Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

ब्याज के बदले बंधक रखी संपत्ति से प्राप्त लाभ के मामले में कोई परिसीमा अवधि नहींः सुप्रीम कोर्ट

LiveLaw News Network
13 Oct 2021 10:24 AM GMT
ब्याज के बदले बंधक रखी संपत्ति से प्राप्त लाभ के मामले में कोई परिसीमा अवधि नहींः सुप्रीम कोर्ट
x

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि ब्याज के बदले बंधक रखी संपत्त‌ि से प्राप्त लाभ (usufructuary mortgage, भोग बंधक) के मामले में कोई पर‌िसीमा अवधि (Limitation Period) नहीं है।

जस्टिस हेमंत गुप्ता और जस्टिस वी रामसुब्रमण्यम की पीठ ने संपत्त‌ि बंधक रखने वाले एक व्यक्ति की अपील पर विचार किया, जिसने बंधक रखी गई संपत्ति के स्वामित्व का दावा इस आधार पर किया था कि बंधक रखने के बाद 45 वर्ष बीत चुके हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने नोट किया कि पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट की पूर्ण पीठ ने राम किशन और अन्य बनाम शिव राम और अन्य के मामले में माना है कि ब्याज के बदले बंधक रखी संपत्त‌ि से प्राप्त लाभ के मामले में कोई परिसीमा अवधि नहीं है। "एक बार बंधक बन चुकी संपत्त‌ि हमेशा बंधक होती है" यही सिद्धांत लागू किया गया है।

पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट ने सिंह राम (डी) एलआरएस के माध्यम से बनाम शिओ राम और अन्य (2014) 9 एससीसी 185 में बरकरार रखा था।

उस फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि

"ब्याज के बदले बंधक रखी गई संपत्त‌ि से प्राप्त लाभ के मामले में कब्जे की वसूली का अधिकार तब तक जारी रहता है जब तक कि किराए और मुनाफे से पैसे का भुगतान नहीं किया जाता है या जहां आंशिक रूप से किराए और मुनाफे से भुगतान किया जाता है, जब शेष राशि का भुगतान बंधककर्ता द्वारा किया जाता है या संपत्ति हस्तांतरण अधिनियम (टीपी एक्ट) की धारा 62 के तहत न्यायालय में जमा किया जाता है।"

सिंह राम में सुप्रीम कोर्ट ने कहा है,

"किसी अन्य बंधक के मामले में छुड़ाने (र‌िडीम) का अधिकार धारा 60 के तहत कवर किया गया है, ब्याज के बदले बंधक रखी गई संपत्त‌ि से प्राप्त लाभ के मामले में कब्जे की वसूली का अधिकार धारा 62 के तहत निपटाया जाता है...ब्याज के बदले बंधक रखी संपत्त‌ि से प्राप्त लाभ और किसी अन्य बंधक में यह अंतर स्पष्ट रूप से टीपी एक्ट की धारा 58, धारा 60 और धारा 62 सहपठित परिसीमा अधिनियम की अनुसूची के अनुच्छेद 61 के प्रावधानों से स्पष्ट है।

ब्याज के बदले बंधक रखी संपत्त‌ि से प्राप्त लाभ को किसी अन्य बंधक के समान नहीं माना जा सकता है, क्योंकि ऐसा करने से टीपी एक्ट की धारा 62 की योजना और इक्विटी विफल हो जाएगी। ब्याज के बदले बंधक रखी संपत्त‌ि से प्राप्त लाभ का यह अधिकार न केवल न्यायसंगत अधिकार है, बल्कि टीपी एक्ट की धारा 62 के तहत वैधानिक मान्यता प्राप्त है। कानून के किसी भी सिद्धांत के तहत इस अधिकार को पराजित नहीं किया जा सकता है। कोई भी विपरीत दृष्टिकोण, जो टीपी एक्ट की धारा 62 के तहत ब्याज के बदले बंधक रखी संपत्त‌ि से प्राप्त लाभ के विशेष अधिकार को ध्यान में नहीं रखता है, उसे इस आधार पर गलत माना जाना चाहिए या ब्याज के बदले बंधक रखी संपत्त‌ि से प्राप्त लाभ के अलावा अन्य बंधक तक सीमित होना चाहिए।

इसलिए, हम पूर्ण पीठ के विचार को कायम रखते हैं कि ब्याज के बदले बंधक रखी संपत्त‌ि से प्राप्त लाभ के मामले में बंधक निर्माण की तारीख से 30 वर्ष की अवधि समाप्त होने से टीपी एक्ट की धारा 62 के तहत बंधककर्ता का अधिकार समाप्त नहीं हो जाता है।"

"इस प्रकार, हम मानते हैं कि टीपी एक्ट की धारा 62 के तहत भोग बंधककर्ता का कब्जा वसूल करने का विशेष अधिकार उसमें निर्दिष्ट तरीके से शुरू होता है, अर्थात, जब बंधक धन का भुगतान किराए और मुनाफे से या आंशिक रूप से किराए और मुनाफे में से किया जाता है और आंशिक रूप से बंधक द्वारा भुगतान या जमा द्वारा किया जाता है। तब तक पर‌िसीमा अधिनियम (Limitation Act)की अनुसूची के अनुच्छेद 61 के प्रयोजनों के लिए सीमा शुरू नहीं होती है। ब्याज के बदले बंधक रखी संपत्त‌ि से लाभ प्राप्तकर्ता इस घोषणा के लिए मुकदमा दायर करने का हकदार नहीं है कि वह बंधक की तारीख से केवल 30 साल की समाप्ति पर मालिक बन गया था।"

इस व्यवस्थित स्थिति के आलोक में पीठ ने मामले में दायर अपीलों को खारिज कर दिया।

केस शीर्षक : राम दत्तन (मृत) एलआर द्वारा बनाम देवी राम और अन्य

सिटेशन : एलएल 2021 एससी 562

फैसला पढ़ने/डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें

Next Story