Top
Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

क्या आप दोषी राजनेताओं के चुनाव लड़ने पर आजीवन प्रतिबंध लगाने के इच्छुक हैं? सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से पूछा

LiveLaw News Network
25 Nov 2021 8:25 AM GMT
क्या आप दोषी राजनेताओं के चुनाव लड़ने पर आजीवन प्रतिबंध लगाने के इच्छुक हैं? सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से पूछा
x

सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को केंद्र सरकार से पूछा कि क्या वह उन राजनेताओं के चुनाव लड़ने पर आजीवन प्रतिबंध लगाने पर विचार करने को तैयार है, जिन्हें अपराधों के लिए दोषी ठहराया गया है। चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया ने केंद्र सरकार की ओर से पेश अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल एसवी राजू से पूछा।

सीजेआई ने कहा कि जब तक केंद्र चुनाव आयोग की राय लेने के बाद लोक प्रतिनिधित्व कानून में संशोधन का निर्णय नहीं लेता है, अदालत के लिए इस मुद्दे पर फैसला करना मुश्किल होगा। एएसजी राजू ने जवाब दिया कि वह सरकार से निर्देश लिए बिना कुछ भी नहीं कह सकते। उन्होंने कहा, "मुझे निर्देश लेने की आवश्यकता है। मैं कुछ भी तुरंत नहीं कह सकता।"

पीठ जिसमें जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस सूर्यकांत भी शामिल थे, अश्विनी उपाध्याय की ओर से दायर एक जनहित याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें दोषी राजनेताओं पर आजीवन प्रतिबंध लगाने की मांग की गई थी । जनहित याचिका जन प्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा 8 के दायरे को उस हद तक चुनौती देती है, जब यह व्यक्तियों को निर्दिष्ट अपराधों के लिए सजा दिए जाने पर केवल कुछ वर्षों की अवधि के लिए चुनाव लड़ने से रोकती है।

पार्टी-इन-पर्सन के रूप में पेश हुए उपाध्याय ने पीठ से आजीवन प्रतिबंध की मांग वाली उनकी जनहित याचिका में उठाए गए मुख्य मुद्दे पर सुनवाई करने का आग्रह किया। उन्होंने तर्क दिया, "एक दोषी व्यक्ति क्लर्क नहीं बन सकता, लेकिन मंत्री बन सकता है। यह मनमानी है।"

सीजेआई ने चुटकी लेते हुए कहा, "अश्विनी उपाध्याय ने 18 याचिकाएं दायर की हैं? मैं चाहता हूं कि अश्विनी उपाध्याय और एमएल शर्मा के मामलों की सुनवाई के लिए हमें एक विशेष अदालत की जरूरत है।"

2017 में चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि वह दोषी व्यक्तियों के चुनाव लड़ने पर आजीवन प्रतिबंध लगाने के विचार का समर्थन करता है। दिसंबर 2020 में केंद्र ने सांसदों/विधायकों पर आजीवन प्रतिबंध का विरोध करते हुए एक हलफनामा दायर किया था। केंद्र ने तर्क दिया कि याचिकाकर्ता द्वारा विधायकों और लोक सेवकों के बीच की गई तुलना गलत है।

उपाध्याय की याचिका पर अदालत ने मौजूदा और पूर्व सांसदों/विधायकों के खिलाफ मामलों की सुनवाई के लिए विशेष अदालतें बनाने के लिए कई आदेश पारित किए हैं। न्यायालय कल मुख्य रूप से इस मुद्दे से निपट रहा था कि क्या मजिस्ट्रेट द्वारा विचारणीय मामलों को सत्र न्यायालय स्तर पर बनाई गई विशेष एमपी/एमएलए अदालतों को सौंपा जा सकता है। पीठ ने स्पष्ट किया कि उसके आदेशों का गलत अर्थ नहीं निकाला जा सकता है कि मजिस्ट्रेट द्वारा विचारणीय मामलों को सत्र न्यायालय को सौंपा जाना है।

कोर्ट ने कहा, "इस न्यायालय के निर्देश पूर्व और मौजूदा विधायकों से संबंधित आपराधिक मामलों को सत्र न्यायालयों या, जैसा भी मामला हो, मजिस्ट्रियल न्यायालयों को सौंपने और आवंटित करने का आदेश देते हैं। यह लागू कानून के शासी प्रावधानों के अनुसार होना चाहिए।"

कोर्ट ने जोड़ा, "परिणामस्वरूप जहां दंड संहिता के तहत एक मजिस्ट्रेट द्वारा मामला विचारणीय है, मामले को अधिकार क्षेत्र वाले मजिस्ट्रेट की अदालत को सौंपा/आवंटित करना होगा और इस न्यायालय के दिनांक 4 दिसंबर 2018 के आदेश को एक निर्देश के रूप में नहीं माना जा सकता है। सत्र न्यायालय द्वारा मामले की सुनवाई की आवश्यकता है।"

Next Story