Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

कई हत्याओं के आरोपी को 'समवर्ती' आजीवन कारावास की सजा हो सकती है: सुप्रीम कोर्ट

LiveLaw News Network
20 Sep 2021 12:06 PM GMT
कई हत्याओं के आरोपी को समवर्ती आजीवन कारावास की सजा हो सकती है: सुप्रीम कोर्ट
x

सुप्रीम कोर्ट ने हाल के एक आदेश में कहा कि एक से अधिक व्यक्तियों की हत्या के दोषी अभियुक्तों को समवर्ती आजीवन कारावास की सजा देने पर कोई रोक नहीं है। अदालत एक कैदी की रिट याचिका पर विचार कर रही थी, जिसने अपनी रिहाई का की मांग की थी और कहा था कि वह 16 साल की वास्तविक सजा सहित 21 साल से अधिक की सजा काट चुका है।

इस मामले में, लागू छूट नीति में एक खंड (5) था, जिसमें यह प्रावधान था कि जिन्हें आजीवन कारावास के अलावा एक या अधिक आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है और जो ट्रायल सहित 20 साल की सजा काट चुके हैं, उन्हें छूट सहित 26 साल की सजा पूरी करने के बाद में रिहा किया जाएगा।

याचिकाकर्ता को दो व्यक्तियों की हत्या के लिए दोषी ठहराया गया था और उसे प्रत्येक हत्या के लिए दो बार आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी।

हालांकि याचिकाकर्ता द्वारा उठाया गया तर्क यह था कि "मुथुरामलिंगम और अन्य बनाम राज्य पुलिस निरीक्षक द्वारा प्रतिनिधित्व (2016) 8 एससीसी 313 में ‌दिए गए निर्णय के मद्देनजर केवल एक आजीवन कारावास की सजा दी जा सकती है"।

जस्टिस हेमंत गुप्ता और जस्टिस वी रामसुब्रमण्यम की पीठ ने कहा, "सजा की नीति के संदर्भ में, एक के बाद एक लगातार आजीवन कारावास नहीं हो सकती है। लेकिन तथ्य यह है कि प्रत्येक मौत के लिए, याचिकाकर्ता को धारा 302 आईपीसी के तहत अपराध के लिए दोषी ठहराया गया है। यह लगातार आजीवन कारावास लगाने का मामला नहीं। यह समवर्ती आजीवन कारावास का मामला है। "

इसलिए, अदालत ने कहा कि याचिकाकर्ता की समयपूर्व रिहाई के मामले पर विचार करने के लिए खंड (5) लागू होगा क्योंकि उसे दो व्यक्तियों की मौत के लिए एक से अधिक आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है। अदालत ने कहा कि सक्षम प्राधिकारी ने खंड (5) पर भरोसा करते हुए छूट के मामले को सही तरीके से खारिज कर दिया है।

सिटेशन: LL 2021 SC 470

केस शीर्षक: महावीर बनाम मध्य प्रदेश राज्य

Case no.| Date: WP(Crl) 294/2021 | 13 September 2021

कोरम: जस्टिस हेमंत गुप्ता, जस्टिस वी रामासुब्रमनियन

प्रतिनिधित्व: याचिकाकर्ता के लिए एओआर ऋषि मल्होत्रा, उत्तरदाताओं के लिए एओआर पशुपति नाथ राजदान

आदेश पढ़ने/डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें

Next Story