Top
Begin typing your search above and press return to search.
स्तंभ

सीएए का एक सालः सुस्त बना रहा सुप्रीम कोर्ट, विरोध के अध‌िकार के समर्थन में सक्रिय रहे हाईकोर्ट

LiveLaw News Network
11 Dec 2020 2:05 PM GMT
सीएए का एक सालः सुस्त बना रहा सुप्रीम कोर्ट, विरोध के अध‌िकार के समर्थन में सक्रिय रहे हाईकोर्ट
x

अक्षिता सक्सेना

ठीक एक साल पहले, 11 दिसंबर, 2019 को संसद ने विवादास्पद नागरिकता संशोधन अधिनियम, 2019 (CAA) पारित किया था।

अधिनियम की संवैधानिकता पर- पड़ोसी राष्ट्रों से धार्मिक उत्पीड़न के कारण भागे शरणार्थियों को संरक्षण देने के कथ‌ित उद्देश्य के साथ पारित - मुस्लिम प्रवासियों और गैर-मुस्लिम बहुसंख्यक पड़ोसी देशों को दायरे से बाहर रखने के कारण, गंभीर बहस हुई।

क्यों अधिनियम का स्वागत नहीं हुआ?

धार्मिक कोण जोड़कर भारतीय नागरिकता की मूल अवधारणाओं में आए बदलावों, नागरिकों के राष्ट्रीय रजिस्टर के संबंध में अनिश्चितता और इसके स्पष्ट पूर्ववर्ती राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर के सबंध में चिंताओं ने देश में उथल-पुथल मचा दी।

सीएए-एनपीआर-एनआरसी के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में 140 से अधिक रिट याचिकाएं दायर की गईं। कई राज्य सरकारों ने इसके प्रावधानों को लागू नहीं करने का संकल्प लिया। संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार निकाय जैसे अंतर्राष्ट्रीय संगठनों ने विवश होकर अधिनियम की "मूलतः भेदभावपूर्ण प्रकृति" पर टिप्पणी की। संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार आयुक्त ने भी सीएए पर सवाल उठाते हुए सुप्रीम कोर्ट में हस्तक्षेप किया।

इस कानून ने देश भर में बड़े पैमाने पर नागरिक विरोध आंदोलनों को हवा दी, जिन्हें राज्य सरकारों ने धारा 144 लगाकर, पुलिस की कार्रवाइयों, इंटरनेट शटडाउन आदि के जर‌िए क्रूरता से दबाने की कोशिश की।

कोर्ट ने कैसे जवाब दिया?

जबकि कई लोग नागरिकता से संबंधित मुद्दों पर एक समीचीन और आधिकारिक घोषणा के लिए सुप्रीम कोर्ट की ओर देख रहे थे, भारत के मुख्य न्‍यायाधीश एसए बोबडे के नेतृत्व वाली संस्‍था ने सबरीमाला समीक्षा में उठाए गए आवश्यक धार्मिक प्रथाओं के सवालों को प्राथमिकता देने के लिए चुना।

फिर भी, उच्च न्यायालयों द्वारा एक वर्ष की अवधि में पारित आदेशों के अवलोकन से, यह परावर्तित होता है कि उन्होंने प्रदर्शनकारियों के बुनियादी मानवीय और मौलिक अधिकारों को बचाने के लिए सक्रिय दृष्टिकोण अपनाया है; स्वतंत्र भाषण के अधिकार, जीवन के अधिकार और व्यक्तिगत स्वतंत्रता के अधिकार की रक्षा के लिए लिए प्रेरित रहे और असंतोष के अधिकार पर जोर दिया।

इलाहाबाद उच्च न्यायालय

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में पुलिस की हिंसा

रिपोर्टों के अनुसार, सीएए विरोधी हिंसक प्रदर्शनों में उत्तर प्रदेश में कम से कम 23 लोग मारे गए, हजारों को गिरफ्तार किया गया और सैकड़ों एफआईआर दर्ज की गईं। इसमें 15 दिसंबर, 2020 को अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय परिसर में हुई हिंसा भी शामिल है।

