखला को सफलतापूर्वक स्थापित किया है और इस प्रकार साक्ष्य अधिनियम की धारा 106 लागू की जा सकती है।

चूंकि दोनों पक्षों की दलीलें धारा 106 साक्ष्य अधिनियम की व्याख्या पर आधारित थीं, इसलिए पीठ ने उक्त प्रावधान का उल्लेख किया और कहा,

साक्ष्य अधिनियम की धारा 106 में कहा गया है कि किसी व्यक्ति के विशेष ज्ञान के भीतर चीजों को साबित करने का भार उस व्यक्ति पर है। हालांकि यह धारा किसी भी तरह से अभियोजन पक्ष को एक उचित संदेह से परे सबूत के अपने बोझ का निर्वहन करने से मुक्त नहीं करती है, यह केवल यह निर्धारित करती है कि जब किसी व्यक्ति ने कोई कार्य किया है, जो कि परिस्थितियों से संकेत मिलता है, उस विशिष्ट इरादे को साबित करने का दायित्व व्यक्ति पर पड़ता है न कि अभियोजन पर। यदि अभियुक्त की मंशा अलग थी तो तथ्य विशेष रूप से उसकी जानकारी में हैं जिसे उसे साबित करना होगा।

..इस प्रकार, हालांकि धारा 106 किसी भी तरह से अभियुक्त के अपराध को स्थापित करने के लिए अभियोजन पक्ष को अपने बोझ से मुक्त करने के उद्देश्य से नहीं है, यह उन मामलों पर लागू होता है जहां अभियोजन पक्ष द्वारा घटनाओं की श्रृंखला सफलतापूर्वक स्थापित की गई है, जिससे आरोपित के खिलाफ एक उचित निष्कर्ष निकाला जाता है।

इसके अलावा, परिस्थितिजन्य साक्ष्य के आधार पर, जब भी अभियुक्त से कोई दोषी ठराने योग्य प्रश्न किया जाता है और वह या तो प्रतिक्रिया से बचता है, या कोई प्रतिक्रिया देता है जो सत्य नहीं है, तो ऐसी प्रतिक्रिया अपने आप में श्रृंखला में एक अतिरिक्त कड़ी बन जाती है।

अदालत ने कहा कि अभियोजन पक्ष अपराध करने के लिए आरोपी-अपीलकर्ताओं के इरादे को स्थापित करने में सफल रहा है। इस तरह के इरादे का जब गवाहों के सभी सेटों द्वारा दिए गए बयानों के आलोक में विश्लेषण किया जाता है, और मृतक द्वारा प्रासंगिक स्थान और समय पर हुई घातक चोटों का विश्लेषण किया जाता है, तो निश्चित रूप से एक मजबूत मामला बनता है कि मृतक की मृत्यु वास्तव में अपीलकर्ता द्वारा हुई थी।

अपील को खारिज करते हुए अदालत ने कहा-

इसलिए, एक बार जब अभियोजन पक्ष ने घटनाओं की श्रृंखला को सफलतापूर्वक स्थापित कर लिया, तो अपीलकर्ताओं पर इसे अन्यथा साबित करने का भार था। इस प्रकार, हाईकोर्ट ने ठीक ही कहा कि साक्ष्य अधिनियम की धारा 106 के आलोक में, जब अपीलकर्ताओं पर यह खुलासा करने की जिम्मेदारी थी कि मृतक ने अपनी जान कैसे गंवाई ... यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि घटनाओं का पूरा क्रम आरोपी-अपीलकर्ताओं के अपराध की ओर इशारा करता है, और यह कि अपीलकर्ता इस संबंध में कोई विश्वसनीय बचाव देने में विफल रहे हैं।

मामलाः साबित्री सामंतराय बनाम ओडिशा राज्य | 2022 LiveLaw (SC) 503 | CrA 988 OF 2017| 20 May 2022

कोरम: सीजेआई एनवी रमना, जस्टिस कृष्ण मुरारी और ज‌स्टिस हिमा कोहली

जजमेंट पढ़ने/डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें

Next Story