Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

पेगासस जासूसी आरोपों की जांच के लिए अदालत की निगरानी में एसआईटी जांच की याचिका

LiveLaw News Network
22 July 2021 5:49 AM GMT
पेगासस जासूसी आरोपों की जांच के लिए अदालत की निगरानी में एसआईटी जांच की याचिका
x

सीरियल जनहित याचिका के वादी एमएल शर्मा ने सुप्रीम कोर्ट में एक रिट याचिका दायर कर विशेष जांच दल द्वारा अदालत की निगरानी में उस मामले की जांच की मांग की है, जिसमें पत्रकारों, एक्टिविस्ट , राजनेताओं आदि पर इजरायली स्पाइवेयर पेगासस का उपयोग करके सरकारी एजेंसियों द्वारा कथित जासूसी की रिपोर्ट की गई है।

शर्मा को राफेल सौदे, अनुच्छेद 370, हैदराबाद पुलिस मुठभेड़ आदि जैसे सनसनीखेज मामलों में जनहित याचिकाओं के साथ सुप्रीम कोर्ट जाने के लिए जाना जाता है। 2018 में, सुप्रीम कोर्ट ने तत्कालीन वित्त मंत्री अरुण जेटली के खिलाफ एक तुच्छ जनहित याचिका दायर करने के लिए उन पर 50,000 रुपये का जुर्माना लगाया था।

2019 में, सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को रद्द करने को चुनौती देने वाली एक घटिया मसौदा याचिका दायर करने के लिए शर्मा को फटकार लगाई थी। हाल ही में उन्होंने तीन विवादास्पद कृषि कानूनों को चुनौती देते हुए एक याचिका दायर की थी।

पेगासस मुद्दे पर शर्मा की वर्तमान जनहित याचिका, जिसमें भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को पहले प्रतिवादी के रूप में सूचीबद्ध किया गया है, निम्नलिखित मुद्दों को उठाती है:

क) क्या संविधान प्रधान मंत्री और उनके मंत्री को उनके निहित राजनीतिक हितों के लिए भारत के नागरिकों की जासूसी करने की अनुमति देता है?

बी) क्या पेगासस सॉफ्टवेयर को बिना मंजूरी के खरीदना अनुच्छेद 266(3), 267(2) और 283(2) के विपरीत है और आईपीसी की धारा 408 और 409,120-बी को आकर्षित नहीं करती हैं?

ग) क्या भारत के आम नागरिक, विपक्षी नेताओं, न्यायपालिका के न्यायाधीशों और अन्य लोगों की जासूसी करना अनुच्छेद 21 के उल्लंघन के साथ ओएस अधिनियम, 1923 की धारा 3 के साथ-साथ सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम 2000 की धारा 65, 66 और 72 के तहत अपराध को आकर्षित नहीं करता।

द वायर की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई और उनके खिलाफ यौन उत्पीड़न के आरोप लगाने वाली महिला कर्मचारी और परिवार के कुछ सदस्यों

को पेगासस जासूसी के संभावित लक्ष्य के रूप में सूचीबद्ध किया गया था। द वायर के अनुसार, 40 भारतीय पत्रकार, राहुल गांधी जैसे राजनीतिक नेता, चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर आदि को लक्ष्य की सूची में बताया गया है।

Next Story