Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

शिक्षा, सह-पाठ्यचर्या संबंधी गतिविधियां उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम के दायरे में 'सेवा' नहीं: एनसीडीआरसी

LiveLaw News Network
25 Feb 2021 1:13 PM GMT
शिक्षा, सह-पाठ्यचर्या संबंधी गतिविधियां उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम के दायरे में सेवा नहीं: एनसीडीआरसी
x

राष्ट्रीय उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग (NCDRC) ने दोहराया है कि उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम, 1986 शैक्षणिक संस्थानों पर लागू नहीं होता है, और सह-पाठ्यचर्या संबंधी गतिविधियां जैसे तैराकी "सेवा" के दायरे में नहीं आती हैं, जो अधिनियम के तहत परिभाषित हैं।

मामले के तथ्य

मौजूदा अपील उत्तर प्रदेश उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग, लखनऊ के 03.06.2016 के आदेश के खिलाफ छात्र के पिता द्वारा दायर की गई थी। छात्र प्रतिवाद स्कूल में एनरॉल था। दलील दी गई कि स्कूल ने तैराकी सहित विभिन्न समर कैंप गतिविधियों की पेशकश की, और छात्रों को एक हजार रुपए का शुल्क देकर शामिल होने के लिए कह। अपीलकर्ता ने स्कूल की पेशकश के अनुसार एनरॉल किया।

अपील में कहा गया कि 28.05.2007 को उन्हें स्कूल से एक जरूरी फोन आया और स्कूल पहुंचने पर उन्हें सूचित किया गया कि उनके बेटे की स्विमिंग पूल में मौत हो गई है।

इसके बाद, अपीलकर्ता ने राज्य आयोग के समक्ष एक उपभोक्ता शिकायत दायर की, जिसमें स्कूल पर लापरवाही और सेवा में कमी का आरोप लगाया गया था। अपने बेटे की मृत्यु, मानसिक पीड़ा और मुकदमेबाजी की लागत के रूप में 22,55,000 रुपए का मुआवजा मांगा।

स्कूल ने दावे का विरोध किया और राज्य आयोग ने स्कूल के उपभोक्ता नहीं होने की दलील के साथ अपील को खारिज कर दिया। बाद में इसे एनसीडीआरसी के समक्ष चुनौती दी गई।

एनसीडीआरसी से क्या कहा?

एनसीडीआरसी ने अनुपमा कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग बनाम गुलशन कुमार और अन्य के मामलों का हवाला दिया, जिसमें सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि "शैक्षणिक संस्थान किसी भी प्रकार की सुविधा नहीं दे रहे हैं, इसलिए सेवा, प्रवेश शुल्क आदि के मामले में सेवा की कमी का सवाल नहीं हो सकता है" और मनु सोलंकी और अन्य बनाम विनायक मिशन विश्वविद्यालय, जिसमें एनसीडीआरसी की खंडपीठ ने माना था, "शिक्षा संस्थान की ऐसी आकस्मिक गतिविधियां..उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम, 1986 के प्रावधानों के तहत किसी भी सेवा को प्रदान करने के बराबर नहीं होंगी।

मनु सोलंकी और अन्य बनाम विनायक मिशन विश्वविद्यालय का हवाला में एनसीडीआरसी के फैसले का भी दिया गया, जिसका मानना ​​था कि एक शैक्षणिक संस्थान उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम, 1986 के दायरे में नहीं आएगा।

इन मिसालों के बाद, एनसीडीआरसी ने कहा, "यह तय कानून है, जैसा कि माननीय सुप्रीम कोर्ट और साथ ही इस आयोग द्वारा निर्धारित पूर्वोक्त नजीरों में कहा गया है कि शैक्षिक संस्थान उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम, 1986 के दायरे में नहीं आते हैं और शिक्षा, जिसमें सह-पाठ्यचर्या संबंधी गतिविधियां, जैसे तैराकी, उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम, 1986 के अर्थ के तहत "सेवा" नहीं है। इसलिए, मैं राज्य आयोग के विचार से सहमत हूं कि शिकायतकर्ता उपभोक्ता नहीं है और शिकायत उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम, 1986 तहत सुनवाई योग्य नहीं है।"

उपरोक्त की रोशनी में, एनसीडीआरसी ने राज्य आयोग के विचार के साथ सहमति व्यक्त की कि शिकायतकर्ता उपभोक्ता नहीं है और इसलिए, शिकायत बरकरार नहीं रखी जा सकती है क्योंकि यह उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम, 1986 के तहत शामिल नहीं है।

उल्लेखनीय है कि मनु सोलंकी मामले में फैसला लिया गया था कि कोचिंग सेंटर उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम के दायरे में आएंगे। मनु सोलंकी के फैसले के बाद, बेंगलुरु के एक जिला उपभोक्ता फोरम ने हाल ही में एक निजी कोचिंग सेंटर को निर्देश दिया कि वह माता-पिता को फीस वापस करे, ताकि यह पता चल सके कि उसकी ओर से सेवा की कमी थी।

अपीलार्थी की ओर से पेश वकील: पवन कुमार रे

प्रतिवादी की ओर से पेश वकील: मुरारी कुमार

केस नं: First Appeal No. 852 of 2016

निर्णय पढ़ने / डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें


Next Story