यह कहा गया कि छात्र 13 दिसंबर, 2019 से नागरिकता संशोधन अधिनियम के खिलाफ शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन कर रहे थे, हालांकि, 15 दिसंबर, 2019 को, बिना किसी उचित और वैध कारणों के, पैरा मिलिट्री फोर्स और राज्य पुलिस ने प्रदर्शनकारी छात्रों पर लाठी चार्ज किया। छात्रों पर आंसू गैस, रबर बुलेट और छर्रों की फायरिंग की गई।

घटना की अदालत की निगरानी में जांच की मांग पर, 19 दिसंबर को इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने उत्तर प्रदेश सरकार और एएमयू प्रशासन से जवाब मांगा। इसके अलावा, मामले की तात्कालिकता को देखते हुए, मुख्य न्यायाधीश के नेतृत्व वाली खंडपीठ ने जिला मजिस्ट्रेट, अलीगढ़ को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया कि छात्रों को और कथित घटना में घायल हुए लोगों को सभी आवश्यक चिकित्सा सहायता प्रदान की जाए।

यह आदेश भारत के मुख्य न्यायाधीश द्वारा जामिया मिल्लिया इस्लामिया और एएमयू में हुई पुलिस हिंसा की घटना पर संज्ञान लेने से इंकार करने के कुछ दिनों बाद आया और टिप्पणी की गई कि न्यायालय को "धमकाया" नहीं जा सकता। उन्होंने वरिष्ठ अधिवक्ता इंदिरा जयसिंह से कहा कि "अगर हिंसा बंद हो जाती है" तो सुप्रीम कोर्ट इस मामले की सुनवाई अगले दिन करेगा।

विडंबना यह है कि अगले दिन, यानी 17 दिसंबर, 2019 को, सुप्रीम कोर्ट ने सभी पक्षों को उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाने के लिए कहा, क्योंकि यह उच्चतम न्यायालय द्वारा जांच की निगरानी करना "संभव नहीं" था, क्योंकि घटनाएं पूरे देश में हुई थीं।

याचिकाकर्ताओं के लिए राहत यह थी इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने कथित पुलिस ज्यादतियों का संज्ञान लिया और राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग को 5 सप्ताह के भीतर मामले की जांच करने का निर्देश दिया।

आखिरकार, 24 फरवरी को, इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने पुलिसकर्मियों को "मोटरसाइकिलों को नुकसान पहुंचाने और एएमयू के पकड़े गए छात्रों को अनावश्यक रूप से लाठी से मारने" का दोषी पाया और अदालत ने उत्तर प्रदेश पुलिस महानिदेशक को निर्देश दिया कि वह दोषी अधिकारियों की पहचान करें और कार्रवाई करें।

डॉ कफील खान की हिरासत

गोरखपुर स्थिति बाल चिकित्सक डॉ कफील खान को सीएए विरोधी प्रदर्शनों के बीच, 13 दिसंबर, 2019 को अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में कथित रूप से भड़काऊ भाषण देने के आरोप में जनवरी 2020 में मुंबई से गिरफ्तार किया गया। डॉ खान के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून, 1980 के तहत "शहर में सार्वजनिक व्यवस्था में गड़बड़ी करने और अलीगढ़ के नागरिकों के भीतर भय और असुरक्षा का माहौल पैदा करने" के आरोप मुकदमा दर्ज किया गया।

खान की मां नूज़हत परवीन द्वारा दायर एक बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका, इलाहाबाद उच्च न्यायालय के समक्ष पहली बार 1 जून, 2020 को सूचीबद्ध किया गया था, क्योंकि उच्चतम न्यायालय ने इस मामले में हस्तक्षेप करने से इनकार कर दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि हाईकोर्ट मामले की सुनवाई के लिए अधिक "उपयुक्त मंच" है।

उच्च न्यायालय ने एक सितंबर 2020 को याचिका का निस्तारण किया और डॉ खान के तत्काल रिहाई के निर्देश दिए गए। कोर्ट ने कहा कि बहुत नुकसान किया गया, क्योंकि जिस व्यक्ति ने "अखंडता और एकता के लिए नागरिकों का आह्वान" किया, उसे लगभग सात महीने तक हिरासत में रखा गया।

एनएसए के तहत पेश किए गए रिकॉर्ड के अवलोकन के बाद इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने कहा कि खान को हिरासत में रखने का कोई आधार नहीं है। उनके भाषण को पढ़ने से संकेत मिलता है कि उन्होंने किसी भी तरह की हिंसा की बात नहीं की थी।

