Top
Begin typing your search above and press return to search.
मुख्य सुर्खियां

सुप्रीम कोर्ट ने शादीशुदा जोड़े को दोस्त के रूप में एक दूसरे से अलग होने की अनुमति दी; अलग होने के लिए Cooling Off अवधि की अनिवार्यता समाप्त की [आर्डर पढ़े]

LiveLaw News Network
2 Oct 2018 2:18 PM GMT
सुप्रीम कोर्ट ने शादीशुदा जोड़े को दोस्त के रूप में एक दूसरे से अलग होने की अनुमति दी; अलग होने के लिए Cooling Off अवधि की अनिवार्यता समाप्त की [आर्डर पढ़े]
x

सुप्रीम कोर्ट ने एक जोड़े को तलाक देने के लिए आवश्यक अनिवार्य अंतराल की अवधि की जरूरत को माफ कर दिया और एक मित्र के रूप में अलग होने की उन्हें अनुमति दे दी।

न्यायमूर्ति कुरियन जोसफ और न्यायमूर्ति संजय किशन कौल की पीठ ने कहा, “पति और पत्नी दोनों हमारे सामने उपस्थित हैं, जो कि पर्याप्त रूप से शिक्षित हैं। हमने उनके साथ लंबी बात की है। हम इस बारे में आश्वस्त हैं कि इन्होंने एक दोस्त के रूप में अलग होने का निर्णय समझ बूझकर लिया है”।

कोर्ट ने तलाक के लिए पहले आवेदन और दूसरे आवेदन के बीच के समय की अनिवार्यता को समाप्त करते हुए कोर्ट ने कहा कि दोनों पक्षों को छह महीने तक प्रतीक्षा करने के लिए कहने का कोई मतलब नहीं है। इस तरह, प्रथम अपील और दूसरे अपील के बीच की अवधि को समाप्त किया जाता है”।

यह आदेश ट्रान्सफर याचिका पर दिया गया है जिसने इस मामले को नई दिल्ली के कोर्ट से गुजरात ट्रान्सफर करने का आग्रह किया था। उनके आवेदन के लंबित रहने के दौरान दोनों ने आपसी सहमति से मामले को सुलझा लिया। कोर्ट ने समझौते के अनुरूप पति के खिलाफ सभी मामलों को समाप्त कर दिया।

एक साल पहले सुप्रीम कोर्ट के न्यायमूर्ति एके गोयल और यूयू ललित की पीठ ने एक मामले में अपने फैसले में कहा था कि हिन्दू विवाह अधिनियम की धारा 13B(2) के तहत अगर तलाक आपसी सहमति से होती है तो छह महीने की cooling offअवधि की जरूरी नहीं है। इस फैसले के पहले सुप्रीम कोर्ट अनुच्छेद 142 का सहारा लेता था।


 
Next Story