Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

भारत के नए आईटी नियम अंतरराष्ट्रीय मानवा‌धिकार मानदंडों के अनुरूप नहींः संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत

LiveLaw News Network
20 Jun 2021 10:41 AM GMT
भारत के नए आईटी नियम अंतरराष्ट्रीय मानवा‌धिकार मानदंडों के अनुरूप नहींः संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत
x

संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूतों ने भारत सरकार को पत्र लिखकर सोशल मीडिया इंटरमी‌डियरियों , स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म और डिजिटल समाचार माध्यमों को विनियमित करने के लिए अधिसूचित नए आईटी नियमों पर गंभीर चिंता व्यक्त की है।

उन्होंने भारत सरकार से मानव अधिकारों को सीमित करने या उल्लंघन करने के कारण सूचना प्रौद्योगिकी (मध्यवर्ती दिशानिर्देश और डिजिटल मीडिया आचार संहिता) नियम 2021 के कई पहलुओं को वापस लेने, समीक्षा करने या पुनर्विचार करने का आग्रह किया है।

पत्र में कहा गया है, "हम चिंतित हैं कि सूचना प्रौद्योगिकी (मध्यवर्ती दिशानिर्देश और डिजिटल मीडिया आचार संहिता) नियम 2021, अपने वर्तमान स्वरूप में, अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार मानदंडों के अनुरूप नहीं हैं।"

8 पृष्ठ का पत्र इरेन खान, विचार और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अधिकार के प्रचार और संरक्षण और प्रसार की विशेष दूत, क्लेमेंट न्यालेतसोसी वौले, शांतिपूर्ण सभा और संघ की स्वतंत्रता के अधिकारों पर विशेष दूत, और जोसेफ कैनाटासी, निजता के अधिकार पर विशेष प्रतिवेदक ने लिखा है।

उन्होंने कहा है कि पहले ओरिजेनटर का पता लगाने का प्रावधान, मध्यस्थ दायित्व और डिजिटल मीडिया सामग्री की कार्यकारी निगरानी से संबंधित प्रावधान नागरिक और राजनीतिक अधिकारों के अंतरराष्ट्रीयअनुबंध में निहित गोपनीयता, भाषण और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अधिकारों का उल्लंघन करते हैं।

"फेक न्यूज़" जैसे शब्दों में नियोजित नियमों की अस्पष्टता को चिह्नित करते हुए, ऐसी सामग्री जो किसी व्यक्ति को "गुमराह" कर सकती है या "किसी भी चोट" का कारण बन सकती है, पत्र कहता है, "चूंकि सोशल मीडिया इंटरमी‌डियरी बड़ी मात्रा में सामग्री से निपटते हैं, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के प्रतिबंध की एक कठोर परिभाषा उनके लिए भाषणों की रक्षा के लिए महत्वपूर्ण है जो अंतरराष्ट्रीय कानून के तहत वैध हैं, जैसे कि असहमतिपूर्ण विचारों की अभिव्यक्ति। एक पर्याप्त सटीक परिभाषा है इस संभावना को रोकने के लिए आवश्यक है कि राजनीतिक या अन्य अनुचित आधार पर वैध अभिव्यक्तियों को रोका नहीं जाया जाए। यह सुनिश्चित करेगा कि नए नियमों का स्वतंत्र मीडिया रिपोर्टिंग पर कठोर प्रभाव न पड़े।"

विशेष दूतों ने लिखा, "हम उपयोगकर्ता-जनित सामग्री की निगरानी और उन्हें तेजी से हटाने के लिए कंपनियों पर दायित्वों के बारे में गंभीर चिंता व्यक्त करते हैं, जिससे हमें डर है कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अधिकार को कमजोर किया जा सकता है।"