नेम एंड शेम के बैनर

हिंसक घटनाओं के बाद योगी आदित्यनाथ की अगुवाई वाली उत्तर प्रदेश सरकार ने राजधानी लखनऊ में 'नेम एंड शेम' के बैनर लगाए, जिसमें सीएए विरोधी प्रदर्शनों हिंसा, सार्वजनिक और निजी संपत्त‌ि के कथ‌ित आरोपी व्यक्तियों के नाम, फोटो और पते प्रदर्शित किए गए।

हालांकि मुख्य न्यायाधीश के नेतृत्व में इलाहाबाद हाईकोर्ट की एक खंडपीठ ने मामले का तुरंत संज्ञान लिया और बैनरों को तत्काल हटाने का निर्देश जारी किया।

8 मार्च, रविवार को आयोजित एक विशेष बैठक के बाद, उच्च न्यायालय ने कहा कि सरकार की कार्रवाई का संविधान निहित अमूल्य अधिकारों पर "गलत प्रभाव" पड़ा है और यदि सार्वजनिक रूप से अन्याय हो रहा है तो न्यायालय अपनी आँखें बंद नहीं कर सकती हैं।

न्यायालय ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार यह दिखाने में विफल रही कि कुछ व्यक्तियों के व्यक्तिगत डेटा को बैनरों पर क्यों रखा गया था और इस प्रकार नागरिकों के निजता के अधिकार के साथ "अवांछित हस्तक्षेप" हुआ है ।

निस्संदेह, नेम एंड शेम बैनर बिना किसी ट्रायल के व्यक्तियों पर दायित्व तय करने जैसा था और उच्च न्यायालय ने कार्यपालिका द्वारा "शक्तियों के ऐसे दुरुपयोग" के खिलाफ व्यापक टिप्पणियां कीं गई थीं।

जब उत्तर प्रदेश सरकार ने उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाया, तो सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकार से उस कानून के बारे में पूछा, जिसके तहत कथित दंगाइयों के नाम वाले होर्डिंग्स लगाए गए थे। हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने ना याचिका को खारिज नहीं किया और ना ही उच्च न्यायालय के आदेश को बरकरार नहीं रखा बल्कि याचिका को एक बड़ी पीठ के पास भेज दिया।

जस्टिस यूयू ललित और अनिरुद्ध बोस की एक पीठ ने कहा कि इस मामले में "ऐसे मुद्दें शामिल हैं, जिन पर पर्याप्त क्षमतावान बेंच द्वारा आगे विचार करने की आवश्यकता है"। विशेष रूप से, पीठ ने हाईकोर्ट के आदेश के संचालन पर किसी भी प्रकार का आदेश पारित नहीं किया था।

इस बीच, उत्तर प्रदेश सरकार ने उत्तर प्रदेश सार्वजनिक और निजी संपत्ति क्षतिपूर्ति वसूली अध्यादेश को मंजूरी दे दी, जिससे विरोध/ प्रदर्शनों/ हड़ताल/ बंद/ दंगों/ सार्वजनिक हंगामे के दौरान किसी भी निजी / सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वाले किसी भी व्यक्ति / बदमाश से नुकसान की वसूली की जा सके। निश्चित रूप से उक्त अध्यादेश का उद्देश्य उच्च न्यायालय के आदेश को पलटना था।

बॉम्‍बे हाईकोर्ट

महाराष्ट्र के जिलों में धारा 144 लागू करना

नागरिकों के असंतोष की अभिव्यक्ति के अधिकार का समर्थन करते हुए बॉम्बे हाईकोर्ट की एक खंडपीठ ने सीएए विरोधी प्रदर्शनों पर रोक लगाने के लिए पारित धारा 144 सीआरपीसी के तहत पारित एक आदेश को रद्द कर दिया।

अदालत ने उल्लेख किया कि भले ही धारा 144 के आदेश को कई आंदोलन को रोकने के लिए पारित किया गया ‌था, लेकिन इसका असली उद्देश्य सीएए विरोधी प्रदर्शनकारियों को चुप कराना था। आदेश के तहत नारेबाजी, गाना, ढोल बजाने आदि पर भी रोक लगा दी गई थी।

