Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

सीजेआई डी वाई चंद्रचूड़ ने दृष्टिहीन वकीलों के लिए अदालतों को सुलभ बनाने पर सीनियर एडवोकेट एसके रूंगटा से सुझाव मांगे

Shahadat
24 Nov 2022 7:40 AM GMT
सीजेआई डी वाई चंद्रचूड़ ने दृष्टिहीन वकीलों के लिए अदालतों को सुलभ बनाने पर सीनियर एडवोकेट एसके रूंगटा से सुझाव मांगे
x

चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (सीजेआई) डी. वाई. चंद्रचूड़ ने गुरुवार को ओपन कोर्ट में देश भर की अदालतों को वकीलों/दृष्टिहीन व्यक्तियों के लिए सुलभ बनाने के अपने मिशन पर चर्चा की।

दैनिक आधार पर अदालतों को नेविगेट करने में दृश्य दिव्यांग वकीलों के सामने आने वाली कठिनाई को समझने के लिए उन्होंने सीनियर एडवोकेट एस.के. रूंगटा (जिन्होंने करीब एक साल की उम्र में अपनी आंखों की रोशनी खो दी थी) दूसरे वकीलों द्वारा बताए गए संकलनों का पालन कैसे करते हैं।

सीजेआई ने रूंगटा से पूछा,

"मैं आपसे एक व्यक्तिगत प्रश्न पूछना चाहता हूं। मुझे आशा है कि आप बुरा नहीं मानेंगे। अन्य वकील एक संकलन का हवाला दे रहे हैं, आप अदालत में इसका पालन कैसे करते हैं?"

रूंगटा ने सीजेआई को अवगत कराया कि उन्हें पेनड्राइव पर संकलन की सॉफ्ट कॉपी मिलती है और वह अपने कंप्यूटर का उपयोग इसे ब्रेल दस्तावेज़ में बदलने के लिए करते हैं।

उन्होंने कहा,

"मैंने इसे पेनड्राइव में लिया है और मेरे पास मेरा कंप्यूटर है, जो ब्रेल आउटपुट देता है।"

सीजेआई ने कहा,

"जैसा कि आप जानते हैं, मैं ई-समिति की अध्यक्षता कर रहा हूं और यह मेरे मिशनों में से एक है।"

रूंगटा ने अवसर पाकर व्यवस्था को और प्रभावी बनाने के लिए कुछ सुझाव दिए। उन्होंने सुझाव दिया कि न्यायालय द्वारा उपयोग किए जाने वाले सॉफ़्टवेयर को दृष्टिहीन व्यक्तियों द्वारा उपयोग किए जाने वाले कंप्यूटरों में सॉफ़्टवेयर के साथ संगत होना चाहिए।

उन्होंने कहा,

"जैसा कि हम डिजिटलीकरण की ओर बढ़ रहे हैं, उपयोग किए जाने वाले सॉफ़्टवेयर को हमारे उपकरणों में उपयोग किए जा रहे सॉफ़्टवेयर के साथ संगत होना चाहिए, ताकि सामग्री को ब्रेल में परिवर्तित किया जा सके।"

सीनियर एडवोकेट ने आगे कहा,

"जाहिर है, इसे आवाज में बदला जा सकता है, लेकिन कोर्ट में उस वॉयस आउटपुट का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता।"

रूंगटा द्वारा दिए गए सुझाव को स्वीकार करते हुए सीजेआई ने उनसे कहा कि वह राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (एनआईसी) के प्रमुख वैज्ञानिक से उनके साथ समन्वय करने के लिए कहेंगे, ताकि वे सभी अदालतों को दिव्यांगों के अनुकूल बनाने के लिए मिलकर काम कर सकें।

सीजेआई ने कहा,

"आप बिल्कुल सही कह रहे हैं। मैं क्या करूंगा, मैं एनआईसी के प्रमुख वैज्ञानिक को आपके साथ समन्वय करने के लिए कहूंगा। आप दोनों साथ बैठ सकते हैं।"

सीजेआई ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट की आधिकारिक वेबसाइट में कुछ बदलाव पहले ही किए जा चुके हैं। उदाहरण के लिए वेबसाइट को दृश्य दिव्यांग व्यक्तियों के लिए सुलभ बनाने के लिए ऑडियो-कैप्चा हैं।

उन्होंने कहा,

"आप शायद मिस्टर राहुल बजाज से मिले हैं, वह मेरे लॉ क्लर्क के रूप में काम कर रहे हैं ... जैसा कि आपने देखा होगा कि हमने वेबसाइट में कुछ बदलाव किए हैं। अब हमारे पास ऑडियो कैप्चा है।"

अपने विजन के बारे में विस्तार से बताते हुए सीजेआई ने कहा,

"यह केवल सुप्रीम कोर्ट के वकीलों की मदद करने वाला नहीं है, बल्कि मैं इसे पूरे देश में करना चाहता हूं।"

उन्होंने रूंगटा से न्यायालय की सहायता करने के लिए कहा,

"रूंगटा, हमें अपना थोड़ा-सा समय दें। यह हमारे मिशन में मदद करेगा।"

रूंगटा ने कहा कि वह पूरे दिल से इस तरह के नेक प्रयास में भाग लेंगे, जिससे दिव्यांग वकीलों का जीवन बहुत आसान हो जाएगा।

Next Story