Top
Begin typing your search above and press return to search.
स्तंभ

नेकबैंड्स और ब्रॉडबैंड्स: नॉन-ऑफिस स्पेस से वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग में शामिल हो रहे वकीलों के संबंध में

LiveLaw News Network
8 Feb 2021 3:04 PM GMT
नेकबैंड्स और ब्रॉडबैंड्स: नॉन-ऑफिस स्पेस से वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग में शामिल हो रहे वकीलों के संबंध में
x

चेतना वी

मद्रास उच्च न्यायालय का 03-02-2021 को ‌‌‌दिया एक आदेश, जिसमें एक वकील द्वारा कार में बैठकर सुनवाई में शामिल होने के "अदालत के अनादर" जैसा माना गया था, देश भर की अदालतों द्वारा की गई समान टिप्पणियों में से एक है।

हालांकि अदालतें, उचित ही, ऐसे वकीलों के आचरण की ओर इशारा कर चुकी हैं, जिन्होंने अदालत की कार्यवाही में अनौपचारिक कपड़ों में हिस्सा ‌लिया, सड़क पर थूकते पाए गए, धूम्रपान करते दिखे, और यह अदालतों के अनादर जैसा था, हालांकि यह आलेख उन उदाहरणों के संबंध में नहीं है।

यह लेख न्यायालयों की उन स्थानों के संबंध में की टिप्पणियों को संबोधित करता है, जहां से वकीलों को इन कार्यवाहियों में शामिल होना निर्धारित किया गया है, और इन टिप्प‌णियों में वकीलों की परिस्थितियों पर ध्यान क्यों नहीं दिया गया।

अधिकांश वकील विभिन्न ट्रायल कोर्ट, और हाई कोर्ट में प्रै‌क्टिस करते हैं। वे एक अदालत से दूसरे अदालत में जाते हैं, और जब वे अपने आइटमों के लिए समय पर नहीं पहुंच पाते हैं तो अपने सहयोगियों से पासओवर के लिए अनुरोध करते हैं। यदि वे लॉ चैंबर्स में कोई कार्यालय या स्थान नहीं ले सकते हैं, तो वे घर से अपने सभी केस के बंडल लेकर आते हैं। वे बहस और दौड़भाग, दोंनों से अपना जीवन यापन करते हैं।

उदाहरण के लिए, मद्रास उच्च न्यायालय परिसर में अन्य अदालतें भी हैं। इस परिसर में फैमिली कोर्ट्स, लेबर कोर्ट्स, सिटी सिविल कोर्ट्स, स्मॉल कॉजेज़ कोर्ट्स, महिला कोर्ट और सेंट्रल एडमिनिस्ट्रेटिव ट्रिब्यूनल हैं- यह सूची संपूर्ण नहीं है। एक वकील प्रधान न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में एक मामले को समाप्त कर सकता है, और उसके आइटम पहुंचने से पहले उच्च न्यायालय जा सकता है। वकील भी उच्च न्यायालय से पहले अन्य इलाकों में मजिस्ट्रेट कोर्ट में भी मामलों का प्रतिनिधित्व करने के लिए जाते हैं, और उच्‍च न्यायलय के बाद मजिस्ट्रेट अदालतों और अन्य ट्रायल अदालतों में वापस जाते हैं।

केवल एक अदालत तक अपनी प्रैक्टिस को सीमित रखना एक लग्जरी रहा है और रहेगा। ऐसे कई वकील हैं, जिनके पास यह लग्जरी नहीं है, विशेष रूप से पहली पीढ़ी के वकील, जिन्हें ब्रीफ लेने के लिए हर जगह जाना पड़ता है, ताकि वह अपनी जरूरत पूरी कर सकें।

जब इस देश में कोरोना वायरस महामारी का प्रकोप फैला और अदालतों को वर्चुअल होने के लिए मजबूर किया गया, तो कोई भी वास्तव में तैयार नहीं था, जो हमने स्क्रीन पर देखा था। ट्रायल अदालतें बंद थी या वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग के जर‌िए बहुत सीमित कामकाज था और उच्च न्यायालयों ने आभासी रूप से काम करना शुरू कर दिया था।