जजों ने कहा था कि ब्रिटिश शासन के खिलाफ भारत ने विरोध प्रदर्शनों के जर‌िए ही स्वतंत्रता प्राप्त की थी । इस संबंध में, अदालत ने कहा, "यह कहा जा सकता है कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि लोगों को अपनी सरकार के खिलाफ आंदोलन करने की आवश्यकता है लेकिन केवल इस आधार पर आंदोलन को दबाया नहीं जा सकता है"।

न्यायालय ने यह भी कहा था कि सीएए विरोध‌ियों को देशद्रोही या देशद्रोही नहीं कहा जा सकता है और शांतिपूर्ण विरोध के उनके अधिकार पर विचार किया जाना चाहिए।

कर्नाटक उच्च न्यायालय

मंगलुरु फायरिंग की घटना

कर्नाटक उच्च न्यायालय ने 19 दिसंबर, 2019 को मंगलुरु में सीएए विरोधी रैली में पुलिस फायरिंग में कथित रूप से मारे गए दो व्यक्तियों के परिजनों शिकायतों पर एफआईआर नहीं दर्ज करने के लिए पुलिस अधिकारियों को फटकार लगाई।

उच्च न्यायालय ने एक जनहित याचिका पर राज्य सरकार को नोटिस भी जारी किया, जिसमें उच्च न्यायालय के एक सेवानिवृत्त न्यायाधीश द्वारा मामले की न्यायिक जांच की मांग की गई थी।

19 दिसंबर, 2019 को मंगलुरु में सीएए विरोधी प्रदर्शनों में हिंसा और पुलिस पर हमले के आरोप में मंगलुरु पुलिस द्वारा ‌गिरफ्तार किए गए 22 लोगों को हाईकोर्ट ने 17 फरवरी को जमानत दे दी।

कोर्ट ने कहा कि जांच एजेंसी द्वारा एकत्र की गई सामग्री में किसी भी प्रकार के विशिष्ट साक्ष्य नहीं हैं, जैसे कि घटनास्थल पर किसी भी अभियुक्त की उपस्थिति आदि; दूसरी ओर, 1500 - 2000 की मुस्लिम भीड़ पर सर्वव्यापी आरोप लगाए गए हैं, आरोप है कि वे पत्थर, सोडा की बोतलों और कांच के टुकड़ों जैसे हथियारों से लैस थे।

इस आदेश पर सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकार द्वारा दायर एक विशेष अनुमति याचिका पर, बिना किसी कारण के मार्च 2020 में रोक लगा दी थी, जबकि हाईकोर्ट ने प्रथम दृष्टया अवलोकन किया था कि पुलिस द्वारा हिंसा शुरू की गई थी।

प्रदर्शनकारियों को आखिरकार कई महीनों बाद सुप्रीम कोर्ट के 9 सितंबर के आदेश बाद रिहा किया गया। सुप्रीम कोर्ट की तीन जजों की पीठ ने अंततः उच्च न्यायालय के निष्कर्षों के साथ सहमति व्यक्त की थी।

जाहिर है, उच्च न्यायालय द्वारा प्रथम दृष्टया निष्कर्षों के बावजूद, 22 अभियुक्तों को 6 महीने से अधिक समय तक हिरासत में रखा गया था। इससे भी अधिक नुकसानदायक बात यह है कि उच्चतम न्यायालय ने उनकी व्यक्तिगत स्वतंत्रता पर रोक लगाने का आदेश दिया, बिना किसी सकारण आदेश के कि उच्च न्यायालय के आदेश पर रोक क्यों लगाई गई।

बेंगलुरु में धारा 144 लागू करना

भाषण, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और असंतोष प्रकट करने के अधिकार को एक बड़ी जीत तब मिली, जब कर्नाटक उच्च न्यायालय ने 13 फरवरी, 2020 को माना कि सीएए विरोधी सभी सार्वजनिक रैलियों को रोकने के लिए राज्य सरकार द्वारा 18 दिसंबर, 2019 को जारी प्रतिबंधात्मक आदेश गैरकानूनी थे और कानून की कसौटी पर खरे नहीं उतरते हैं।

उच्च न्यायालय की एक खंडपीठ ने टिप्पणी की, "शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन के मौलिक अधिकार का उल्लंघन, जो लोकतंत्र की एक बुनियादी विशेषता है, को हल्के में नहीं लिया जा सकता।"