पत्र में कहा गया है, "हमें चिंता है कि इंटरमी‌डियरी अपने दायित्व को सीमित करने के लिए निष्कासन अनुरोधों का पालन करेंगे, या सामग्री को प्रतिबंधित करने के लिए डिजिटल रिकग्‍निशन-बेस्ड कंटेट रिमूवल सिस्टम या स्वचालित उपकरण विकसित करेंगे। जैसा कि हमारे पूर्ववर्तियों द्वारा जोर दिया गया है, इन तकनीकों में सांस्कृतिक संदर्भों का सटीक मूल्यांकन करने और नाजायज सामग्री की पहचान करने की संभावना नहीं है। हम चिंतित हैं कि छोटी समय सीमा, उपरोक्त आपराधिक दंड के साथ, सेवा प्रदाताओं को प्रतिबंधों से बचने के लिए एहतियात के तौर पर वैध अभिव्यक्ति को हटाने के लिए प्रेरित कर सकती है।"

मीडिया की स्वतंत्रता पर प्रभाव

पत्र में दूतों ने कहा कि नियमों का भाग 3 डिजिटल समाचार प्रकाशकों की स्वतंत्रता को प्रभावित करेगा।

"हमारी गंभीर चिंता है कि न्यायिक समीक्षा के बिना कार्यकारी अधिकारियों को दी गई ऐसी व्यापक शक्तियों से, सूचना के मुक्त प्रवाह को अनुचित रूप से प्रतिबंधित होने की संभावना है, जो आईसीसीपीआर के अनुच्छेद 19 (2) द्वारा संरक्षित है। यह आवश्यक है कि निरीक्षण तंत्र एक स्वायत्त निकाय बनें, किसी भी दबाव, विशेष रूप से राजनीतिक दबाव से स्वतंत्र। हमें चिंता है कि नियम अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर अंतरराष्ट्रीय मानकों के उल्लंघन में किसी भी सार्थक सुरक्षा उपायों के अभाव में सामग्री को अवरुद्ध करने का आदेश देने के लिए एक सरकारी एजेंसी को व्यापक अधिकार प्रदान करते हैं।

इसके अलावा, वेबसाइट को रोकना एक समाचार पत्र या प्रसारक पर प्रतिबंध लगाने बराबर चरम उपाय है, जिसे केवल मानवाधिकारों पर अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप होने पर ही उचित ठहराया जा सकता है।"

भारत सरकार ने उपरोक्त रिपोर्ट का उत्तर देते हुए कहा है कि आईटी नियम तर्कसंगतता और आनुपातिकता के सिद्धांतों को ध्यान में रखते हुए बनाए गए हैं और सरकार गोपनीयता और मीडिया की स्वतंत्रता के अधिकार का सम्मान करती है। भारत सरकार ने संयुक्त राष्ट्र को बताया कि आईटी नियम "सोशल मीडिया के सामान्य उपयोगकर्ताओं को सशक्त बनाने के लिए डिजाइन किए गए हैं" और सरकार ने 2018 में इन पर नागरिक समाज और अन्य हितधारकों के साथ व्यापक विचार-विमर्श किया था।

आईटी नियमों की वैधता को चुनौती देते हुए देश के चार उच्च न्यायालयों में याचिकाएं दायर की गई हैं। मार्च में, ऑनलाइन समाचार मीडिया 'द वायर' ने दिल्ली उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया, उसके बाद 'द क्विंट' ने अदालत का दरवाजा खटखटाया।

केरल उच्च न्यायालय ने नियमों के खिलाफ दायर एक याचिका में नियमों के भाग III के तहत 'लाइव लॉ' को दंडात्मक कार्रवाई से अंतरिम संरक्षण प्रदान किया है। कन्नड़ समाचार पोर्टल 'प्रतिध्वनि' ने नियमों के खिलाफ कर्नाटक उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है।

हाल ही में, व्हाट्सएप ने नियमों के भाग II के तहत 'ट्रेसेबिलिटी क्लॉज' को चुनौती देते हुए दिल्ली उच्च न्यायालय का रुख किया।

बाद में गूगल ने भी नियमों के खिलाफ दिल्ली हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। पिछले हफ्ते गायक टीएम कृष्णा ने नियमों के खिलाफ मद्रास उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था।

भारत सरकार को संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूतों का पत्र पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

भारत सरकार द्वारा दिए गए जवाब को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Next Story