मद्रास उच्च न्यायालय वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग नियम के अनुसार- "... दूरस्थ उपयोगकर्ता और दूरस्थ साइट पर समन्वयक यह सुनिश्चित करेगा कि दूरस्थ साइट एक शांत स्थान पर स्थित हो, ठीक से सुरक्षित हो और उसके पास पर्याप्त इंटरनेट कवरेज हो। कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान किसी भी तरह की अनुचित गड़बड़ी, यदि पीठासीन न्यायाधीश ऐसा निर्देश देता है, तो कार्यवाही को 'सेवा नहीं किया गया' बना सकती है।

वकीलों और न्यायाधीशों, जो कि कानूनी इतिहास में संभवत: पहली बार है, को अपने घरों के एक हिस्से को अपनी पेशेवर क्षमता में एक दूसरे को दिखाना पड़ा था। ऐसे लोगों के साथ अदालत में छोटी सी बात से, जिन्हें हम मुश्किल से जानते थे, से हमें अचानक से उनके जीवन में देखने का मौका मिला। हम उनके पीछे उनके मृतक पिता की एक तस्वीर देख सकते थे, जबकि वह अदालत को यह समझाने की कोशिश कर रहे थे कि महामारी के बीच में उनकी बात क्यों सुनी जानी चाहिए थी। सीनियर काउंसल जो अपने हाथ की एक लहर के साथ पूरे कोर्ट रूम का ध्यान आकर्षित कर सकते थे, अपनी बात मनवाने के लिए खुद को अनम्यूट करने के लिए संघर्ष कर रहे थे।

वीडियो कांफ्रेंसिंग की सुनवाई के शुरुआती दिनों में, हम देख सकते थे कि हम महिला-बेंच क्लर्क, कार्यालय सहायकों, और वकीलों से- जब अदालत की सुनवाई शुरू होने वाली होती थी, तो उनके रिश्तेदारों द्वारा सुबह की कॉफी और दोपहर के भोजन के बारे में पूछा जा रहा था। उनके साथ रहने वाले लोगों को एहसास नहीं था कि क्या हो रहा है, और हम देख सकते हैं कि जब अदालत में सत्र चल रहा था, तब भी उनके अवैतनिक श्रम की मांग की गई थी। एकाएक, वे एक ही समय में मां, पत्नियां और कोर्ट की कर्मचारी, सभी थीं।

एक और चीज जिसका आप अवलोकन कर सकते थे, वह थी असमानता - आय, उत्तराधिकार और सहायता की असमानता। पीढ़ी दर पीढ़ी वकील रहे घरों में वकीलों के पीछे किताबों की आलमारियां ‌थीं और आप कई दशाकों के एआईआर वॉल्यूम्‍स को देखा जा सकता था। ये पुस्तकें पीढ़ी-दर-पीढ़ी कानूनी ज्ञान, अदालत के ज्ञान और ग्राहकों के साथ सौंपी जाती रही होंगी। अन्य अधिवक्ता, जो फर्मों और लॉ चैम्बर्स के साथ काम करते थे, वे भी स्थिति से बहुत अच्छी तरह से निपट सकते थे। उनमें से कई के पास पहले से ही लैपटॉप और अच्छे कंप्यूटर सिस्टम थे (आसानी से वर्चुअल अदालतों में स्थानांतरित होने में सक्षम थे) और एक सॉफ्टवेयर इंस्टॉल करने के बाद, वे अदालत में पेश होने के लिए तैयार थे।

यह इस देश के हर वकील की कहानी नहीं है।

न्यायाधीशों सहित कई लोगों ने वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग की सुनवाई से निपट पड़ा। पहली बार, वकीलों को यह सोचने के लिए मजबूर किया गया था कि वे कहां से बहस करेंगे। लॉ चैम्बर्स को बंद कर दिया गया, और वकीलों को अपने कार्यालयों और अपने घरों के बीच चुनना पड़ा।