न्यायालय ने कहा कि दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के तहत निषेधात्मक आदेश की वैधता का परीक्षण "तकनीकी मात्र" नहीं था, बल्कि " ठोस मामला" था, क्योंकि इसमें अनुच्छेद 19 (1) (ए) और 19 (1) (बी) के तहत भाषण, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता, और शांतिपूर्ण सभा की स्वतंत्रता के मूल अध‌िकार के उल्लंघन का मामला शामिल था।

यह उल्लेख किया गया कि पुलिस आयुक्त के (जिला मजिस्ट्रेट की शक्तियों का प्रयोग करके जारी किए गए ) आदेश ने कानून और व्यवस्था के लिए तत्काल खतरे को कम करने के लिए प्रतिबंध लगाने की आवश्यकता के संबंध में गठित व्यक्तिपरक संतुष्टि को प्रतिबिंबित नहीं किया।

कश्मीर लॉकडाउन को लेकर अनुराधा भसीन बनाम यूनियन ऑफ इंडिया मामले में सुप्रीम कोर्ट के हालिया फैसले का हवाला देते हुए, हाईकोर्ट ने कहा कि जांच पर जिला मजिस्ट्रेट द्वारा राय का गठन आवश्यक था। न्यायालय ने यह भी नोट किया कि कुछ उपायुक्तों ने निषेधाज्ञा की तारीख पर विरोध प्रदर्शन की अनुमति पहले दी थी, जबकि उनके द्वारा आयुक्त को सौंपी गई रिपोर्टों में यह खुलासा नहीं किया गया था।

मद्रास उच्च न्यायालय

शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शनों पर रोक के आदेश को रद्द किया

मद्रास उच्च न्यायालय द्वारा पारित दो महत्वपूर्ण आदेशों ने नागरिकों को भाषण और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अधिकार का प्रयोग करने और नागरिकता संशोधन अधिनियम के खिलाफ अपने समर्थन को व्यक्त करने सुविधा प्रदान की।

11 फरवरी, 2020 के एक आदेश में, उच्च न्यायालय की एकल न्यायाधीश खंडपीठ ने एक सामाजिक संगठन को सीएए और एनआरसी के खिलाफ एक सार्वजनिक सम्मेलन आयोजित करने की अनुमति दी, शर्त केवल यह थी कि वे कानून और व्यवस्था में गड़बड़ी नहीं करेंगे। इसने उक्त सम्मेलन को आयोजित करने की अनुमति नहीं देने के राज्य प्रशासन के आदेश को रद्द कर दिया।

इसी तरह, 13 मार्च, 2020 को, उच्च न्यायालय ने पुलिस अधीक्षक, त्रिची (ग्रामीण) द्वारा पारित एक आदेश को रद्द कर दिया, जिसके तहत सीएए विरोधी प्रदर्शन के लिए अनुमति से इनकार किया गया था।

नोट: कोर्ट ने COVID 19 महामारी के मद्देनजर सरकार द्वारा लगाए गए निषेधात्मक आदेशों को ध्यान में रखते हुए याचिकाकर्ताओं को अनुमति देने से इनकार कर दिया।

शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों के खिलाफ गैरकानूनी दंडात्मक कार्रवाई को रोका

जुलाई 2020 में एक महत्वपूर्ण फैसले में, उच्च न्यायालय ने कहा कि एक पुलिस अधिकारी आईपीसी की धारा 172 से 188 के तहत किसी भी अपराध के लिए एफआईआर दर्ज करने के लिए सक्षम व्यक्ति नहीं है। (लोक सेवकों के कानूनी अधिकार की अवमानना से संबंधित अपराध) इस आदेश ने जीवनानंदम और अन्य बनाम राज्य में सुप्रीम कोर्ट के फैसले की याद दिलाई।

हाल ही में, 5 नवंबर, 2020 को, उच्च न्यायालय ने तमिलनाडु के शेनकोट्टई के दो सीएए-एनआरसी प्रदर्शनकारियों के खिलाफ दायर एफआईआर को रद्द कर दिया, क्योंकि वहां "कोई अप्रिय घटना नहीं हुई थी"।

