Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

"प्रथम दृष्ट्या हमारा विचार है कि नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल किसी कानून को रद्द नहीं कर सकता " : सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी

LiveLaw News Network
14 April 2021 4:42 AM GMT
प्रथम दृष्ट्या हमारा विचार है कि नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल किसी कानून को रद्द नहीं कर सकता  : सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी
x

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को कहा कि नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) एक कानून की वैधता को तय करने और उसे रद्द करने का फैसला नहीं कर सकता है।

बेंच जिसमें, भारत के मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे, जस्टिस एएस बोपन्ना और जस्टिस वी रामासुब्रमण्यम शामिल थे, कर्नाटक उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ अपील की सुनवाई कर रही थी, जिसमें जैव विविधता अधिनियम की धारा 40 को चुनौती देने वाली याचिका उच्च न्यायालय द्वारा एनजीटी चेन्नई को स्थानांतरित कर दी गई थी।

तत्काल मामले में एसएलपी में एनजीटी को याचिका के हस्तांतरण के आदेश को चुनौती दी गई है।

मंगलवार की सुनवाई में, सीजेआई ने कहा,

"प्रथम दृष्ट्या हमारा विचार है कि नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल किसी कानून को रद्द नहीं कर सकता है।"

याचिकाकर्ता एनवायरमेंट सपोर्ट ग्रुप की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता निखिल नैयर ने तब अदालत को सूचित किया कि स्टरलाइट मामले में इस मुद्दे को पहले ही स्पष्ट कर दिया गया था।

वरिष्ठ अधिवक्ता आदित्य सोंधी ने हालांकि कहा कि एल चंद्रकुमार मामले में अपीलीय शक्ति पर ध्यान दिया गया था। इस पर, सीजेआई ने जवाब दिया कि यह कोर्ट के सामने मौजूद सवाल नहीं है।

तदनुसार, कोर्ट ने एनजीटी के आदेश पर अंतरिम रोक का निर्देश दिया। इस मामले को अब आगे सुना जाएगा।

ऑर्डर डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें



Next Story