घर का पिछला आंगन ही एकमात्र स्थान था, जहां बच्चे नहीं थे (जिनके पास भी ऑनलाइन कक्षाएं थीं क्योंकि स्कूल बंद थे), रिश्तेदार नहीं थे,(जिनके कार्यालय बंद होने के कारण उन्हें काम पर नहीं जाना पड़ता था), तो जमानत याचिका पर पेड़ों की छांव में बैठकर बहस करनी पड़‌ती थी।

यदि आपके एक बेडरूम के अपार्टमेंट में रसोई घर की एकमात्र खाली जगह थी, तो आप राजस्व विभाग के नोटिस के बारे में अपनी दलीलें वहीं से रखंगे और न्यायालय और पृष्ठभूमि में एग्जहॉस्ट फैन भी देख सकता था।

महामारी ने कानूनी प्रणाली को इतना करीब ला दिया है, जिसकी हमने कभी कल्पना भी नहीं की थी। जाति, वर्ग और आय का विभाजन इस प्रणाली में कभी भी अधिक स्पष्ट नहीं रही है।

इन सुनवाई के परिणामस्वरूप, अगली बार जब हम एक वकील को देखते हैं, तो हमें पता चलता है कि उसके घर में हरे रंग की दीवारें हैं, और उसके पास एक दस साल का बच्चा है, जो लैपटॉप के लिए उसके साथ लड़ा रहा है, जब कि उसका केस चल रहा था। हम पाते हैं कि एक अन्य वकील ने दोपहर 01:00 बजे लंच किया है और यह आमतौर पर गुरुवार को बिरयानी होता है क्योंकि वह अपनी पत्नी को बिना जाने की उसका माइक चालू था, यह बताता है और 100 से अधिक लोग उसे सुन सकते थे।

यह तब काफी बदल गया जब ट्रायल कोर्ट ने काम करना शुरू कर दिया (दिसंबर की शुरुआत के आसपास से), लेकिन हाई कोर्ट अभी भी वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मामलों की सुनवाई कर रहा था - और यह आज तक की स्थिति है। वकीलों को अब अदालत में आना होता है, और वर्चुअल सुनवाई में भी भाग लेना होता। हाई कोर्ट कैंपस में लॉ चैम्बर्स अभी भी बंद हैं।

हमेशा की तरह, पेशा बदलाव के अनुसार ढलता है। हमने अपने फोन पर ऐप इंस्टॉल किए हैं, हमने अपने केस बंडल के साथ, ईयरफोन लेकर चलते हैं। एक कान उच्च न्यायालय पर लगाए हुए, दूसरा यह देखते हुए कि कब हमारा मामला ट्रायल कोर्ट में पहुंचेगा, हमें एक ही समय में दो अदालतों में होना होता था। अब हमें अदालतों के बीच भागना था, और यह भी सुनिश्चित करना था कि हम वीसी की सुनवाई में चूक न करें।

जब तक वकील केवल हाईकोर्ट में प्रैक्टिस करते हों, या कोर्ट कैंपस के ठीक बगल में ऑफिस होता हो, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग सुनवाई के ‌लिए एक कमरे में बैठना और कोर्ट को संबोधित करना संभव नहीं था। इसलिए, हमें एक और काम करना पड़ता था, जो हमें पहले कभी नहीं करना पड़स था - बहस करने के लिए एक जगह खोजना।

एक भीड़ भरे कोर्ट रूम में जज के सामने खड़े होना, जहां हमारे के के कागजात रखने के लिए एक टेबल हो, अब यह विकल्प नहीं था। हमें वह स्पेस बनाना था। हमें प्रेजेंटेबल दिखना था, हमें श्रव्य होना था, और हमें अदालत और हमारे मुवक्किल के लिए वहां होना था।

खाली कोर्ट कॉरिडोर से लेकर बाइक पार्किंग तक- आप वकीलों को उनके फोन के सामने यह कहते सुन सकते थे- "हाँ, माई लॉर्ड, यह सही है। आदेश दिनांक 08-09-2019 का है, इस महामारी के शुरू होने से बहुत पहले का है।"

