Begin typing your search above and press return to search.
ताजा खबरें

सुप्रीम कोर्ट से ओडिशा में रथ यात्रा व संबंधित गतिविधियों पर रोक लगाने के आदेश को वापस लेने का आग्रह

LiveLaw News Network
20 Jun 2020 3:00 AM GMT
सुप्रीम कोर्ट से ओडिशा में रथ यात्रा व संबंधित गतिविधियों पर रोक लगाने के आदेश को वापस लेने का आग्रह
x

सुप्रीम कोर्ट द्वारा 18 जून को जगन्नाथ यात्रा पर रोक लगाने के संदर्भ में दिए गए अपने आदेश को वापस लेने का आग्रह करते हुए शीर्ष अदालत में एक आवेदन दायर किया गया है।

18 जून को सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया कि इस साल ओडिशा में भगवान जगन्नाथ मंदिर में किसी भी तरह की रथ यात्रा नहीं होनी चाहिए, क्योंकि महामारी की स्थिति चल रही है।

भारत के मुख्य न्यायाधीश एस ए बोबडे की अध्यक्षता वाली एक पीठ ने ओडिशा विकास परिषद द्वारा राज्य में वार्षिक भगवान श्री जगन्नाथ की रथ यात्रा को रोकने के लिए दायर एक याचिका पर आदेश पारित किया, जो 23 जून को होने वाली थी।

जगन्नाथ संस्कृत जन जागरण मंच की ओर से दायर अर्जी में कहा गया है कि मामले में याचिकाकर्ताओं, ओडिशा विकास परिषद ने सामग्री तथ्यों को छुपाया और कोर्ट को व्यवस्था की पूरी जानकारी नहीं दी कि COVID-19 दिशानिर्देशों के अनुपालन में सामाजिक दूरी बनाए रखना पूरी तरह सुनिश्चित किया गया है।

दरअसल ओडिशा विकास परिषद ने सुप्रीम कोर्ट से गुहार लगाई थी कि वो महामारी के आसन्न खतरे के आधार पर राज्य में वार्षिक भगवान श्री जगन्नाथ की रथ यात्रा को रोके, जो 23 जून, 2020 को होने वाली है।

याचिका के अनुसार, धार्मिक मण्डली हर साल 10 लाख से अधिक लोगों को आकर्षित करती है, और यदि महोत्सव को निर्धारित तिथि पर होने की अनुमति दी जाती है, तो यह कोरोनावायरस के प्रसार को बढ़ा सकता है; जो हजारों लोगों के जीवन को खतरे में डाल देगा।

आगे कहा गया है कि केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा 30 मई, 2020 को जारी किए गए दिशानिर्देशों में सभी प्रकार के सामाजिक / राजनीतिक / खेल / मनोरंजन / शैक्षणिक / सांस्कृतिक / धार्मिक कार्यों और अन्य बड़ी सभाओं को भी प्रतिबंधित कर दिया है।

याचिकाकर्ता संगठन ने कहा था कि

"ऐसी प्रकृति की एक धार्मिक मण्डली, जिसे विशेष रूप से राज्य सरकार द्वारा अपने दिशानिर्देश दिनांक 01.06.2020 और 07.06.2020 को प्रतिबंधित किया गया है और गृह मंत्रालय, भारत सरकार ने अपने दिशानिर्देश दिनांक 30.05.2020 को रद्द कर दिया है, यदि अनुमति होगी तो उसके बाद वायरस के प्रसार को नियंत्रित करना अधिकारियों के लिए बहुत मुश्किल होगा।"

हाईकोर्ट ने भी हस्तक्षेप करने से किया था इनकार

उड़ीसा उच्च न्यायालय ने इस मामले में "सुरेन्द्र पाणिग्रही बनाम ओड़िसा राज्य व अन्य " नामक एक मामले में हस्तक्षेप करने से इनकार कर दिया था। यह तब हुआ जब राज्य के महाधिवक्ता ने अदालत को सूचित किया कि रथ यात्रा को अनुमति देने या न देने का निर्णय राज्य सरकार द्वारा निर्धारित तिथि से कुछ दिन पहले की स्थिति के आधार पर लिया जाएगा।

इसे प्रस्तुत करने पर न्यायालय ने अवलोकन किया था कि,

"राज्य सरकार राज्य में कोरोनावायरस के प्रसार के बारे में बिगड़ती स्थिति के बारे में पूरी तरह से संज्ञान में है। यह लगातार ऐसी स्थिति की निगरानी कर रही है और COVID-19 के वस्तुगत मूल्यांकन के आधार पर, एक उचित समय पर, निर्धारित तिथि से पहले यानी 23.6.2020 से कुछ दिन पहले, राज्य की सुरक्षा, बचाव और कल्याण को ध्यान में रखते हुए रथ यात्रा के जारी रहने या अन्यथा के संबंध में निर्णय लेगी। "

अदालत ने यह भी कहा था कि 30 मई, 2020 को केंद्रीय दिशानिर्देशों के तहत, यह राज्य सरकार पर निर्भर करता है कि वह इस तरह की सभाओं की अनुमति दे या नहीं, यह प्रचलित स्थिति पर निर्भर करता है। उच्च न्यायालय ने हालांकि आगाह किया था कि अगर राज्य सरकार अंततः महोत्सव की अनुमति देने का निर्णय लेती है, तो वह लॉकडाउन के उपायों के पालन के संबंध में निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करेगी।

Next Story