Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

राष्ट्रीय बीमा कंपनियों में केंद्र को मेजोरिटी शेयरहोल्डर नहीं होना चाहिए: संसद ने बीमा संशोधन विधेयक पारित किया

LiveLaw News Network
12 Aug 2021 6:47 AM GMT
राष्ट्रीय बीमा कंपनियों में केंद्र को मेजोरिटी शेयरहोल्डर नहीं होना चाहिए: संसद ने बीमा संशोधन विधेयक पारित किया
x

संसद ने बुधवार (11 अगस्त) को सामान्य बीमा व्यवसाय (राष्ट्रीयकरण) संशोधन विधेयक 2021 पारित कर दिया। इस संशोधन विधेयक में इस शर्त हटा दिया गया कि केंद्र सरकार के पास सामान्य बीमा कंपनियों में 51% हिस्सेदारी होनी चाहिए।

सामान्य बीमा व्यवसाय (राष्ट्रीयकरण) अधिनियम 1972 की धारा 10बी के प्रावधान के अनुसार निर्दिष्ट बीमा कंपनियों में केंद्र सरकार की हिस्सेदारी कम से कम 51% होनी चाहिए। ये कंपनियां हैं जनरल इंश्योरेंस कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया, नेशनल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड, न्यू इंडिया एश्योरेंस कंपनी लिमिटेड, ओरिएंटल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड और यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड है। 1972 का अधिनियम भारत में सामान्य बीमा कारोबार करने वाली सभी निजी कंपनियों का राष्ट्रीयकरण करने के लिए बनाया गया था।

संशोधन विधेयक धारा 10बी के प्रावधान को हटाने का प्रस्ताव करता है।

साथ ही, 1972 के अधिनियम में जोड़े जाने के लिए प्रस्तावित धारा 24बी ऐसे निर्दिष्ट बीमाकर्ता को अधिनियम के आवेदन को समाप्त करने का प्रावधान करती है, जिस तारीख से केंद्र सरकार का इस पर नियंत्रण समाप्त हो जाता है।

इसके अलावा, नई धारा 31ए में कहा गया है कि एक निर्दिष्ट बीमाकर्ता का निदेशक, जो पूर्णकालिक निदेशक नहीं है, केवल कुछ कृत्यों के लिए उत्तरदायी होगा।

बिल डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें



Next Story