इस स्थिति में, कारें एक वरदान हैं। यह एक बंद स्थान है। आप बाहर से बैंकग्राउंड के शोर को रोक सकते हैं। आपके बगल की सीट पर आपके केस के कागजात हो सकते हैं और जब चाहें तब तक उस तक पहुंच सकते हैं। हां, आपको उचित न्यायालय पोशाक पहननी होगी और न्यायालय को सम्मानजनक तरीके से संबोधित करना होगा जैसा कि आप एक ‌फिजिकल सुनवाई में करते हैं। कार से सुनवाई में शामिल होना वीसी नियमों का उल्लंघन के बराबर नहीं होगा।

तथ्य यह है कि अधिवक्ता अपनी कार सुनवाई में शामिल हो रहे है, इसलिए नहीं कि वे अदालत का अनादर कर रहे हैं। यह इसलिए भी हो सकता है कि समय पर पहुंचने के लिए उनके पास कोई कार्यालय न हो, या उनके पास कोई कार्यालय हो ही न। मैं सम्मानपूर्वक यह बताना चाहूंगी कि जिस कारण से उन्हें अपनी कारों से सुनवाई में पेश होना पड़ता है, वह उनका न्यायालय के साथ-साथ उनके मुवक्किल के लिए अदालत में पेश होने की जिम्‍मेदारी है, जब उनका केस बुलाया जाता है और उन्हें अपनी प्रस्तुतियां करनी होती हैं।

इस प्रकार मैं आलेख के निष्कर्ष पर आती हूं।

पहली पीढ़ी के अधिवक्ताओं के लिए, जिनके पास अदालत के पास एक ऑफिस होने का लाभ नहीं है (यह देखते हुए कि लॉ चैंबर्स बंद हैं), उन्हें अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए कई अदालतों में प्रैक्टिस करनी पड़ती है- उनके पास क्या विकल्प हैं?

ये ऐसी परिस्थितियां हैं, जहां पूरे सिस्टम को, और न केवल वकीलों को स्वीकार करने, ढलने और पेश होने के लिए मजबूर किया गया है। न्यायपालिका मौके के अनुसार कुशल तरीके से आगे बढ़ी है। न्यायाधीश, उनके सहायक, न्यायालय क्लर्क, बेंच क्लर्क, रिकॉर्ड क्लर्क, आशुलिपिक, कॉपी अनुभाग, फाइलिंग सेक्शन, ऑन-साइट वीसी समन्वयक, और प्रशासनिक कर्मचारी - उन्होंने न्यायालयों का कामकाज सुनिश्चित करने के लिए महामारी में लगातार काम किया है।

वकीलों यदि कारों से, या सीढ़ियों से सुनवाई में शामिल होते हैं तो अदालत का सम्मान गिरता नहीं है। वास्तव में, यह इस बात का प्रतीक है कि अदालत के सामने पेश होना कितना महत्वपूर्ण है कि वे ऐसा करने के लिए किसी भी माध्यम का उपयोग कर रहे हैं। अगर विकल्प हो तो हम सभी शानदार कंप्यूटर प्रणाली से सुसज्ज‌ित कमरों से सुनवाई में शामिल होना चाहेंगे, जिसमें हमारे पीछे किताबों की अलमारियां हों, लेकिन यह लग्जरी सभी सभी के पास नहीं है।

जब अदालतें फिजिकल सुनवाई फिर से शुरू करती हैं, तो हम सभी फिर से दौड़ना शुरू करेंगे और उच्च न्यायालय में प्रवेश करेंगे, हांफते रहेंगे, लेकिन जगह के लिए आभारी होंगे। और जब तक ऐसा नहीं होता, मुझे उम्मीद है कि मेरे सभी साथी अदालत, मुव‌क्किलों और खुद पर निर्भर लोगों के प्रति अपनी जिम्मेदार‌ियों को पूरी करने के लिए पर्याप्त इंटरनेट कवरेज के साथ जगह खोज सकते हैं।

(चेतना चेन्नई में प्रैक्टिस करती हैं। वह फैमिल कोर्ट्स, ट्रायल कोर्ट्स और मद्रास हाईकोर्ट में मामलों को देखती हैं। उनकी ई-मेल आईडी advchethana@gmail.com है)

Next Story