गुवाहाटी हाईकोर्ट ने मोबाइल इंटरनेट की बहाली का आदेश जारी किया

यह कहते हुए कि मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को बंद करने से जीवन में मुश्किलें आएंगी, हाल ही में गुवाहाटी हाईकोर्ट ने असम सरकार को मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को बहाल करने का आदेश दिया था, जिन्हें सीएए विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर काट दिया गया था।

अंतरिम आदेश मुख्य न्यायाधीश अजय लांबा और न्यायमूर्ति अचिन्त्य मल्ल बुजोर बरुआ ने अधिवक्ता बानाश्री गोगोई, देव कन्या डोली और पत्रकार अजय भुयान की ओर से दायर एक एक जनहित याचिका पर पारित किया।

दिल्ली कोर्ट की प्रतिक्रिया

दिल्ली की अधीनस्थ अदालतों ने सीएए विरोध प्रदर्शनों के दौरान कथित हिंसा के लिए गिरफ्तार किए गए व्यक्तियों को जमानत देने के कई उल्लेखनीय आदेश पारित किए। ऐसे कई आदेशों में, न्यायालयों ने उल्लेख किया कि हिंसा के आरोपी व्यक्तियों के खिलाफ कोई सबूत नहीं थे।

जनवरी 2020 में, तीस हजारी सत्र न्यायालय ने एक दिलचस्प टिप्पणी की की संविधान की प्रस्तावन को पढ़ना हिंसा के लिए उकसाना नहीं माना जा सकता है। राजनीतिक कार्यकर्ता चंद्रशेखर आजाद को जमानत देने के आदेश में में यह टिप्पणी की गई थी।

फरवरी में उत्तर पूर्व जिले में हुए सांप्रदायिक दंगों के कारण राष्ट्रीय राजधानी हिल गई थी, जिसमें कम से कम 53 लोगों की मौत हो गई थी और लगभग 200 लोग घायल हो गए। दिल्ली पुलिस ने सीएए विरोधी प्रदर्शनों को दिल्ली दंगों से जोड़ने के लिए एक षंडयंत्र का कोण पेश किया ‌था। कई छात्र नेताओं और कार्यकर्ताओं को आतंकवाद विरोधी कानून, गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया गया था, जिसमें आरोप लगाया गया था कि सीएए विरोधी प्रदर्शन दंगों को भड़काने की एक साजिश थी।

हिंसक घटनाओं के बाद कई छात्रों और कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया, जिनकी गिरफ्तारियों को बाद में न्यायालयों ने मनमाना और पूर्वाग्रह के आधार पर पाया। उक्त मामलों में ट्रायल शुरू होना बाकी या लंबित है, लेकिन इनसे कार्यकारी की प्रतिशोधी प्रवृत्त‌ि का पता चलता है, जिसमें असंतोष के आवाजों को दबाने की कोशिश की गई।

दिल्ली उच्च न्यायालय और दिल्ली की अदालतों ने पुलिस जांच में गंभीर संदेह पैदा होने बाद कई गिरफ्तार व्यक्तियों को जमानत दी है। कुछ मामलों में, अदालत ने कहा कि आरोपी व्यक्ति केवल सीएए के खिलाफ शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन कर रहे थे और हिंसा का कोई सबूत नहीं था। लाइवलॉ ने एक अलग रिपोर्ट में विश्लेषण किया है कि कैसे दंगों के मामलों में कोर्ट के आदेश दिल्ली पुलिस की जांच की विश्वसनीयता पर सवाल खड़ा करते हैं, जिसे यहां पढ़ा जा सकता है।

क्या जामिया मिल्लिया में कथित पुलिस ज्यादती के दौरान संवैधानिक अदालतें तत्परता नहीं दिखा पाईं?

