Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

NALSA कार्यक्रम में जस्टिस ललित ने ट्रांसजेंडरों के एक समूह को क‌ब्र‌िस्तान के लिए स्वीकृति आदेश सौंपा; COVID अनाथों को लाभ बांटे

LiveLaw News Network
1 Nov 2021 9:22 AM GMT
NALSA कार्यक्रम में जस्टिस ललित ने ट्रांसजेंडरों के एक समूह को क‌ब्र‌िस्तान के लिए स्वीकृति आदेश सौंपा; COVID अनाथों को लाभ बांटे
x

राष्ट्रीय कानूनी सेवा प्राधिकरण (NALSA) के कार्यकारी अध्यक्ष जस्टिस उदय उमेश ललित ने अखिल भारतीय अभियान के तहत कन्याकुमारी में एक मेगा कानूनी सेवा शिविर का उद्घाटन किया, जिसकी मेजबानी स्थानीय जिला प्रशासन के सहयोग से तमिलनाडु राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण ने की। उद्घाटन की शुरुआत जस्टिस ललित ने पांच मोबाइल वैनों को हरी झंडी दिखाकर की। ये वैन तमिलनाडु के विभिन्न हिस्सों से होकर गुजरेंगी और उन कानूनी सेवाओं के बारे में जागरूकता फैलाएगी जो कानूनी सेवा संस्थानों द्वारा आम लोगों को उपलब्ध कराई जाती हैं।

इस अवसर पर बोलते हुए जस्टिस ललित ने कहा कि महामारी ने कानूनी सेवा संस्थानों के उत्साह को कमजोर नहीं किया है और महामारी ने अधिक और बेहतर सेवाएं प्रदान करने के लिए हमारे उत्साह को और बढ़ाया है। महामारी के कारण बड़ी संख्या में लोग पीड़ित हुए हैं, जिन्हें वास्तव में इस स्थिति का खामियाजा भुगतना पड़ा है। जब कानूनी सहायता प्रदान करने की बात आती है तो कानूनी सेवा संस्थानों के पास बड़ी संख्या में प्रतिबद्ध पैरा लीगल वालंटियर होते हैं। लोग इसके अस्तित्व के बारे में नहीं जानते हैं। इसलिए, कानूनी जागरूकता फैलाना कानूनी सेवाएं प्रदान करने का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन जाता है। इसी उद्देश्य से नालसा ने अखिल भारतीय कानूनी जागरूकता अभियान का विचार प्रस्तुत किया।

इससे पहले समारोह के दौरान, जस्टिस ललित ने ट्रांसजेंडर व्यक्तियों एक समूह को दफन करने के लिए भूमि के एक टुकड़े को चिह्नित करने के कलेक्टर के स्वीकृति आदेश कॉपी सौंपी। समूह ने अखिल भारतीय अभियान के दौरान कानूनी सेवा प्राधिकरण से दफन की जगह के लिए निवेदन किया था।

शिविर के दौरान महामारी के दौरान अनाथ हुए 26 बच्चों को 3-3 लाख रुपए प्रदान किए गए। 50 से अधिक दिव्यांगजनों को विकलांगता प्रमाण पत्र वितरित किए गए। विकलांग व्यक्तियों के उपयोग के लिए डिजाइन किए गए पांच मोटर चालित वाहन भी लाभार्थियों को सौंपे गए। 30 फसल बीमा का लाभ भी दिया गया। समुद्र में जान गंवाने वाले एक मछुआरे की विधवा को मिले तीन लाख रुपए ‌द‌िए गए। आदि द्रविड़ कल्याण विभाग ने लाभार्थियों को पच्चीस से अधिक लोहे के बक्से वितरित किए। अन्य 14 विभागों ने भी अपने विभागों से संबंधित 75 विभिन्न प्रकार के लाभों का वितरण किया है। दोपहर 12 बजे तक विभिन्न विभागों द्वारा 187 लाभ बांटे गए। विभिन्न कमजोर समुदाय के 600 से अधिक व्यक्तियों ने कार्यक्रम में भाग लिया है और उनमें सरकारी कल्याण योजनाओं और उन्हें कानूनी सहायता के बारे में जानकारी दी गई।





उद्घाटन समारोह में जस्टिस एम. दुरईसामी, कार्यकारी अध्यक्ष, तमिलनाडु राज्य कानूनी सेवा प्राधिकरण/न्यायाधीश, मद्रास उच्च न्यायालय और जस्टिस टी. राजा, अध्यक्ष, उच्च न्यायालय कानूनी सेवा समिति/न्यायाधीश, मद्रास उच्च न्यायालय ने भी भाग लिया।

अपने भाषण में, जस्टिस एम. दुरईसामी ने तमिलनाडु राज्य में अखिल भारतीय अभियान के सफल कार्यान्वयन के बारे में बताया। न्यायाधीश ने महामारी संकट के बाद इस तरह के अभियान की आवश्यकता पर भी प्रकाश डाला।

जस्टिस टी. राजा ने कहा कि इस महामारी के दौरान आम लोग अपनी आजीविका से वंचित थे। इस अखिल भारतीय अभियान ने उन्हें सामान्य स्थिति में लाने में बहुत मदद की है। समारोह के लिए स्वागत भाषण श्री राजशेखर, सदस्य-सचिव, तमिलनाडु राज्य कानूनी सेवा प्राधिकरण द्वारा प्रस्तुत किया गया, जबकि श्री एस अरुल मुरुगन, प्रधान जिला न्यायाधीश, कन्याकुमारी ने धन्यवाद प्रस्ताव दिया।

Next Story