15 दिसंबर, 2019 को नागरिकता (संशोधन) अधिनियम, 2019 के कार्यान्वयन के खिलाफ जामिया मिल्लिया इस्लामिया में शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन बढ़ने के कारण दिल्ली पुलिस की ओर से अत्यधिक बल का उपयोग किया गया। यह आरोप लगाया गया था कि पुलिस ने जबरदस्ती विश्वविद्यालय परिसर में प्रवेश किया, आंसूगैस के गोले छोड़े और लाठियां चलाईं, और कुछ छात्रों को कुछ घंटों के लिए हिरासत में लिया, जिनमें चिकित्सीय या कानूनी सहायता नहीं दी गई थी।

जब सर्वोच्च न्यायालय को इस मामले की न्यायिक जांच का आदेश देने के लिए कहा गया थे तो उसने पक्षकारों को उच्च न्यायालय वापस भेज दिया।

उच्च न्यायालय ने 4 फरवरी 2020 को, यानी लगभग 2 महीने बाद, पुलिस द्वारा बुक किए गए छात्रों को अंतरिम संरक्षण देने से इनकार कर दिया, यह कहते हुए कि वह सरकार को पहले सुनना चाहते हैं। बाद में मामला बिना किसी अंतरिम निर्देश के फिर से 29 अप्रैल के लिए स्थगित कर दिया गया। उसी समय, हाईकोर्ट ने कोर्ट में 'शर्म, शर्म' के नारे लगने की कथित घटना की जांच के लिए एक समिति बनाने का आश्वासन दिया, और उसके बाद अंतरिम संरक्षण दिए बिना मामले को दो महीने के लिए स्थगित कर दिया गया।

पहली ज्ञात न्यायिक आदेश, कथित घटना पर कुछ प्रकार की चिंता दिखाते हुए 22 जनवरी, 2020 को साकेत जिले की एक स्थानीय अदालत से (कथित घटना घटने के एक महीने बाद) आया, जिसके तहत दिल्ली पुलिस से एक्शन टेकन रिपोर्ट मांगी गई थी। ।

नवीनतम अपडेट: जामिया हिंसा के खिलाफ मामले में सुनवाई उच्च न्यायालय के समक्ष बहस के चरण में है।

इस बीच, राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने एक आदेश पारित किया, जिसके तहत दिल्ली पुलिस के एक विशेष जांच दल द्वारा जांच की सिफारिश की गई और विरोध प्रदर्शनों के पीछे "वास्तविक अपराधियों" की पहचान करने और उन्हें गिरफ्तार करने का आदेश दिया गया।

मानवाधिकार आयोग ने विश्वविद्यालय के छात्रों पर उचित अनुमति के बिना विरोध प्रदर्शन करने का आरोप लगाया और कहा कि जामिया के छात्र दिल्ली पुलिस को कार्रवाई के लिए उकसाने के लिए जिम्मेदार थे।

निष्कर्ष

सुप्रीम कोर्ट ने मूकदर्शक के रूप में काम किया, जबकि देश के युवा छात्रों, कार्यकर्ताओं, आदि को लाठियों, रबर की गोलियों, पानी की बौछारों आदि से मारा गया। हिंसा में कम से कम 31 लोग अपनी जान गंवा बैठे, हजारों घायल हुए, लेकिन यह सुनिश्चित करने के लिए एक भी दिशानिर्देश जारी नहीं किए गए कि पीड़ितों को चिकित्सा सहायता प्रदान की जाए। ऐसी स्थिति में जब समय महत्वपूर्ण था, मानव जीवन और गरिमा दांव पर थी, देश की सर्वोच्च संस्था ने पक्षकारों को 'उचित मंच' पर जाने को कहा क्योंकि सभी को सुनना 'संभव' नहीं था।

सुप्रीम कोर्ट को सीएए की संवैधानिकता पर निर्णय देना बाकी है, हालांकि उसने अक्टूबर में विरोध प्रदर्शन के 'शाहीन बाग' मॉडल को अवैध घोषित करते हुए एक निर्णय पारित किया था।

फिर भी, यह एक उत्कट आशा है कि उच्चतम न्यायालय विवादास्पद कानून के खिलाफ शीघ्रता से निर्णय लेगा और भविष्य में इस तरह के बड़े प्रकोप को रोकने के लिए दिशानिर्देश जारी करेगा। सरकारों द्वारा धारा 144 सीआरपीसी के उपयोग को विनियमित करना और इस तरह की स्थितियों में एक सख्त प्रक्रिया का पालन करना आवश्यक है।

इसके अलावा, नागरिकों पर अत्यधिक बल के उपयोग के खिलाफ पुलिस बल, सीआरपीएफ, आदि को संवेदनशील बनाना आवश्यक है और यह सुनिश्चित करना चाहिए कि गलत अधिकारियों को सजा हो।

Next Story